राजनीति

उत्तराखंड चुनाव: डाक मत-पत्रों से कथित छेड़छाड़ के मामले में सेना के पांच जवान तलब

विधानसभा चुनाव राउंड-अप: मणिपुर में पहले चरण की 38 सीटों पर 78.03 प्रतिशत मतदान, दुर्घटनावश गोली चलने से एक पुलिसकर्मी की मौत. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि भाजपा देश की संपत्तियां दो बड़े उद्योगपतियों को बेचने में जुटी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यूपी की गाड़ी अब ‘जात-पात’ की गलियों में अटकने वाली नहीं. अमित शाह का दावा- पांच चरणों में भाजपा को बहुमत, अब 300 पार वाली सरकार बनाने के लिए वोट डालें. यूपी में रघुराज प्रताप सिंह उर्फ ‘राजा भैया’ सहित 18 लोगों के विरुद्ध मारपीट व एससी/एसटी एक्ट का मामला दर्ज.

(फोटो: पीटीआई)

पिथौरागढ़: उत्तराखंड पुलिस ने बीते ​रविवार को पिथौरागढ़ जिले में सेना की एक यूनिट में डाक मत-पत्रों से कथित तौर पर छेड़छाड़ करने वाले कुमांऊ रेजीमेंट के पांच जवानों को चिह्नित किया है. सभी जवानों को एक सप्ताह के भीतर पुलिस के सामने पेश होने को कहा गया है.

पिथौरागढ़ के पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह ने बताया कि कुमांऊ रेजीमेंट के पांच जवानों को पिछले दिनों वायरल हुए उस वीडियो के संबंध में चिह्नित किया गया है, जिसमें कथित तौर पर सेना की वर्दी पहने एक व्यक्ति एक के बाद एक कई डाक मत-पत्रों पर निशान लगाते और दस्तखत करते देखा जा सकता है.

उन्होंने बताया कि चिह्नित किए गए पांच जवानों में से चार वीडियो क्लिप में नजर आ रहे हैं, जबकि पांचवां वह है, जिसे यह वीडियो सबसे पहले भेजा गया.

सिंह ने कहा कि सभी जवानों को एक सप्ताह के भीतर पुलिस के सामने पेश होने को कहा गया है.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि अगर उन्होंने डाक मत-पत्र नष्ट कर दिए हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, लेकिन अगर मत-पत्र मिल जाएंगे तो उन्हें जब्त कर लिया जाएगा.

बीते 22 फरवरी को सेना की वर्दी पहने एक व्यक्ति के कथित तौर पर कई डाक मत-पत्रों पर निशान लगाने और दस्तखत करने संबंधी वीडियो को मंगलवार को ट्विटर पर साझा करते हुए कांग्रेस महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा था कि क्या चुनाव आयोग इसका संज्ञान लेना चाहेगा?

बाद में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने राज्य की मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या से मिलकर चुनाव आयोग से इस संबंध में औपचारिक शिकायत दर्ज कराते हुए मामले की जांच का आग्रह किया था.

इस बीच मामले में प्राथमिकी दर्ज कराने वाले डीडीहाट से कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप पाल ने दोषियों के खिलाफ भारतीय सेना की ​छवि को धूमिल करने के लिए कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

इससे पहले बीते 26 फरवरी को उत्तराखंड भाजपा ने कांग्रेस से मांग की थी कि वह डाक मत-पत्र से कथित तौर पर छेड़छाड़ के ‘फर्जी’ वीडियो को लेकर सार्वजिनक तौर पर माफी मांगे.

उत्तराखंड भाजपा के मीडिया प्रभारी मानवीर चौहान ने देहरादून में जारी बयान में कहा था, ‘कुमाऊं रेजीमेंट के अधिकारी ने निर्वाचन आयोग को भेजे जवाब में कहा है कि वीडियो पिथौरागढ़ में तैनात सेना की किसी टुकड़ी का नहीं है.’

बीते 24 फरवरी को इस वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी से इस पर जल्द से जल्द रिपोर्ट मांगी थी. इस वीडियो के सामने आने के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और प्रदेश पार्टी अध्यक्ष मदन कौशिक सहित कई भाजपा नेताओं ने इसे ‘फर्जी’ करार दिया था.


