Jharkhand Vikas Morcha

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ उनके मंत्री डा. रामेश्वर उरांव, आलमगीर आलम एवं सत्यानंद भोक्ता.

झारखंड: पहली कैबिनेट बैठक में हेमंत सरकार ने वापस लिए पत्थलगड़ी राजद्रोह मामले

पत्थलगड़ी आंदोलन की शुरुआत होने के बाद कई ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि उन्हें ‘पुलिस क्रूरता’ का सामना करना पड़ा. 172 लोगों के खिलाफ अन्य मामलों के साथ राजद्रोह के कुल 19 मामले दर्ज किए गए थे. सभी मामलों को वापस लेने का फैसला किया गया है.

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन. (फोटो: ट्विटर)

झारखंड: हेमंत सोरेन 11वें मुख्यमंत्री बने, मौजूदगी दर्ज करा विपक्षी नेताओं ने दिखाई एकता

रांची के मोरहाबादी मैदान में झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन 2013 के बाद दूसरी बार झारखंड के मुख्यमंत्री बने हैं. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डा. रामेश्वर उरांव और कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम एवं राष्ट्रीय जनता दल के एक मात्र विधायक सत्यानंद भोक्ता ने भी मंत्री पद की शपथ ली.

Palamu: Prime Minister Narendra Modi with Jharkhand Chief Minister Raghubar Das during an election campaign rally for the State Assembly polls, in Palamu, Monday, Nov. 25, 2019. (PTI Photo) (PTI11_25_2019_000123B)

क्या झारखंड चुनाव परिणाम नागरिकता क़ानून और एनआरसी के ख़िलाफ़ जनमत संग्रह है?

साल 2000 में झारखंड राज्य गठन के बाद ये पहला चुनाव है जब किसी ग़ैर-भाजपा गठबंधन को स्पष्ट बहुमत मिला है. ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि झारखंड मुक्ति मोर्चा की अगुवाई वाला गठबंधन क्या एक स्थायी सरकार दे पाएगा.

मध्य प्रदेश में संविधान बचाओ यात्रा निकालते मुख्यमंत्री कमलनाथ. (फोटो: ट्विटर)

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में नागरिकता कानून लागू करने से किया इनकार

संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में मध्य प्रदेश कांग्रेस ने बुधवार को कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की संविधान बचाओ यात्रा निकाली. कमलनाथ ने कहा कि एनपीआर को हम लाना चाहते हैं, लेकिन इसके साथ एनआरसी को जोड़कर नहीं.

हेमंत सोरेन. (फोटो: पीटीआई)

झारखंड के हितों के ख़िलाफ़ रहा तो नागरिकता क़ानून और एनआरसी को लागू नहीं करेंगे: हेमंत सोरेन

झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने मंगलवार की रात राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश किया. 29 दिसंबर को लेंगे झारखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ.

Jharkhand-Interview-Master.00_23_40_04.Still002-1200x600

झारखंड में भाजपा क्यों हारी?

वीडियो: झारखंड विधानसभा चुनाव में सत्ताधारी भाजपा को करारी शिकस्त देते हुए झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन बड़ी जीत हासिल करने की ओर बढ़ रहा है. इस मुद्दे पर द वायर के डिप्टी एडिटर अजॉय आशीर्वाद से विशाल जायसवाल की बातचीत.

New Delhi: A workers carries cut-outs of Prime Minister Narendra Modi and Union Home Minister Amit Shah on the eve of  BJP rally at Ramlila Maidan in New Delhi, Saturday, Dec. 21, 2019. (PTI Photo)(PTI12_21_2019_000185B)

झारखंड में मिली हार के साथ भाजपा ने पिछले एक साल में गंवाए पांच राज्य

झारखंड हारने के बाद केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा का शासन देश के मात्र 35 प्रतिशत हिस्से तक सिमट गया है, जबकि 2017 में देश के 71 प्रतिशत हिस्से पर उसका नियंत्रण था. लोकसभा चुनाव में भाजपा का वोट प्रतिशत झारखंड में 55 प्रतिशत से अधिक था तो हरियाणा में 58 प्रतिशत था. इन दोनों राज्यों में विधानसभा चुनावों में उसका वोट प्रतिशत गिरकर क्रमश: 33 एवं 36 प्रतिशत पर आ गया.

