भारत

कोच के आरोपों पर क्रिकेटर मिताली राज ने कहा, यह मेरे जीवन का सबसे काला दिन

भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच रमेश पोवार ने क्रिकेटर मिताली राज पर टी20 विश्व कप में बल्लेबाज़ी क्रम को लेकर संन्यास की धमकी देने और टीम में अव्यवस्था फैलाने आरोप लगाया था. मिताली को टी20 विश्व कप के सेमीफाइनल से पहले टीम से बाहर कर दिया गया है.

मिताली राज. (फोटो: रॉयटर्स)

मिताली राज. (फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: टी20 विश्व कप में बल्लेबाज़ी क्रम को लेकर संन्यास की धमकियों, नखरों और टीम में अव्यवस्था फैलाने के भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच रमेश पोवार के आरोपों पर जवाब देते हुए वरिष्ठ क्रिकेटर मिताली राज ने कहा, ‘यह मेरे जीवन का सबसे काला दिन है.’

मिताली ने पहले पोवार पर आरोप लगाया था कि वह उन्हें बर्बाद करना चाहते थे जबकि कोच ने टी20 विश्व कप पर अपनी रिपोर्ट में टूर्नामेंट के दौरान उनके रवैये पर सवाल उठाए.

मालूम हो कि महिला टी20 विश्व कप में भारत को सेमीफाइनल में इंग्लैंड ने आठ विकेट से हराया और उसी मैच में मिताली को बाहर किए जाने पर विवाद उठा था.

मिताली ने पोवार के आरोपों पर अपने ट्विटर पेज पर लिखा, ‘मैं इन आरोपों से बहुत दुखी और आहत हूं. खेल के प्रति मेरी प्रतिबद्धता और देश के लिए 20 साल खेलने के दौरान मेरी मेहनत, पसीना सब बेकार गया.’

उसने कहा, ‘आज मेरी देशभक्ति पर संदेह किया जा रहा है, मेरे हुनर पर सवाल उठाए जा रहे हैं और मुझ पर कीचड़ उछाला जा रहा है. यह मेरे जीवन का सबसे काला दिन है. ईश्वर मुझे शक्ति दे.’

मालूम हो कि 40 वर्षीय पोवार का अंतरिम कार्यकाल शुक्रवार को समाप्त हो जाएगा.

मिताली और कोच रमेश पोवार के बीच के इस विवाद ने भारतीय महिला क्रिकेट को झकझोर दिया है. मिताली ने पहले पोवार को प्रशासकों की समिति की सदस्य डायना एडुल्जी पर पक्षपात का आरोप लगाया. उसने कहा कि डायना ने उनके ख़िलाफ़ अपने पद का दुरुपयोग किया जबकि पोवार ने उन्हें अपमानित किया.

भारतीय महिला टीम की सबसे सीनियर खिलाड़ी मिताली राज ने बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी और महाप्रबंधक (क्रिकेट संचालन) सबा करीम को भेजे गए ईमेल में पोवार पर आरोप लगाया था कि उन्हें वेस्टइंडीज में खेले गए विश्व कप टी20 के दौरान पोवार ने अपमानित किया था तथा टीम से बाहर किए जाने पर वह रो पड़ी थीं.

दूसरी ओर पोवार ने अपनी दस पन्ने की रिपोर्ट में विस्तार से जानकारी दी है. इनमें से पांच पन्नों में मिताली के बारे में लिखते हुए उन्होंने कहा कि उसने पारी की शुरुआत करने का मौका नहीं दिए जाने पर दौरा बीच में छोड़ने की धमकी दी थी. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि वह (मिताली) टीम के लिए नहीं बल्कि निजी रिकॉर्ड के लिए खेलती हैं.

बीते 28 नंवबर को दिए गए बयान में कोच रमेश पोवार ने बुधवार को स्वीकार किया कि उनके सीनियर खिलाड़ी मिताली राज के साथ ‘तनावपूर्ण’ संबंध हैं लेकिन स्पष्ट किया कि विश्व टी20 सेमीफाइनल में उन्हें बाहर करना पूरी तरह से क्रिकेट से जुड़ा था.

बीसीसीआई सूत्रों ने गोपनीयता की शर्त पर एक अधिकारी ने पोवार के हवाले से बताया है, ‘उन्होंने (पोवार) कहा कि ख़राब स्ट्राइक रेट के कारण उन्हें इंग्लैंड के ख़िलाफ़ मैच से बाहर किया गया. इसके अलावा टीम प्रबंधन पिछले मैच में जीत दर्ज करने वाली टीम को बरक़रार रखना चाहता था.’

पोवार से पूछा गया कि आयरलैंड और पाकिस्तान के खिलाफ मैचों में मिताली का स्ट्राइक रेट आड़े क्यों नहीं आया तो इसका उनके पास कोई जवाब नहीं था. मिताली ने इन दोनों मैचों में अर्धशतक जमाए और उन्हें प्लेयर आॅफ द मैच चुना गया.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)