कोविड-19

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित भाजपा विधायक बाहर घूमते पाए गए, केस दर्ज

आरोप है कि उत्तर प्रदेश की महराजगंज सदर सीट से भाजपा विधायक जय मंगल कन्नोजिया कोविड-19 से संक्रमित होने के बावजूद भी लोगों के साथ समूह में घूम रहे थे और अपने निर्वाचन क्षेत्र में लोगों से मुलाकात कर रहे थे. उनके अलावा मुज़फ़्फ़रनगर और नोएडा में भी भाजपा विधायकों और प्रत्याशियों के ख़िलाफ़ आचार संहिता और कोविड-19 नियमों का उल्लंघन करने के चलते मामले दर्ज हुए हैं.

जय मंगल कन्नोजिया. (फोटो साभार: फेसबुक)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के महराजगंज से भाजपा विधायक जय मंगल कन्नोजिया के खिलाफ बीते सोमवार को पुलिस ने कोविड-19 प्रोटोकोल तोड़ने के आरोप में मामला दर्ज किया है. पुलिस के मुताबिक, कन्नोजिया कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे, इसके बावजूद भी वे बाहर घूम रहे थे.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, इस संबंध में महराजगंज नगर पालिका के कार्यकारी अधिकारी आलोक सिंह द्वारा कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी, जिस पर कार्रवाई करते हुए विधायक के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज हुई है.

आरोप है कि महराजगंज सदर सीट से विधायक कोविड-19 से संक्रमित होने के बावजूद भी लोगों के साथ समूह में घूम रहे थे और अपने निर्वाचन क्षेत्र में लोगों से मुलाकात कर रहे थे.

कोतवाली एसएचओ रवि कुमार ने बताया कि कोरोना की जांच के लिए विधायक का सैंपल बीते 13 जनवरी को लिया गया था, जिसमें वे पॉजीटिव पाए गए थे. उन्हें इस संबंध में सूचित करके घर में क्वारंटीन रहने के लिए कहा गया था.

विधायक पर आईपीसी की धारा 188 (लोकसेवक द्वारा कानूनी आदेश की अवहेलना) और 269 (लापरवाह कृत्य करके जानलेवा संक्रमण फैलाना) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

एसएचओ के मुताबिक, विधायक के परिवार का अन्य कोई सदस्य संक्रमित नहीं पाया गया है. साथ ही उन्होंने बताया कि ऐसे भी आरोप हैं कि विधायक को जिस दौरान क्वारंटीन में रहना था, उन्होंने उस दौरान कुछ यात्राएं भी कीं, लेकिन अभी इसकी पुष्टि नहीं की जा सकती. इसके समर्थन में कोई साक्ष्य उपलब्ध नहीं है.

उन्होंने बताया कि फिलहाल विधायक महाराजगंज में अपने घर पर हैं.

मुजफ्फरनगर: भाजपा विधायक समेत तीन प्रत्याशियों और उनके समर्थकों के खिलाफ केस 

वहीं, प्रदेश के ही मुजफ्फरनगर जिले में एक अन्य भाजपा विधायक के खिलाफ भी निर्वाचन आयोग द्वारा तय आदर्श आचार संहिता और कोविड-19 नियमों का कथित उल्लंघन करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है.

उनके साथ उनके 60 समर्थकों के खिलाफ भी मामला दर्ज हुआ है.

सोमवार को पुलिस ने बताया कि बुढाना विधानसभा सीट से दोबारा निर्वाचित होने के लिए चुनाव मैदान में उतरे भाजपा विधायक उमेश मलिक और उनके 60 समर्थकों के खिलाफ नियमों का उल्लंघन करने पर भारतीय दंड संहिता, जनप्रतिनिधि कानून, आपदा प्रबंधन अधिनियम और महामारी बीमारी अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

पुलिस के मुताबिक, यह मामला जिले के बुढाना में मलिक के स्वागत के लिए लोगों के जमा होने के बाद दर्ज किया गया.

उल्लेखनीय है कि निर्वाचन आयोग ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर 22 जनवरी तक रैलियों और लोगों के जमा होने पर रोक लगा दी है.

मुजफ्फरनगर जिले में ही एक और भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है.

पुलिस ने बताया कि एक अलग मामले में भाजपा प्रत्याशी प्रशांत गुर्जर और उनके 30 समर्थकों के खिलाफ जिले के मिरांपुर में 16 जनवरी को एकत्र होने पर मामला दर्ज किया गया.

उन्होंने बताया कि इस सीट से भाजपा के प्रत्याशी घोषित होने के बाद गुर्जर जब कस्बे में आए तो समर्थक उनका स्वागत करने के लिए जमा हुए थे.

इसके अलावा, जिले की ही चरथावल विधानसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के प्रत्याशी सलमान सईद और उनके दर्जनों समर्थकों के खिलाफ भी आदर्श आचार संहिता का कथित उल्लंघन करने पर मामला दर्ज किया गया है. यह जानकारी भी पुलिस अधिकारियों ने दी है.

नोएडा: भाजपा विधायक के खिलाफ कोविड-19 नियमों का उल्लंघन का मामला दर्ज

दादरी विधानसभा सीट से भाजपा विधायक तेजपाल नागर के खिलाफ भी विधानसभा चुनाव के लिए अपने निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव प्रचार करते समय कोविड-19 संबंधी नियमों के उल्लंघन के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है.

नागर को दादरी विधानसभा सीट से भाजपा ने पुन: चुनाव मैदान में उतारा है.

पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के प्रवक्ता ने बताया कि थाना बिसरख में तैनात उपनिरीक्षक रविंद्र सिंह ने थाने में शिकायत दर्ज कराई कि 16 जनवरी को नागर ने दादरी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कई स्थानों पर पांच से अधिक लोगों को साथ लेकर घर-घर जाकर भाजपा का प्रचार किया था.

उन्होंने बताया कि इस प्रचार के दौरान कोविड-19 के प्रोटोकॉल तथा आपराधिक दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 का उल्लंघन हुआ.

उन्होंने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है. इस मामले में भाजपा विधायक के अलावा पांच अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज हुआ है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)