यश चोपड़ा: संघ की शाखा से निकला रोमांटिक फिल्मकार

एक शाम किशोर यश चोपड़ा की भाभी ने खाना बनाने के लिए तंदूर में ज्यों-ही आग लगाई, एक बड़े विस्फोट से समूचा घर दहल उठा. तंदूर में यश ने दंगों में इस्तेमाल के लिए बनाए बम छिपाए हुए थे.

एक शाम किशोर यश चोपड़ा की भाभी ने खाना बनाने के लिए तंदूर में ज्यों-ही आग लगाई, एक बड़े विस्फोट से समूचा घर दहल उठा. तंदूर में यश ने दंगों में इस्तेमाल के लिए बनाए बम छिपाए हुए थे.

Yash Chopra 1
यश चोपड़ा (जन्म 27 सितंबर 1932 – मृत्यु 21 अक्टूबर 2012). (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

देश की आज़ादी की पूर्व संध्या पंजाब और बंगाल के लोगों के लिए हिंसा और हत्या का भयावह अंधेरा लेकर आई थी. इस अंधेरे में जालंधर का चोपड़ा परिवार भी सुकून की सुबह ढूंढ रहा था.

अभी कुछ ही समय पहले परिवार ने अपने मुखिया लाला विलायती राज चोपड़ा को बंगाल में हुए एक हादसे में खो दिया था. यह बड़ा परिवार अभी संभलने की कोशिश कर ही रहा था कि बंटवारे के स्याह बादल चारों ओर घिरने लगे थे.

लाहौर, अमृतसर और जालंधर में बसे परिवार के विभिन्न हिस्से तारीख़, सियासत और किस्मत की बिसात पर बिखरे हुए थे. फ़िरकापरस्त ताक़तें इस माहौल में अपनी रोटी सेंकने में लगी हुई थीं.

आसपास के आर्यसमाजी लड़कों की तरह चोपड़ा परिवार का एक किशोर भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का सदस्य बन गया था और उनकी शाखाओं, अखाड़ों और कसरतों में सक्रिय भागीदारी करने लगा था.

उसकी सक्रियता धीरे-धीरे ख़तरनाक हदों को लांघने की कोशिश करने लगी थी जिससे उसका परिवार अभी तक अनजान था. लेकिन एक दुर्घटना ने किशोर की अवांछित हरकतों को सबके सामने उजागर कर दिया.

एक शाम उस किशोर की भाभी ने खाना बनाने के लिए तंदूर में ज्यों-ही आग लगाई, एक बड़े विस्फोट से समूचा घर दहल उठा. उस तंदूर में उस किशोर ने दंगों में इस्तेमाल के लिए बनाए बम छिपाए हुए थे.

साल 1975 में फिल्म दीवार की शूटिंग के दौरान. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)
साल 1975 में फिल्म त्रिशूल की शूटिंग के दौरान. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

गनीमत रही कि जान-माल का विशेष नुकसान नहीं हुआ. इन्हीं दिनों किशोर ने लुटेरों के गिरोह के साथ एक घड़ी की दुकान में लूट-पाट की और लूट का एक हिस्सा घर में छिपा दिया जो उसकी मां के हाथ पड़ गया.

बेटे की इन हरकतों से परेशान मां ने पहले तो उसकी जमकर पिटाई की और असामाजिक तत्वों से उसे दूर रखने के लिए उसके बहन-बहनोई के यहां दिल्ली से सटे रोहतक शहर भेज दिया.

इन्हीं दिनों चोपड़ा परिवार के एक सदस्य को अपनी पत्नी और बच्चों के साथ लाहौर छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा. उस सदस्य ने बिखरी ज़िंदगी को फिर से संवारने की उम्मीद में अपने एक भाई के साथ बंबई का रुख़ किया.

कुछ ही साल बाद उस किशोर को भी उसने बंबई बुला लिया और अपने साथ फिल्म निर्माण और निर्देशन के काम में लगा दिया. लाहौर से बंबई आए इस व्यक्ति का नाम बीआर चोपड़ा था और बम बनाने वाले किशोर का नाम यश राज चोपड़ा था.

एक और भाई जो बीआर चोपड़ा के साथ बंबई आया था उसका नाम धर्म राज चोपड़ा था जो बाद में बड़ा नामचीन सिनेमैटोग्राफर बना. तुरंत ही एक और सहोदर राजकुमार फिल्म वितरण के व्यवसाय से जुड़ गए.

