भारत

अलगाववाद के आरोपों पर केजरीवाल बोले- सारे भ्रष्टाचारी मुझे आतंकवादी कह रहे हैं

विधानसभा चुनाव राउंड-अप: पंजाब में चुनाव प्रचार थमा, शनिवार को 117 सीटों पर मतदान. पंजाब में कांग्रेस ने घोषणा-पत्र में किया मुफ़्त सिलेंडर और नौकरियों का वादा. यूपी में एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी बोले कि मुग़ल मर गए, उनकी हड्डियां भी गल गईं, पर चुनाव में भाजपा उन्हें लेकर आ जाती है. मतदान के चार दिन बाद उत्तराखंड भाजपा में घमासान, नेता एकदूसरे पर लगा रहे हैं हराने की साज़िश के आरोप.

पंजाब में चुनाव प्रचार करते अरविंद केजरीवाल. (फोटो साभार: ट्विटर/आप पंजाब)

चंडीगढ़/मैनपुरी/जालौन/इम्फाल/देहरादून: आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने पार्टी के एक पूर्व नेता के इन आरोपों को हास्यास्पद करार दिया कि उन्होंने अलगाववादी बयान दिए थे.

साथ ही, दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल और अस्पताल बनाने वाले शायद वह दुनिया के सबसे प्यारे आतंकवादी हैं.

उल्लेखनीय है कि केजरीवाल, पंजाब में अलगाववादियों का समर्थन करने के आप के पूर्व नेता एवं कवि कुमार विश्वास के आरोपों को लेकर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के हमलों का सामना कर रहे हैं.

आप, पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस को मुख्य चुनौती देने वाली पार्टी के रूप में उभरी है. राज्य में 20 फरवरी को विधानसभा चुनाव हैं.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां तक कि अंग्रेजों ने भगत सिंह को आतंकवादी कहा था लेकिन देश जानता है कि उनसे बड़ा देशभक्त कोई नहीं है.

केजरीवाल ने कहा, ‘सौ साल पहले, अंग्रेजों ने भगत सिंह को आतंकवादी कहा था और 100 साल बाद इतिहास खुद को दोहरा रहा है, जब ये सभी (प्रतिद्वंद्वी) दल भगत सिंह के अनुयायी (केजरीवाल) को आतंकवादी साबित करना चाहते हैं, लेकिन लोग हकीकत जानते हैं.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा और कांग्रेस के नेताओं और इनके सहयोगी दलों ने विश्वास के आरोपों को लेकर उन्हें निशाना बनाने के लिए हाथ मिला लिया है. उन्होंने विश्वास के आरोपों को हास्यास्पद करार दिया.

केजरीवाल ने बठिंडा में संवाददाताओं से कहा, ‘नरेंद्र मोदी, प्रियंका गांधी, चरणजीत सिंह चन्नी, सुखबीर सिंह बादल, अमरिंदर सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू, ये सभी अब आरोप लगा रहे हैं कि पिछले 10 वर्षों से केजरीवाल देश को दो हिस्सों में तोड़ने की साजिश रच रहे हैं तथा एक हिस्से का प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं.’

केजरीवाल ने कहा, ‘यदि उनके दावों पर यकीन करें तो मैं एक बड़ा आतंकवादी हूं. यदि कोई उनके तर्क को मानेगा, तो उनकी एजेंसियां क्या कर रही हैं? पहले (केंद्र में) कांग्रेस का शासन था और अब सात वर्षों से भाजपा सत्ता में है. क्या वे सभी सो रहे हैं.’ आप नेता ने विश्वास और अन्य नेताओं के आरोपों को ‘कॉमेडी’ करार दिया.

