राजनीति

कांग्रेस ने संभावित उम्मीदवारों से सहयोग राशि के रूप में मांगे 11 हज़ार रुपये

उत्तर  प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने पिछले सप्ताह दो दिन चुनाव से जुड़े मामलों पर विचार-विमर्श किया था. इसके बाद उम्मीदवारों से आवेदन-पत्र दाख़िल करने का एक आदेश पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जारी किया है.

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू. (फाइल फोटो: पीटीआई)ajay kuy

लखनऊ: उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए संभावित उम्मीदवारों से प्रत्येक आवेदन के साथ 11,000 रुपये सहयोग राशि के रूप में मांगे हैं.

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने मंगलवार को इस संबंध में एक आदेश जारी किया.

आदेश में कहा गया है, ‘सभी आवेदक अपना आवेदन जिला या राज्य स्तर पर अधिकृत व्यक्तियों के पास 11 हजार की ‘सहयोग राशि’ के साथ जमा करें. यह राशि 25 सितंबर, 2021 तक जमा करें और इसकी रसीद प्राप्त कर लें.’

इसमें कहा गया है कि 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिये आवेदन पत्र जमा करने के लिए जिला मुख्यालय पर जिला या शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षों को अधिकृत किया गया है.

प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने पिछले सप्ताह दो दिन चुनाव से जुड़े मामलों पर विचार-विमर्श किया था. इसके बाद उम्मीदवारों से आवेदन पत्र दाखिल करने को कहा गया है.

कांग्रेस प्रवक्ता उमा शंकर पांडे ने शनिवार को कहा था, ‘आने वाले चुनाव लड़ने के इच्छुक कार्यकर्ता राज्य या जिला मुख्यालय पर अपना आवेदन दे सकते हैं.’

योगदान राशि मांगने के निर्णय के बारे में बताते हुए पार्टी प्रवक्ता अशोक सिंह ने कहा कि यह कदम उन उम्मीदवारों की पड़ताल के लिए है, जो गंभीर नहीं हैं.

पार्टी के एक पदाधिकारी ने कहा कि नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही जो लोग गंभीर नहीं हैं, वे भी बेवजह की परेशानी पैदा कर अपना पक्ष रख रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘सहयोग राशि मांगना कोई नई बात नहीं है, सभी विपक्षी दल यह लेते हैं. कुछ तो टिकट आवंटन के लिए व्यक्तिगत रूप से बड़ी रकम भी लेते हैं और इसके लिए कुख्यात हैं.’

कांग्रेस की राज्य इकाई के मीडिया संयोजक ललन कुमार ने कहा कि चुनाव प्रक्रिया में सुधार और उम्मीदवारों के नाम तय करने के लिए यह कदम उठाया गया है.

उन्होंने कहा, ‘सब कुछ पारदर्शी है, राशि पार्टी के कोष में जमा की जाएगी और कोई भी व्यक्तिगत रूप से इसकी मांग नहीं कर रहा है.’

आदेश में कहा गया है कि (सहयोग) राशि आरटीजीएस, डिमांड ड्राफ्ट या पे ऑर्डर के माध्यम से जमा की जा सकती है और इसकी एक प्राप्ति रसीद जारी की जाएगी.

प्रियंका गांधी वाड्रा पिछले हफ्ते चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए राज्य की राजधानी लखनऊ पहुंची हुई थीं और पार्टी के कई नेताओं, पदाधिकारियों और पदाधिकारियों के साथ क्षेत्रवार लंबी बैठकें की थीं.

इस बार उनके सक्रिय नेतृत्व में कांग्रेस को राज्य में अपना भाग्य बदलने की उम्मीद है. पार्टी ने 2017 में हुए राज्य विधानसभा चुनावों में 403 में से केवल सात सीटें जीती थीं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)