चोपड़ा बंधु- बीआर चोपड़ा और यशराज- अगले बीस सालों तक साथ में और फिर उसके अगले तीस सालों से अधिक समय तक अलग-अलग बैनर के बतौर बॉम्बे सिनेमा के सबसे प्रभावशाली और मज़बूत नाम होने वाले थे.

कुल 80 साल की उम्र में से यश जी ने 60 साल सिनेमा को दिए जिसके शुरुआती पन्ने बड़े दिलचस्प हैं जिन्हें यश जी को याद करते हुए पलटना रोमांचक अनुभव है.

Yash Chopra Films 5
साल 1965 में आई फिल्म वक़्त में अभिनेत्री साधना को एक सीन समझाते हुए यश चोपड़ा. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

जालंधर में 1950 में बीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद बंबई आए. बीआर चोपड़ा उन्हें इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए लंदन भेजना चाह रहे थे लेकिन यश जी को बंबई का माहौल बहुत रास आ गया था और वे फ़िल्मों से जुड़ना चाहते थे.

बीआर चोपड़ा उन दिनों शोले (1953) बना रहे थे जिसकी यूनिट के साथ यश जी को भी रख लिया गया. बड़े भाई का मानना था कि वे किसी और के साथ फ़िल्मों के बारे में अधिक सीख सकेंगे.

यह सोचकर उन्होंने यश जी को आईएस जौहर के साथ लगा दिया. लेकिन कुछ समय बाद प्रसिद्ध चरित्र अभिनेता जीवन ने बीआर चोपड़ा को सलाह दी कि वे यश चोपड़ा को अपने साथ ही रखकर सिखाएं.

बीआर चोपड़ा अपनी अगली फिल्म चांदनी चौक (1954) बना रहे थे. इस फिल्म में पहली बार यश चोपड़ा को बतौर सहायक काम दिया गया और उनका वेतन नियत किया गया.

अगले साल बीआर चोपड़ा ने अपना बैनर स्थापित किया और उसके तीन फिल्मों- एक ही रास्ता (1956), नया दौर (1957) और साधना (1958) में यश राज ने बड़े भाई को सहयोग दिया.

हालांकि वे किसी भी फिल्म में मुख्य सहायक नहीं होते थे, उन्हें तीसरा सहायक ही रखा जाता था. इन फिल्मों की भारी सफलता ने बीआर फिल्म्स को लोकप्रिय और विश्वसनीय बैनर के रूप में स्थापित कर दिया.

सहायक निर्देशक के तौर पर काम करते हुए यश चोपड़ा को लगभग सात साल हो चुके थे और वे अब तक ज़रूरी अनुभव हासिल कर चुके थे. बीआर चोपड़ा ने बैनर की अगली फिल्म के निर्देशन का ज़िम्मा यश चोपड़ा और अपने एक अन्य सहायक ओपी बेदी को सौंपा लेकिन फिल्म पर काम शुरू होने से पहले ही बेदी ने बीआर फिल्म्स को छोड़ दिया.

अब निर्देशन की पूरी ज़िम्मेदारी यश जी की थी और उनका मासिक वेतन 500 रुपये तय किया गया. सामाजिक मुद्दों को बेबाकी से उठाने की अपनी छवि को बरक़रार रखते हुए बीआर फिल्म्स ने धूल का फूल (1959) में ‘अवैध’ संतान का मुद्दा उठाया.

फिल्म में शादी से पहले बनने वाले संबंध के बारे में कोई भी निर्णय नहीं दिया है, बल्कि उसे स्वाभाविक घटना के तौर पर प्रस्तुत किया गया है.

Yash Chopra Films 1
(फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

फिल्म में मूल बहस ऐसे संबंध से पैदा हुए बच्चे की ज़िम्मेदारी को लेकर है जिसमें ‘मां’ को यह अधिकार मिलता है, न कि ‘पिता’ को जो उसकी ज़िम्मेदारी से मुकरता रहता है.

फिल्म ‘अवैध’ माने जाने वाले ऐसे बच्चे को पूरा सम्मान देती है जिसे साहिर के लिखे गीत के माध्यम से पेश किया गया है- ‘तू हिंदू बनेगा ना मुसलमान बनेगा, इंसान की औलाद है इंसान बनेगा’. फिल्म ने तब शानदार कारोबार किया था और आज भी इसके गाने बड़े चाव से सुने जाते हैं.