केजरीवाल ने कहा कि उन्हें बीती शाम यह पता चला कि चन्नी (पंजाब के मुख्यमंत्री) को केंद्र से एक कॉल आया, जिसमें कहा गया कि इस विषय (अलगाववादियों का समर्थन करने के आरोप) की जांच होनी चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘एक अधिकारी ने मुझसे कहा कि अगले एक-दो दिनों में एनआईए मेरे खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज करेगी. ऐसी सभी प्राथमिकियों का स्वागत है, लेकिन यदि केंद्र सरकार इस तरीके से राष्ट्रीय सुरक्षा से निपटती है तो यह चिंता का विषय है.’

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से विश्वास के आरोपों की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है. केजरीवाल ने कहा कि दो राष्ट्रीय दल राष्ट्रीय सुरक्षा का मजाक उड़ा रहे हैं.

उन्होंने हल्के-फुल्के अंदाज में कहा, ‘शायद, मैं दुनिया का सबसे प्यारा आतंकवादी हूं, जिसने स्कूल, अस्पताल बनाए हैं, सड़कें बनाई हैं, सड़कें और बिजली आपूर्ति बेहतर की है तथा बुजुर्गों को तीर्थयात्रा पर भेजा है. ऐसा आतंकवादी कभी पैदा नहीं हुआ होगा.’

उन्होंने कहा, ‘आप पूरा क्रम समझिए. राहुल गांधी ने पहले (विश्वास के बयान के बाद) आरोप लगाए, फिर प्रधानमंत्री ने, उनके बाद प्रियंका और सुखबीर ने मेरे खिलाफ उसी भाषा का इस्तेमाल किया.’

केजरीवाल ने केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा, ‘शुरूआत में दिल्ली पुलिस, ईडी और आयकर विभाग ने मेरे कार्यालय, मेरे आवास पर छापे मारे थे लेकिन किसी भी एजेंसी को कुछ नहीं मिला.’

उन्होंने कहा, ‘तब एक दिन एक कवि ने (विश्वास ने) एक कविता सुनाई जिसमें उन्होंने कहा कि सात साल पहले, केजरीवाल ने उनसे कहा था कि वह देश को दो हिस्सों में बांट देंगे, जिसके बाद मैं एक हिस्से का प्रधानमंत्री बनूंगा और वह (आप के पूर्व नेता) दूसरे हिस्से के प्रधानमंत्री बनेंगे.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा ‘इसके बाद राहुल गांधी ने (आरोपों को) दोहराया. मोदी ने राहुल का भाषण देखा और उन्हें एहसास हुआ कि देश में एक बड़ा आतंकवादी यहां है. कवि को धन्यवाद कि उसने आतंकवादी को पकड़ लिया.’

उन्होंने कहा, ‘आतंकवादी दो तरह के होते हैं- एक वे जो लोगों के बीच आतंक फैलाते हैं, दूसरे वे जो भ्रष्ट लोगों के बीच आतंक मचाते हैं.’

केजरीवाल ने एक सवाल के जवाब में कहा ‘ प्रतिद्वंद्वी दल मुझे आरएसएस, कांग्रेस और भाजपा का एजेंट कहते हैं तो क्या इसका यह मतलब है कि वे सभी (आरोपों के आधार पर) आतंकवादी हैं.’ उन्होंने कहा ‘मेरी चिंता यह है कि उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा को ‘कॉमेडी’ बना दिया है.’

कांग्रेस ने महिलाओं को आर्थिक मदद, एक लाख सरकारी नौकरी देने का वादा किया

कांग्रेस ने 20 फरवरी को होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को अपना घोषणापत्र जारी किया, जिसमें महिलाओं को प्रतिमाह 1,100 रुपये, प्रति वर्ष आठ मुफ्त रसोई गैस सिलेंडर और एक लाख सरकारी नौकरी देने का वादा किया गया है.

कांग्रेस ने शराब और बालू खनन की बिक्री के लिए निगम बनाकर माफिया राज को खत्म करने का भी वादा किया है.

मीडिया को संबोधित करते हुए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पार्टी की सरकार किसानों से तिलहन, दलहन और मक्का खरीदेगी.