Ranchi: Jharkhand Mukti Morcha (JMM) working president Hemant Soren addresses a press conference as JMM and Congress alliance lead in the Jharkhand Assembly election results, in Ranchi, Monday, Dec. 23, 2019. (PTI Photo)

झारखंड चुनाव: झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन ने 47 सीटें जीतकर स्पष्ट बहुमत किया हासिल

झारखंड विधानसभा की 81 सीटों के चुनावों के अंतिम परिणाम के अनुसार, जहां भाजपा को सिर्फ 25 सीटें प्राप्त हुईं, वहीं विपक्षी गठबंधन को कुल 47 सीटें प्राप्त हुईं. गठबंधन में 30 सीटें हासिल कर झामुमो राज्य में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी, वहीं कांग्रेस को 16 और राजद को एक सीट प्राप्त हुई.

झारखंड विपक्षी गठबंधन के मुख्यमंत्री उम्मीदवार हेमंत सोरेन और भाजपा के मुख्यमंत्री उम्मीदवार रघुबर दास. (द वायर)

झारखंड चुनाव परिणाम लाइव: कांग्रेस-झारखंड मुक्ति मोर्चा गठबंधन ने बनाई मजबूत बढ़त, भाजपा पीछे

चुनाव आयोग के अनुसार, शुरुआती रूझानों में झारखंड मुक्ति मोर्चा-कांग्रेस-राष्ट्रीय जनता दल का गठबंधन 41 सीटों पर आगे चल रहा है जबकि भाजपा को 28 सीटों पर बढ़त हासिल है. राज्य में सरकार बनाने के लिए किसी दल या गठबंधन को 41 सीटों की जरूरत होगी.

Bundu: A security jawan guards as people wait in queues to cast their votes at a polling station during the second phase of Jharkhand Assembly elections at Bundu, 45 kms from Ranchi, Saturday, Dec. 7, 2019. (PTI Photo) (PTI12_7_2019_000029B)

झारखंड विधानसभा: दूसरे चरण में शाम पांच बजे तक 62.40 प्रतिशत मतदान, एक व्यक्ति की मौत

झारखंड के गुमिया ज़िले के सिसई में सुरक्षा बलों और ग्रामीणों की झड़प के दौरान गोलीबारी में एक ग्रामीण की मौत हो गई. दूसरे चरण के चुनाव में मुख्यमंत्री रघुबर दास समेत 260 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. जमशेदपुर पूर्वी सीट पर मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ उनकी ही सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे सरयू राय चुनाव लड़ रहे हैं.

Latehar: People wait in queues to cast their votes at a polling station during the first phase of Jharkhand Assembly elections in Maoist-hit Latehar district, Saturday, Nov. 30, 2019. (PTI Photo)    (PTI11_30_2019_000018B)

झारखंड विधानसभा चुनाव: पहले चरण में 13 सीटों के लिए 62.87 प्रतिशत मतदान

चुनाव अधिकारियों ने बताया कि कुछ स्थानों पर हिंसा की मामूली वारदात देखने को मिली, हालांकि कुल मिलाकर मतदान शांतिपूर्ण रहा. अभी दूरदराज़ के कई नक्सल प्रभावित इलाकों से अंतिम रिपोर्ट आना बाकी है. वहां की रिपोर्ट आने के बाद मतदान का प्रतिशत और बढ़ने की संभावना है.

लोक जनशक्ति पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान. (फोटो: एएनआई)

केंद्र में भाजपा की सहयोगी लोजपा झारखंड में अकेले चुनाव लड़ेगी, 50 सीटों पर उतारेगी उम्मीदवार

बिहार में भाजपा की एक अन्य सहयोगी जदयू ने भी झारखंड चुनाव में अकेले उतरने का ऐलान किया है. वहीं, झारखंड में भाजपा की सहयोगी एजेएसयू ने भी भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ अपने उम्मीदवार उतारने का एकपक्षीय ऐलान कर दिया है.