इस फिल्म को मशहूर लेखक पंडित मुखराम शर्मा ने लिखा था और इसका नाम कवि प्रदीप ने सुझाया था. दिलचस्प बात है कि बीआर चोपड़ा ने फिल्म के प्रचार के दौरान पोस्टरों पर बड़े-बड़े अक्षरों में ‘पं. मुखराम शर्मा की धूल का फूल’ लिखवाया था जो एकदम नई बात थी.

बीआर चोपड़ा या यश राज के नाम से फिल्म का प्रचार करने से अधिक लाभ हो सकता था क्योंकि इनकी लोकप्रियता कहीं अधिक थी. और यह भी कि तब भी लेखकों को इंडस्ट्री में बहुत सम्मान नहीं दिया जाता था.

बहरहाल, इस फिल्म ने यश चोपड़ा के निर्देशन के क्षेत्र में आने का उद्घोष कर दिया था. फिल्म की कहानी और निर्माण से संबंधित तत्वों का निर्णय तो बीआर चोपड़ा ने किया था लेकिन शूटिंग के दौरान वे कभी भी सेट पर नहीं आते थे.

फिल्म दिल तो पागल है की शूटिंग के दौरान शाहरूख ख़ान और माधुरी दीक्षित के साथ यश चोपड़ा. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)
1997 में आई फिल्म दिल तो पागल है की शूटिंग के दौरान शाहरूख ख़ान और माधुरी दीक्षित के साथ यश चोपड़ा. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

वहां निर्देशक को पर्याप्त स्वतंत्रता थी. तब यश जी की उम्र 26 बरस थी. इस फिल्म के दौरान बीआर चोपड़ा ने नियम बनाया कि एक समय में दोनों में से एक ही व्यक्ति निर्देशन करेगा और दोनों बारी-बारी से निर्देशन करेंगे.

यश राज के निर्देशन में दूसरी फिल्म धर्मपुत्र (1961) थी जो आचार्य चतुरसेन शास्त्री के उपन्यास पर आधारित थी लेकिन उसमें व्यापक बदलाव किए गए थे.

इस फिल्म से महान पृथ्वीराज कपूर के बेटे शशि कपूर का व्यस्क रोल में आगमन भी हुआ था. सांप्रदायिक सद्भाव और विभाजन पर आधारित तथा मधुर गीतों से सजी यह फिल्म व्यावसायिक रूप से सफल नहीं हो पाई लेकिन उसे समीक्षकों ने बहुत सराहा और राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

बीआर चोपड़ा ने यश राज को अपने बैनर की पहली रंगीन और बड़े बजट की फिल्म वक़्त (1965) को निर्देशित करने को कहा. सदाबहार मनोरंजक फिल्म के रूप में प्रतिष्ठित यह फिल्म कई मायनों में बंबई सिनेमा के इतिहास में मील का पत्थर है.

Yash Chopra Films 4
(फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

यह पहली ऐसी फिल्म थी जिसमें बड़े स्टार कलाकारों की भरमार थी. साज-सज्जा और तड़क-भड़क के मसले में भी इस फिल्म ने अपने सारे पूर्ववर्ती फिल्मों को बहुत पीछे छोड़ दिया.

इसी समय बंबईया फिल्में स्टूडियो की सीमित चारदीवारी से निकल कर आउटडोर और पर्यटन स्थलों का रुख़ कर रही थीं.

फिल्म वक़्त की पूरी शूटिंग रमणीय स्थलों पर पूरे चमक-दमक के साथ हुई थी. देश के विभाजन की त्रासदी को भूकंप की तबाही में बिछड़े परिवार के रूपक में प्रस्तुत करती यह फिल्म मेलोड्रामा पर यश चोपड़ा के स्वाभाविक पकड़ का जबरदस्त उदाहरण है.

इसी फिल्म से क्लासिक ‘यश चोपड़ा टच’ की शुरुआत होती है जो उनकी आख़िरी फ़िल्म तक में जारी रही है. चोपड़ा बैनर सामाजिक और व्यापक महत्व के मुद्दों पर फिल्म बनाता रहा था.

इसी कड़ी में यश चोपड़ा के निर्देशन में बनी अगली फिल्म आदमी और इंसान (1969) एक बांध निर्माण में हो रहे भ्रष्टाचार के ज़रिये इस भीषण समस्या को रेखांकित करती है.