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार के आखिरी दिन कांग्रेस का घोषणापत्र आया है. सिद्धू ने कहा कि पार्टी का 13 सूत्री एजेंडा कांग्रेस नेता राहुल गांधी के दृष्टिकोण को दर्शाता है.

सिद्धू ने कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में लौटी तो पहला फैसला एक लाख सरकारी नौकरी देने का होगा.

सिद्धू ने कहा कि गृहिणियों को प्रति वर्ष आठ रसोई गैस सिलेंडर के अलावा वित्तीय सहायता के रूप में 1,100 रुपये प्रति माह दिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि किसानों से तिलहन, दलहन और मक्का की सरकारी एजेंसियों द्वारा खरीद की जाएगी.

117 विधानसभा सीटों के लिए प्रचार थमा, शनिवार को होगा मतदान

पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए प्रचार शुक्रवार शाम को समाप्त हो गया. राजनीतिक दलों ने 20 फरवरी को होने वाले मतदान से पहले प्रचार के अंतिम दिन भी अपने उम्मीदवारों के लिए समर्थन जुटाने को लेकर कोई कोर कसर नहीं छोड़ी.

कांग्रेस ने दिन में पहले अपना घोषणापत्र जारी किया, जिसमें राज्य में सत्ता में लौटने पर महिलाओं के लिए वित्तीय सहायता, एक लाख सरकारी नौकरियां और शराब की बिक्री व रेत खनन के लिए निगमों के निर्माण का वादा किया गया है.

मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, आम आदमी पार्टी (आप) के नेता अरविंद केजरीवाल, भगवंत मान और शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने क्रमश: भदौर, जलालाबाद, रायकोट और अमृतसर में रोड शो किया.

पटियाला में पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रोड शो किया. रोड शो में अमरिंदर सिंह की पत्नी और कांग्रेस सांसद परनीत कौर भी शामिल हुईं.

पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) अध्यक्ष सुखबीर बादल ने भी अंतिम दिन प्रचार किया.

राज्य में 93 महिलाओं सहित कुल 1,304 उम्मीदवार मैदान में हैं. पंजाब के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एस. करुणा राजू ने बताया कि मतदान सुबह 8 बजे शुरू होकर शाम 6 बजे तक चलेगा.

पंजाब में पहले मतदान की तारीख 14 फरवरी थी, लेकिन गुरु रविदास जयंती के मद्देनजर चुनाव आयोग ने इस आगे बढ़ाकर 20 फरवरी कर दिया था.

कोविड-19 प्रतिबंधों के मद्देनजर शुरुआत में केवल घर-घर जाकर और सोशल मीडिया के जरिये ही प्रचार की अनुमति थी. हालांकि, 1 फरवरी से चुनाव आयोग द्वारा चरणबद्ध तरीके से रैलियों पर प्रतिबंध हटा लिया गया था.

चुनाव में प्रमुख उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के चेहरे भगवंत मान, पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, प्रकाश सिंह बादल और शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल शामिल हैं.

चन्नी दो सीटों रूपनगर में चमकौर साहिब और बरनाला में भदौर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. आप के मान धूरी से चुनाव लड़ रहे हैं, जो संगरूर संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है. मान संगरूर से दो बार सांसद चुने जा चुके हैं.

अमृतसर पूर्व सीट पर सिद्धू का मुकाबला शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से है.

पिछले साल कांग्रेस द्वारा मुख्यमंत्री पद से हटाए गए अमरिंदर सिंह अपने परिवार के गढ़ पटियाला शहर से पंजाब लोक कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में मैदान में हैं. पिछले साल कांग्रेस छोड़ने के बाद उन्होंने पंजाब लोक कांग्रेस का गठन किया था.

सुखबीर बादल फाजिल्का के जलालाबाद से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि उनके पिता 94 वर्षीय प्रकाश सिंह बादल मुक्तसर जिले में अपने गृह क्षेत्र लांबी से चुनाव लड़ रहे हैं. प्रकाश सिंह बादल चुनाव में सबसे उम्रदराज उम्मीदवार हैं.

