भारत

उज्जैन में स्वयंभू गोरक्षकों ने गाय की पूंछ काटने के आरोप में युवक को बेरहमी से पीटा

कथित गोरक्षकों का आरोप है कि युवक गाय की ख़रीद-फरोख़्त से जुड़ा है, इसलिए उसे पीटा गया, वहीं पुलिस इसे पैसों के लेन-देन का मामला बता रही है.

Cow

देशभर से कथित गोरक्षकों द्वारा गोरक्षा के नाम पर की जा रही हिंसा के मामले थमते दिखाई नहीं दे रहे हैं. हालिया मामला मध्य प्रदेश के उज्जैन का है, जहां एक युवक को कथित गोरक्षकों द्वारा बुरी तरह पीटे जाने का वीडियो सामने आया है. एक अधिकारी ने बताया कि यह घटना उज्जैन के थाना जीवाजीगंज क्षेत्र में गुमानदेव मंदिर के पास पीपलीना के चौराहे पर शनिवार शाम को हुई. जहां इन स्वयंभू गोरक्षकों ने मिलकर एक निहत्थे युवक को गाय की पूंछ काटने के आरोप में बेल्ट और लात-घूंसों से सरेआम पीटा.

हालांकि, जीवाजीगंज पुलिस थाना प्रभारी ओपी मिश्रा के मुताबिक मामला आपस में पुराने पैसों के लेन-देन का है, जिसकी वजह से मौका पाते ही इन युवकों के समूह ने अकेले युवक को बुरी तरह पीट दिया.

हालांकि इस घटना का वीडियो देखने से स्पष्ट होता है कि वे इस युवक को गाय के नाम पर बेल्ट एवं लात-घूंसों से सरेआम पीट रहे हैं, लेकिन पुलिस का दावा है कि यह पैसे के लेन-देन का मामला है.

उन्होंने कहा कि पता चला है कि जिसे पीटा जा रहा है, उस लड़के का नाम अपुडा मालवीय है और वह उज्जैन के निवाडी तिलकेश्वर का रहने वाला है.

साथ ही उन्होंने बताया कि पीटने वाले व्यक्तियों की पहचान चेतन सांखला, विकास उर्फ भूरा, नीलेश सांखला एवं शुभम के रूप में हुई है और उनके खिलाफ आईपीसी की 323, 294 एवं 506 धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. पुलिस ने चेतन एवं भूरा को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अन्य फरार हैं और उनकी तलाश जारी है.

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार उज्जैन के एसपी एमएस वर्मा ने बताया कि पुलिस को पता चला है कि एक रेस्त्रां में काम करने वाला यह युवक ड्रग एडिक्ट है. उन्होंने कहा, ‘हो सकता है कि लड़के को कहीं से गाय की पूंछ मिल गई हो, ऐसा लगता तो नहीं कि उसने किसी गाय को मारा होगा.’ पुलिस का यह भी कहना है कि प्रारंभिक जांच के अनुसार ये आरोपी उज्जैन के किसी गोरक्षा दल से संबद्ध नहीं पाए गए हैं.

वहीं एनडीटीवी से बात करते हुए पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए एक आरोपी चेतन ने कहा, ‘ये (अपुडा) गाय को बेचने का काम करता है. पहले भी हमने एक ट्रैक्टर को पकड़ा था तब ये भाग गया था. आज ये मिला तो बाकी लोग इसे मार रहे थे तो मैंने भी मारा. हमें यहां लाकर हमारे ख़िलाफ़ प्रकरण दर्ज कर लिया है. ये (अपुडा) ज़मानत पर छूटेगा तब भी यही काम करेगा.’

उधर अस्पताल में भर्ती पीड़ित ने अपना पक्ष बताते हुए कहा, ‘मैं काम के लिए गया था लेकिन वो बहुत कम पैसे दे रहे थे. मैं जब वापस लौटने लगा तो चेतन और भूरा ने मुझे बहुत मारा, फिर कमरे में बंद कर दिया. बाद में उनके और दोस्त आए और उन्होंने भी मुझे मिलकर मारा.

पुलिस ने बताया कि इस संबंध में अपुडा मालवीय की शिकायत पर मामला दर्ज किया जा चुका है है और मामले की विस्तृत जांच जारी है.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)