Yash Chopra Films 6
साल 1981 में आई फिल्म सिलसिला के गीत ये कहां आ गए हम… की शूटिंग के दौरान हॉलैंड में अमिताभ बच्चन और रेखा के साथ यश चोपड़ा. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

हर फिल्म की तरह इसमें भी रोमांस की कोमल और सुंदर उपस्थिति है जिसके आलोक में विषय-वस्तु को फिल्म खंगाल रही है. लेकिन यश राज की अगली फिल्म में पिछली तमाम फिल्मों से बिलकुल उलट एक अज़ीब किस्म के सस्पेंस को पेश किया गया.

इत्तेफ़ाक़ (1969) एक महीने के अंदर बनी गई थी जब बैनर आदमी और इंसान की कलाकार सायरा बानो की बीमारी से उबरने का इंतज़ार कर रहा था ताकि बचा हुआ डबिंग का कुछ काम पूरा किया जा सके. ये दोनों फिल्में बहुत कामयाब रहीं.

उल्लेखनीय है कि लगभग दस साल पहले बीआर चोपड़ा कानून बना चुके थे जिसमें कोई गाना नहीं था और न ही किसी तरह के बेजा ग्लैमर का प्रयोग किया गया था. ठीक वैसे ही इत्तेफ़ाक़ में कोई गाना नहीं था और यश चोपड़ा ने कहानी में कोई चमक डालने की कोशिश नहीं की.

तीनों भाइयों की यह टीम बंबई फिल्म जगत में अपने पांव जमा चुकी थी. लेकिन 38 साल के यश राज का अभी तक अविवाहित रहना बड़े भाई को रास नहीं आ रहा था.

Yash Chopra Films 7
साल 1989 में आई फिल्म चांदनी के चर्चित गीत मेरे हाथों में नौ-नौ चूडियां हैं… की शूटिंग के दौरान श्रीदेवी के साथ यश चोपड़ा. (फोटो साभार: यशराज फिल्म्स)

आख़िरकार 20 अगस्त, 1970 को दिल्ली की पामेला सिंह के साथ यश चोपड़ा विवाह के बंधन में बंध गए और हनीमून के लिए बाहर चले गए.

उन्हीं दिनों उनके मन में अपने भाई की छत्र-छाया से मुक्त होकर ‘अपने पंखों से उड़ने’ की आकांक्षा पलने लगी थी और जल्दी ही यश राज फिल्म्स नाम से एक बड़े बैनर की शुरुआत होनी थी.

भाइयों के अलगाव को लेकर फिल्मी दुनिया में कई तरह की बातें तब भी की गईं और आज भी की जातीं हैं, लेकिन दोनों भाइयों ने कभी भी इस बाबत या एक-दूसरे के ख़िलाफ़ नहीं बोला.

अलग होने के बाद भी दोनों मिलते-जुलते रहे और एक-दूसरे के कार्यक्रमों में शामिल होते रहे. उन फिल्मों की डीवीडी जो दोनों ने साथ बनाई थीं, उनमें उन फिल्मों के बारे में दोनों भाइयों की आपसी बातचीत है जो उन्हें जानने-समझने के लिए बहुत ज़रूरी हैं.

और उन्हें जानना-समझना इसलिए भी ज़रूरी है क्योंकि हमारे सिनेमा के 100 साल के इतिहास के बड़े हिस्से में बीआर चोपड़ा और यश जी के कदमों के निशां हैं.

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं और उन्होंने बीआर चोपड़ा पर किताब  लिखी है.)