किसान संघों के राजनीतिक मोर्चे संयुक्त समाज मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल लुधियाना जिले के समराला से चुनाव लड़ रहे हैं. पंजाब भाजपा अध्यक्ष अश्विनी शर्मा पठानकोट से जबकि पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय सांपला फगवाड़ा से चुनाव लड़ रहे हैं.

शिअद बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है.

भाजपा ने अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली पार्टी और सुखदेव सिंह ढींडसा के नेतृत्व वाले शिअद (संयुक्त) के साथ गठबंधन किया है.

एसएसएम हरियाणा भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के नेता गुरनाम सिंह चढूनी के नेतृत्व वाली संयुक्त संघर्ष पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है.


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव


मुगल मर गए, उनकी हड्डियां भी गल गईं, पर चुनाव में भाजपा मुगलों को लेकर आ जाती है: ओवैसी

कन्नौज में हुई एक चुनावी सभा में असदुद्दीन ओवैसी. (फोटो साभार: ट्विटर/@aimim_national)

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी को एक ही थैली का चट़टा-बट़टा बताते हुए कहा कि मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और सपा प्रमुख अखिलेश यादव दो बिछड़े हुए भाई हैं और दोनों की मानसिकता एक है.

शुक्रवार को जालौन जिले के माधवगढ़ विधानसभा क्षेत्र में भागीदारी परिवर्तन मोर्चा के उम्मीदवार के पक्ष में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कहा, ‘योगी-अखिलेश, दोनों की मानसिकता एक है, दोनों लोग क्रूर और अहंकार में डूबे हुए हैं, यह अपने आप को नेता नहीं बल्कि बादशाह सलामत समझते हैं.’

ओवैसी ने योगी पर हमला बोलते हुए कहा कि राजनीति में जो बादशाह बन जाता है, उसको हटाना जरूरी है, अब इन्हें हटाकर घर पर बैठाना है.

उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश पर भी हमला बोला कहा कि एक को सैफई तो दूसरे को गोरखपुर में वास भेजना है. आवैसी ने कहा कि यदि इनको घर पर नहीं बैठाया तो यूपी के दलित, पिछड़े, अल्पसंख्यक, मजलूम गरीबों का कभी भी भला नहीं होगा.

भाजपा पर हमला बोलते हुए ओवैसी ने कहा कि वोट लेने के लिए भाजपा के लोग मुगलों को हराने की बात करते हैं. उन्होंने कहा, ‘मुगल मर गए हैं, उनकी हड्डियां भी गल गई हैं, लेकिन चुनाव में ये मुगलों को लेकर आ जाते हैं, भाजपा को मुगल के साथ पाकिस्तान भी याद आता है, ऐसा ही हाल अखिलेश का है,वह बोलते-बोलते जिन्ना पर आ जाते हैं.’

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी निशाने पर लिया और कहा कि मोदी तीन तलाक की बात करते हैं, लेकिन इस बार भाजपा और सपा को तलाक तलाक तलाक देना है, कुल मिलाकर इन सबका किस्सा खत्म हो जायेगा.जालौन में तीसरे चरण में 20 फरवरी को मतदान होगा.

मरम्मत के लिए भेजे गए ‘बुलडोजर’ 10 मार्च के बाद फिर काम शुरू करेंगे: योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी पर तंज कसते हुए शुक्रवार को कहा कि चुनाव के दौरान राज्य के सभी बुलडोजर मरम्मत के लिए भेजे गए हैं, लेकिन बुलडोजर 10 मार्च (मतगणना की तारीख) के बाद अपना काम फिर से शुरू करेंगे.

