भारत

नरेंद्र मोदी अमीरों को पैसा देते हैं, कांग्रेस ग़रीबों को पैसा देगीः राहुल गांधी

एक चुनावी सभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि न्यूनतम आय योजना के बारे में कहा कि हमने मनरेगा-1 के जरिए 14 करोड़ भारतीयों को ग़रीबी से बाहर निकाला था. यह मनरेगा का दूसरा चरण है, जहां हम 25 करोड़ लोगों को ग़रीबी से बाहर निकालेंगे.

अहमदाबाद में मंगलवार को एक जनसभा को संबोधित करते कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. (फोटो साभार: ट्विटर/@INCIndia)

(फोटो साभार: ट्विटर/@INCIndia)

नई दिल्लीः कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने न्यूनतम आय योजना (न्याय) को गरीबी पर पार्टी की सर्जिकल स्ट्राइक करार देते हुए हिंदुस्तान से गरीबी को खत्म करने की बात कही. पार्टी की जनसंकल्प रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, ‘हमने फैसला किया है नरेंद्र मोदी अमीरों को पैसा देते हैं तो कांग्रेस पार्टी गरीबों को पैसा देगी.’

उन्होंने आगामी लोकसभा चुनाव को दो विचारधाराओं की लड़ाई बताया. यहां पार्टी की जनसंकल्प रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने पार्टी की ‘न्याय योजना’ का जिक्र किया.

मालूम हो कि सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष ने कांग्रेस कार्य समिति के बाद न्यूनतम आय योजना की घोषणा की थी. उन्होंने कहा था कि अगर उनकी पार्टी सरकार में आती है, तो देश के हर गरीब परिवार को सालाना 72 हजार रुपये दिए जाएंगे.

राहुल गांधी ने कहा था, ‘पिछले पांच वर्षों में देश की जनता को बहुत मुश्किलें सहनी पड़ी हैं. हमने निर्णय लिया है और हम हिंदुस्तान के लोगों को न्याय देने जा रहे हैं. यह न्याय न्यूनतम आय गारंटी है. ऐसी योजना दुनिया में कहीं नहीं है.’

उन्होंने कहा था कि इससे पांच करोड़ परिवारों यानी 25 करोड़ लोगों को फायदा होगा.

उन्होंने कहा, ‘हम 12,000 रुपये महीने की आय वाले परिवारों को न्यूनतम आय गारंटी देंगे. कांग्रेस गारंटी देती है कि वह देश में 20 फीसदी सबसे गरीब परिवारों में से प्रत्येक को हर साल 72,000 रुपये देगी. यह पैसा उनके बैंक खाते में सीधा डाल दिया जाएगा.’

उन्होंने इसे दुनिया की सबसे बड़ी न्यूनतम आय योजना करार देते हुए कहा कि यह गरीबी पर आखिरी हमला है. यह योजना चरणबद्ध तरीके से चलाई जाएगी.

मंगलवार की चुनावी सभा में उन्होंने कहा, ‘गर्व से आपको बताता हूं कि 2019 में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने के तुरंत बाद हिंदुस्तान की न्यूनतम आय सीमा 12,000 रुपये प्रति माह होगी.’

उन्होंने कहा, ‘जो भी इस आय सीमा से नीचे है चाहे वे किसी भी धर्म, जाति के हो या किसी भी प्रदेश के हो, कांग्रेस पार्टी उनके बैंक खातों में सीधा पैसा डालेगी और उनकी कम से कम आमदनी को 12,000 रुपये करेगी.’

राहुल ने कहा, ‘गरीबी पर यह कांग्रेस पार्टी का सर्जिकल स्ट्राइक है. हम अब हिंदुस्तान से गरीबी को मिटा देंगे. उन्होंने गरीबों को मिटाने का काम किया है और हम अब गरीबी मिटाने काम शुरू कर देंगे.’

उन्होंने कहा, ‘संप्रग सरकार के दस साल के कार्यकाल में 14 करोड़ लोग गरीबी रेखा से बाहर आए. 25 करोड़ लोग अब भी गरीब हैं और 21वीं सदी के हिंदुस्तान में 25 करोड़ लोग अब भी गरीबी रेखा से नीचे हैं यह पूरे देश के लिए शर्म की बात है.’

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘हम छह महीने से विचार कर रहे थे कि गरीबी के खिलाफ किस तरह से युद्ध शुरू करें. हम हिंदुस्तान से गरीबी को कैसे मिटाएं. पिछले पांच साल में नरेंद्र मोदी ने अनिल अंबानी से लेकर मेहुल चोकसी और नीरव मोदी एक के बाद एक अमीर को पैसा दिया. 15 लोगों का साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया. जहां देखो आपकी जमीन छीनकर ले जाते हैं, किसानों का एक रुपया माफ नहीं करते. हमने फैसला किया कि नरेंद्र मोदी अमीरों को पैसा देते हैं तो कांग्रेस पार्टी गरीबों को पैसा देगी.’

राहुल ने लोकसभा चुनाव को विचारधाराओं की लड़ाई बताते हुए कहा, ‘हमारे सामने चुनाव हैं और दो विचारधाराओं की लड़ाई है. एक तरफ भाजपा, नरेंद्र मोदी और आरएसएस की विचारधारा… देश को बांटने की विचारधारा नफरत फैलाने की विचारधारा तो दूसरी कांग्रेस पार्टी, आप हम सब लोग… भाईचारा प्यार और जोड़ने की विचारधारा. लड़ाई इन दोनों के बीच है.’

राहुल ने कहा, ‘पिछले पांच साल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो हिंदुस्तान बनाने की कोशिश कर रहे हैं. एक अमीरों का हिंदुस्तान, प्राइवेट जहाज वाला हिंदुस्तान अनिल अंबानी जैसे लोगों का हिंदुस्तान तो दूसरा किसानों का छोटे दुकानदारों का व्यापारियों का मजदूरों का बेरोजगार युवाओं का हिंदुस्तान. हमारा कहना है कि इस देश का एक झंडा है तो एक हिंदुस्तान होना चाहिए। उसमें सब लोगों के लिए जगह होनी चाहिए.’

उन्होंने कहा, ‘नरेंद्र मोदी के हिंदुस्तान में सिर्फ अमीर लोग सपना देख सकते हैं.’

 

राहुल ने कहा था, ‘यह बहुत ही प्रभावशाली और सोची समझी योजना है. हमने योजना पर कई अर्थशास्त्रियों से विचार विमर्श किया है. पूरा आकलन कर लिया गया है. सब कुछ तय कर लिया गया है.

कांग्रेस अध्यक्ष का दावा है कि न्यूनतम आय रेखा 12,000 रुपये मासिक है और इस योजना का लाभ इससे कम आय वालों को मिलेगा.

कांग्रेस ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) के जरिए काम करने के अधिकार योजना की पेश की थी और अब इस नई योजना को राहुल गांधी ने मनरेगा-2 बताते हुए कहा, ‘हमने मनरेगा-1 के जरिए 14 करोड़ भारतीयों को गरीबी से बाहर निकाला था. यह दूसरा चरण है, जहां हम 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘सरकार बनने के दो सालों में सभी लाभार्थी इसके दायरे में आ जाएंगे.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)