bonus new member slot garansi kekalahan mpo https://tsamedicalspa.com/wp-includes/js/slot-5k/ https://gseda.nida.ac.th/wp-includes/js/pkv-games/ https://gseda.nida.ac.th/wp-includes/js/bandarqq/ https://gseda.nida.ac.th/wp-includes/js/dominoqq/ http://compendium.pairserver.com/ http://128.199.219.76/img/pkv-games/ http://128.199.219.76/img/bandarqq/ http://128.199.219.76/img/dominoqq/ http://compendium.pairserver.com/bandarqq/ http://compendium.pairserver.com/dominoqq/ http://compendium.pairserver.com/slot-depo-5k/ https://compendiumapp.com/app/slot-depo-5k/ https://compendiumapp.com/app/slot-depo-10k/ https://compendiumapp.com/ckeditor/judi-bola-euro-2024/ https://compendiumapp.com/ckeditor/sbobet/ https://compendiumapp.com/ckeditor/parlay/ https://sabriaromas.com.ar/wp-includes/js/pkv-games/ https://compendiumapp.com/comp/pkv-games/ https://compendiumapp.com/comp/bandarqq/ https://bankarstvo.mk/PCB/pkv-games/ https://bankarstvo.mk/PCB/slot-depo-5k/ https://gen1031fm.com/assets/uploads/slot-depo-5k/ https://gen1031fm.com/assets/uploads/pkv-games/ https://gen1031fm.com/assets/uploads/bandarqq/ https://gen1031fm.com/assets/uploads/dominoqq/ https://www.wikaprint.com/depo/pola-gacor/ https://www.wikaprint.com/depo/slot-depo-pulsa/ https://www.wikaprint.com/depo/slot-anti-rungkad/ https://www.wikaprint.com/depo/link-slot-gacor/ depo 25 bonus 25 slot depo 5k pkv games pkv games https://www.knowafest.com/files/uploads/pkv-games.html/ https://www.knowafest.com/files/uploads/bandarqq.html/ https://www.knowafest.com/files/uploads/dominoqq.html https://www.knowafest.com/files/uploads/slot-depo-5k.html/ https://www.knowafest.com/files/uploads/slot-depo-10k.html/ https://www.knowafest.com/files/uploads/slot77.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/pkv-games.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/bandarqq.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/dominoqq.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/slot-thailand.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/slot-depo-10k.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/slot-kakek-zeus.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/rtp-slot.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/parlay.html/ https://www.europark.lv/uploads/Informativi/sbobet.html/ https://st-geniez-dolt.com/css/images/pkv-games/ https://st-geniez-dolt.com/css/images/bandarqq/ https://st-geniez-dolt.com/css/images/dominoqq/ https://austinpublishinggroup.com/a/judi-bola-euro-2024/ https://austinpublishinggroup.com/a/parlay/ https://austinpublishinggroup.com/a/judi-bola/ https://austinpublishinggroup.com/a/sbobet/ https://compendiumapp.com/comp/dominoqq/ https://bankarstvo.mk/wp-includes/bandarqq/ https://bankarstvo.mk/wp-includes/dominoqq/ https://tickerapp.agilesolutions.pe/wp-includes/js/pkv-games/ https://tickerapp.agilesolutions.pe/wp-includes/js/bandarqq/ https://tickerapp.agilesolutions.pe/wp-includes/js/dominoqq/ https://tickerapp.agilesolutions.pe/wp-includes/js/slot-depo-5k/ https://austinpublishinggroup.com/group/pkv-games/ https://austinpublishinggroup.com/group/bandarqq/ https://austinpublishinggroup.com/group/dominoqq/ https://austinpublishinggroup.com/group/slot-depo-5k/ https://austinpublishinggroup.com/group/slot77/ https://formapilatesla.com/form/slot-gacor/ https://formapilatesla.com/wp-includes/form/slot-depo-10k/ https://formapilatesla.com/wp-includes/form/slot77/ https://formapilatesla.com/wp-includes/form/depo-50-bonus-50/ https://formapilatesla.com/wp-includes/form/depo-25-bonus-25/ https://formapilatesla.com/wp-includes/form/slot-garansi-kekalahan/ https://formapilatesla.com/wp-includes/form/slot-pulsa/ https://ft.unj.ac.id/wp-content/uploads/2024/00/slot-depo-5k/ https://ft.unj.ac.id/wp-content/uploads/2024/00/slot-thailand/ bandarqq dominoqq https://perpus.bnpt.go.id/slot-depo-5k/ https://www.chateau-laroque.com/wp-includes/js/slot-depo-5k/ pkv-games pkv pkv-games bandarqq dominoqq slot bca slot xl slot telkomsel slot bni slot mandiri slot bri pkv games bandarqq dominoqq slot depo 5k slot depo 5k bandarqq https://www.wikaprint.com/colo/slot-bonus/ judi bola euro 2024 pkv games slot depo 5k judi bola euro 2024 pkv games slot depo 5k judi bola euro 2024 pkv games bandarqq dominoqq slot depo 5k slot77 depo 50 bonus 50 depo 25 bonus 25 slot depo 10k bonus new member pkv games bandarqq dominoqq slot depo 5k slot77 slot77 slot77 slot77 slot77 pkv games dominoqq bandarqq slot zeus slot depo 5k bonus new member slot depo 10k kakek merah slot slot77 slot garansi kekalahan slot depo 5k slot depo 10k pkv dominoqq bandarqq pkv games bandarqq dominoqq slot depo 10k depo 50 bonus 50 depo 25 bonus 25 bonus new member slot thailand slot depo 10k slot77 pkv bandarqq dominoqq