मैनपुरी में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए योगी ने यह बात कही. मैनपुरी में तीसरे चरण में 20 फरवरी को मतदान होगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक अपराधियों के मन में डर नहीं होगा तब तक व्यवस्था को सही तरीके से आगे नहीं बढ़ाया जा सकता. उन्होंने कहा कि पेशेवर दंगाइयों और अपराधियों के लिए संदेश स्पष्ट है कि यदि वह अपराध करते हैं, तो उन्हें अंजाम भुगतना होगा.

उन्होंने कहा कि अपराध और भ्रष्टाचार को जरा-सा भी बर्दाश्त नहीं करने कारण राज्य में कर्फ्यू नहीं लगा है, न ही कोई बम फेंकने की घटना हुई है.

सपा पर अपना हमला तेज करते हुए योगी ने कहा, ‘सपा सरकार 2012 में सत्ता में आई तो उसने पहला काम आतंकवादियों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने का किया था. उनकी (सपा) संवेदनशीलता उन आतंकवादियों के साथ थी जिन्होंने अयोध्या, वाराणसी के संकटमोचन मंदिर, लखनऊ अदालत और रामपुर में आतंकी हमले किए थे.’

उन्होंने कहा कि उप्र में भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद (2017 में) हमने प्रदेश के 86 लाख किसानों का 36 हजार करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया. यह भी बताया कि उन इलाकों में ट्यूबवेल कनेक्शन दिए, जिन्हें सपा और बसपा सरकारों ने डार्क जोन घोषित किया था.

योगी ने कहा कि 10 मार्च के बाद टैबलेट और स्मार्टफोन प्राप्त करने वाले युवाओं की संख्या दो करोड़ हो जाएगी. उन्होंने करहल में पार्टी उम्मीदवार एसपी सिंह बघेल के पक्ष में एक चुनावी सभा को संबोधित किया. करहल में बघेल का मुकाबला सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से है.

परिवारवाद के आरोप पर अखिलेश बोले- जिसका परिवार होता है वही इसका दुख-दर्द समझ सकता है

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी पर परिवारवाद और अपने कार्यकाल में सिर्फ परिवार का ही भला करने के भाजपा के आरोपों पर शुक्रवार को कहा कि जिसके परिवार होता है वही उनका दुख दर्द समझ सकता है, जिनका कोई परिवार नहीं होता, वह दुख दर्द क्या जाने.

जालौन में चुनाव प्रचार के दौरान सपा अध्यक्ष ने यह बात कही. उन्होंने कहा, ‘यह (भाजपा के नेता) कह रहे हैं कि हम घोर परिवारवादी हैं, जिसका परिवार होता है, वही परिवार वालों का दुख दर्द समझता है. यह भाजपा के नेता इनके कोई परिवार नहीं है, यह क्या जानें परिवार का दुख-दर्द.’

गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी पर परिवारवाद का आरोप लगाया है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को राज्य की कई जनसभाओं में कहा था कि सपा का मतलब ‘स’ से संपत्ति और ‘प’ से परिवारवाद है.

अपने संबोधन में बैंक घोटाले का जिक्र करते हुए यादव ने कहा, ‘2017 में नोटबंदी करके आपके पैसों को बैंको में जमा करवा लिया बाद में बैंकों से बड़े बड़े उद्योगपति पैसा लेकर भाग गए. आपके बैंक में जमा पैसे की चोरी हो गई.’

सपा नेता ने कहा,‘ अभी कुछ दिन पहले एक उद्योगपति 28 बैंकों का 22 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये लेकर भाग गया . यह पहला उद्योगपति नहीं है जो पैसा लेकर भागा हो. भारतीय जनता पाटी की जब से सरकार बनी है, बड़े बड़े उद्योगपति बैंको का पैसा लेकर भाग गए.’

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की ओर इशारा करते हुए सपा अध्यक्ष ने कहा, ‘जिस तरह से पहले चरण का चुनाव हुआ है, उसमें गठबंधन ने बढ़त बना ली है और दूसरे चरण में गठबंधन ने अपना शतक लगा लिया है. यह चुनाव तीसरे चरण का है और तीसरे और चौथे चरण के बाद समाजवादी पार्टी और गठबंधन के पक्ष में दूसरा शतक लग जाएगा.’