New Delhi: Chief Election Commissioner Sunil Arora speaks during a press conference to announce the schedule for Jharkhand Assembly polls, at Nirvachan Sadan in New Delhi, Friday, Nov. 1, 2019. (PTI Photo/Kamal Kishore)  (PTI11_1_2019_000212B)

झारखंड में पांच चरणों में होगा मतदान, 23 दिसंबर को होगी मतगणना

राज्य में 30 नवंबर को पहले चरण, सात दिसंबर को दूसरे चरण, 12 दिसंबर को तीसरे चरण, 16 दिसंबर को चौथे और 20 दिसंबर को पांचवें एवं आखिरी चरण का मतदान होगा.

(फोटो: रॉयटर्स)

झारखंड: क्या लोकसभा चुनाव में भाजपा को मिली क़ामयाबी से विपक्ष सबक ले पाएगा?

झारखंड में महागठबंधन और जन विरोध के बावजूद भाजपा बड़ी जीत हासिल करने में कामयाब रही. राज्य गठन के बाद हुए लोकसभा चुनावों के वोट शेयर का आकलन किया जाए, तो यह स्पष्ट होता है कि झारखंड लंबे समय से इस परिणाम की ओर बढ़ रहा था. अब सवाल ये है कि क्या वे लोकसभा चुनाव में मिली हार के अनुभव से सीखते हुए चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हैं.

Jamshedpur: Chief Minister of Jharkhand Raghubar Das addresses the gathering during reopening ceremony of Chapri Rakha Mines at Jadugora area near Jamshedpur, Saturday, Feb 2, 2019. (PTI Photo) (PTI2_2_2019_000196B)

झारखंड: एनडीए ने 12 सीटों पर जीत दर्ज की, शिबू सोरेन, बाबूलाल, सुबोधकांत जैसे दिग्गज हारे

चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक, राज्य की 14 सीटों में से भाजपा 11, आजसू एक, कांग्रेस एक और झारखंड मुक्ति मोर्चा एक सीट जीती है.

31st March 2019: From (Left to Right) Rashtriya Janta Dal (RJD) State President,Gautam Sagar Rana,Congress State President,Ajoy Kumar, Jharkhand Vikas Morcha (JVM) Chief,Babulal Marandi,Jharkhand Mukti Morcha (JMM) Working President,Hemant Soren,and Congress MLA-Alamgir Alam,during Mahagathbandhan meeting for manifesto and joint campaigning  (Lok Sabha Election-2019),in Ranchi on Sunday, March 31,2019.Photo by Mukesh Kumar Bhatt

Mukesh Kumar Bhatt
c/o-Lakshman Rai
Kailashpuri,Manitola
Pathar Road,Hinoo,
Doranda,Ranchi 
Jharkhand-834002
Phone No-
09304878585

झारखंड में महागठबंधन ने किसी अल्पसंख्यक को टिकट क्यों नहीं दिया?

झारखंड की सभी 14 लोकसभा सीटों के लिए महागठबंधन में शामिल कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा और राजद ने किसी भी अल्पसंख्यक चेहरे को चुनाव मैदान में नहीं उतारा है.

Ranchi: Jharkhand Chief Minister Raghubar Das speaks during Jan-Sawand 'Sidhi Baat' Programme at Soochna Bhavan in Ranchi, on Tuesday. PTI Photo(PTI4_24_2018_000055B)

क्या भाजपा ने झारखंड में जेवीएम के छह विधायकों को दल बदलने के लिए दिए थे 11 करोड़ रुपये?

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने आरोप लगाया है कि उनकी पार्टी के छह विधायकों को भाजपा में शामिल होने के लिए 11 करोड़ रुपये दिए गए थे. वहीं भाजपा ने आरोपों को निराधार बताते हुए मरांडी के ख़िलाफ़ मानहानि का केस करने की चेतावनी दी.