भारत

पश्चिम बंगाल: मैनहोल की सफाई के दौरान चार मज़दूरों की मौत, तीन घायल

कोलकाता के कूधघाट इलाके में एक क्लब के पास ड्रेनेज सिस्टम के मरम्मत के दौरान यह घटना हुई. सात मज़दूर मेनहोल की सफाई के लिए उतरे थे. तीन घायल श्रमिकों का इलाज अस्पताल में चल रहा है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

कोलकाता: कोलकाता के कूधघाट में मैनहोल की सफाई करने के लिए उतरे सात श्रमिकों में से चार की मौत हो गई और तीन अन्य की हालत गंभीर है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, यह घटना बृहस्पतिवार दोपहर 12:30 बजे ऐकायतन क्लब के पास पूर्बा पुटिआरी पंप हाउस में भूमिगत ड्रेनेज सिस्टम के निर्माण के दौरान घटी.

बचाव टीम द्वारा मैनहोल से कुल सात मजदूरों को निकाला गया था. उनमें से दो को एसएसकेएम अस्पताल और दो अन्य को बाघाजतीन अस्पताल में मृत घोषित कर दिया. तीन अन्य श्रमिकों को चोटें आई हैं, उनका इलाज बाघाजतीन अस्पातल में चल रहा है.

मृतकों की पहचान जहांगीर आलम (22), लियाकत अली (20), साबिर हुसैन और मोहम्मद आलमगीर के रूप में की गई है. वे सभी पश्चिम बंगाल के मालदा जिले के रहने वाले थे.

रिपोर्ट के मुताबिक रिजेंट पार्क पुलिस ने बताया कि जब श्रमिक मैनहोल में उतरे थे तो बहाव कम करने के लिए पानी की आपूर्ति बंद नहीं की गई थी. सूत्रों ने बताया कि चारों मजदूर पानी के प्रवाह में बह गए थे.

स्थिति का जायजा लेने के लिए पश्चिम बंगाल के मंत्री अरूप विश्वास भी मौके पर पहुंचे थे.

दैनिक जागरण के मुताबिक ड्रेनेज सिस्टम में पाइप जोड़ने और मरम्मत का काम चल रहा था. सभी सातों श्रमिक मैनहोल की सफाई करने के लिए उतरे थे.

उनके अंदर जाने के बाद करीब एक घंटे तक अंदर से कोई आवाज नहीं आने के बाद बाहर खड़े ठेकेदार ने आवाज दी, लेकिन अंदर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई. इसके बाद रिजेंट पार्क थाना की पुलिस को इसकी सूचना दी गई.

उसके बाद फायर ब्रिगेड और आपदा प्रबंधन की टीमें मौके पर पहुंचीं और सातों श्रमिकों को अचेत अवस्था में बाहर निकाला.

इलाके के उपायुक्त रशीद मुनीर खान ने बताया कि रिजेंट पार्क पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. मैनहोल में सफाई के दौरान कैसे वे अचेत हो गए, विशेषज्ञों से इसकी भी जांच कराई जा रही है.