मणिपुर विधानसभा चुनाव


 

भाजपा का घोषणापत्र जारी, छात्राओं को मुफ्त स्कूटर, एम्स और स्टार्ट-अप कोष बनाने का वादा

घोषणा पत्र जारी करते भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह व अन्य नेता. (फोटो साभार: ट्विटर/जेपी नड्डा)

भाजपा ने मणिपुर में विधानसभा चुनाव के लिए गुरुवार को अपना घोषणापत्र जारी किया, जिसमें मेधावी छात्राओं को दोपहिया वाहन देने, वरिष्ठ नागरिकों के लिए मासिक पेंशन को 1,000 रुपये तक बढ़ाने तथा 100 करोड़ रुपये का स्टार्ट-अप कोष स्थापित करने का वादा किया गया.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने घोषणापत्र जारी करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह के नेतृत्व में राज्य पिछले पांच वर्षों में विकास के पथ पर बढ़ा है. राज्य में नशीले पदार्थों की समस्या पर काबू पाया गया और कानून के शासन की स्थापना के साथ स्थिरता आई है.

नड्डा ने घोषणापत्र का हवाला देते हुए कहा, ‘राज्य की महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए कॉलेज जाने वाली सभी मेधावी लड़कियों को मुफ्त स्कूटी दी जाएगी.’

भाजपा ने सत्ता में वापस आने पर आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की लड़कियों को ‘रानी गाइदिन्ल्यू नुपी महेरोई सिंगी योजना’ के तहत 25,000 रुपये देने का भी वादा किया.

पार्टी ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के लाभार्थियों को प्रति वर्ष दो मुफ्त एलपीजी सिलेंडर की घोषणा की और वरिष्ठ नागरिकों के लिए मासिक पेंशन 200 रुपये से बढ़ाकर 1,000 रुपये करने का वादा किया.

नड्डा ने कहा, ‘12 वीं कक्षा पास करने वाले सभी मेधावियों को लैपटॉप भी उपलब्ध कराए जाएंगे.’

उन्होंने कहा, ‘सीमांत, छोटे और भूमिहीन किसानों के बच्चों को स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर पर तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के लिए छात्रवृत्ति दी जाएगी.’

पार्टी ने वादा किया कि मणिपुर के किसानों के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की वित्तीय सहायता 6,000 रुपये से बढ़ाकर 8,000 रुपये प्रति वर्ष की जाएगी.

भाजपा ने युवाओं को रोजगार के लिए तैयार करने की दिशा में मणिपुर कौशल विकास विश्वविद्यालय और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की स्थापना की भी घोषणा की ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि लोगों को चिकित्सा उपचार के लिए राज्य से बाहर यात्रा न करनी पड़े.

भाजपा ने वादा किया है कि उद्यमियों को 25 लाख रुपये तक का ब्याज मुक्त कर्ज देने के लिए 100 करोड़ रुपये का ‘स्टार्ट-अप मणिपुर फंड’ स्थापित किया जाएगा. भाजपा ने कहा कि लोकतक मेगा इको-पर्यटन परियोजना एक वास्तविकता बन जाएगी और राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए होमस्टे सुविधाओं की शुरुआत के संबंध में नकद प्रोत्साहन और सब्सिडी दी जाएगी.

भाजपा ने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने और संबद्ध व्यावसायिक अवसरों को बढ़ाने के लिए फो-फो ट्रेन (फॉलो फुटहिल ट्रेन) नेटवर्क को विकसित किया जाएगा.

नड्डा ने कहा कि भाजपा सुशासन में विश्वास करती है और सरकारी योजनाओं को लोगों तक पहुंचाने के लिए ‘गांव चलें’ और ‘पहाड़ियों पर जाएं’ कार्यक्रमों का विस्तार किया जाएगा.

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के अलावा भाजपा नेता संबित पात्रा, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ए शारदा देवी और केंद्रीय मंत्री राजकुमार रंजन सिंह मौजूद थे.


उत्तराखंड विधानसभा चुनाव


मतदान के चार दिनों के अंदर भाजपा में मचा घमासान, विधायक बोले- हराने की कोशिश में साथी नेता

उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायकों के खुले आम ‘भितरघात’ के आरोप लगने से राज्य की सत्ताधारी पार्टी में खलबली मची हुई है .

प्रदेश में सभी 70 विधानसभा सीटों पर 14 फरवरी को मतदान के बाद पिछले चार दिनों में कम से कम तीन विधायकों और एक प्रत्याशी ने अपनी पार्टी के नेताओं पर उन्हें हराने की साजिश करने का आरोप लगाते हुए दोबारा सरकार बनाने का दावा कर रही भाजपा को असहज स्थिति में डाल दिया है .

इन आरोपों की शुरूआत हरिद्वार जिले के लक्सर से तीसरी बार विधानसभा में पहुंचने का प्रयास कर रहे विधायक संजय गुप्ता ने की.  गुप्ता ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक पर ही उन्हें चुनाव हराने की साजिश करने का आरोप लगा दिया.

इस संबंध में वायरल एक वीडियो में गुप्ता ने खुद को भाजपा का वफादार सिपाही बताते हुए कहा कि कौशिक के नामित सभासदों और नजदीकी कार्यकर्ताओं ने इस चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के प्रत्याशी मोहम्मद शहजाद के पक्ष में काम किया और उन्हें हराने की साजिश की.

कौशिक को ‘गद्दार’ बताते हुए विधायक ने पार्टी नेतृत्व से उन्हें पार्टी से बाहर करने का आग्रह भी किया. गुप्ता ने कहा, ‘ मैं अपने नेतृत्व से…..निवेदन करना चाहता हूं कि ऐसे प्रदेश अध्यक्ष को ऐसी राष्ट्रवादी पार्टी में रहने का कोई अधिकार नहीं है. वह गद्दार आदमी है और उसे तत्काल पार्टी से निकाल दिया जाना चाहिए तभी हमारे जैसे कार्यकर्ता इस पार्टी में सुरक्षित रह सकेंगे.’

उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर से भाजपा प्रत्याशी त्रिलोक सिंह चीमा के विधायक पिता हरभरजन सिंह चीमा ने भी पार्टी कार्यकर्ताओं पर ‘भितरघात’ का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

लगभग मिलते-जुलते आरोप चंपावत से पार्टी विधायक कैलाश चंद्र गहतोडी और देहरादून जिले की कैंट सीट से भाजपा प्रत्याशी सविता कपूर ने भी अपने पार्टी कार्यकर्ताओं पर लगाए हैं .

‘अबकी बार-60 पार’ के नारे को लेकर विधानसभा चुनाव में उतरी भाजपा के सूत्रों ने बताया कि सभी पार्टी नेताओं को इस संबंध में सख्त हिदायत जारी कर दी गई है और कहा गया है कि अपनी शिकायतें लेकर सार्वजनिक मंचों पर न जाएं और उन्हें पार्टी फोरम पर ही रखें.

हांलांकि, इस बारे में संपर्क किए जाने पर भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डा. देवेंद्र भसीन ने बताया कि पार्टी ने सभी बातों का संज्ञान लिया है और मामले से पार्टी हाईकमान को अवगत करा दिया गया है .

मतदान के बाद से भाजपा की परेशानियां खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं. गुरुवार को कौशिक के भाजपा की संभावित हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने तथा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की लालसा के चलते प्रदेश में पार्टी के डूबने संबंधी वायरल ‘फर्जी’ ट्वीट से हडकंप मच गया था .

प्रदेश भाजपा के सोशल मीडिया प्रमुख शेखर वर्मा इस मामले में दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज करा चुके हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)