मणिपुर विधानसभा चुनाव


पहले चरण की 38 सीट पर 78.03 फ़ीसदी मतदान, गोली चलने से पुलिसकर्मी की मौत

इम्फाल: मणिपुर में विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 38 सीटों के लिए सोमवार को पहले चरण के चुनाव में शाम पांच बजे तक 12.09 लाख मतदाताओं में से 78.03 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. मतदान के दौरान हिंसा की छिटपुट घटनाएं भी सामने आई हैं.

मणिपुर विधानसभा चुनाव के पहले चरण के दौरान वोट डालने के लिए पहचान पत्र लिए खड़ी कतार में खड़ी महिलाएं. (फोटो साभार: ट्विटर/@SpokespersonECI)

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) राजेश अग्रवाल ने बताया कि विधानसभा चुनाव ड्यूटी में तैनात एक पुलिसकर्मी की उसकी सर्विस रायफल से ‘दुर्घटनावश गोली चल जाने’ से मौत हो गई.

उन्होंने बताया कि घटना चूराचांदपुर जिले के तिपाईमुख विधानसभा क्षेत्र की है. पुलिसकर्मी की पहचान नाओरेम इबोचोउबा के तौर पर की गई है. वह काकचिंग जिले के रहने वाले थे.

अग्रवाल ने पुलिसकर्मी के निधन पर शोक व्यक्त किया और कहा कि शव को हवाई मार्ग से इंफाल भेजा गया है, जहां सरकारी अस्पताल में पोस्टमॉर्टम होगा.

इसके अलावा पुलिस ने बताया कि चूराचांदपुर जिले के सुदूर इलाके में दो राजनीतिक दलों के बीच झड़प में एक व्यक्ति घायल हो गया.

निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि झड़प में एक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन क्षतिग्रस्त हो गई, उसे बदल दिया गया था.

निर्वाचन आयोग द्वारा दोपहर तीन बजे तक उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, कांगपोकपी जिले में सबसे अधिक 76.74 प्रतिशत मतदान हुआ. इम्फाल वेस्ट जिले में 70.21 प्रतिशत, जबकि इम्फाल ईस्ट में 65.81 प्रतिशत मतदान हुआ.

अधिकारियों ने कहा कि पहले चरण में मतदान प्रतिशत 2017 के विधानसभा चुनाव में हुए 86 प्रतिशत मतदान से अधिक निकल सकता है.

मणिपुर में पांच जिलों की 38 सीटों के लिए मतदान सुबह सात बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और कोविड-19 संबंधी दिशानिर्देशों के पालन के बीच शुरू हुआ. इन सीटों के लिए 15 महिलाओं सहित कुल 173 उम्मीदवार मैदान में हैं.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजेश अग्रवाल ने कहा था कि कुल 173 उम्मीदवारों में से 39 का आपराधिक इतिहास रहा है.

मतदान शुरू होने के करीब आधे घंटे के भीतर राज्यपाल ला गणेशन और मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में वोट डाला.

इम्फाल वेस्ट जिले के सगोलबंद निर्वाचन क्षेत्र में टीजी उच्च माध्यमिक विद्यालय में बने मतदान केंद्र में वोट डालने के बाद राज्यपाल गणेशन ने मणिपुर के सभी पात्र मतदाताओं से अपने मताधिकारों का इस्तेमाल करने की अपील की.

मुख्यमंत्री सिंह और उनकी पत्नी ने इम्फाल ईस्ट जिले के हिंगांग निर्वाचन क्षेत्र में एक ‘मॉडल’ मतदान केंद्र में वोट डाला. मुख्यमंत्री ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है.

प्रमुख उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष वाई. खेमचंद सिंह, उपमुख्यमंत्री एवं एनपीपी उम्मीदवार युमनाम जॉयकुमार और मणिपुर कांग्रेस अध्यक्ष एन. लोकेश सिंह शामिल हैं.

कुल 38 सीटों में से, 10 निर्वाचन क्षेत्र इम्फाल ईस्ट में, 13 इम्फाल वेस्ट में, बिष्णुपुर और चूराचांदपुर में छह-छह और कांगपोकपी जिले में तीन सीटें हैं. नौ सीटें अनुसूचित जनजाति और एक अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं.


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव


भाजपा देश की संपत्तियां दो बड़े उद्योगपतियों को बेचने में जुटी है: प्रियंका गांधी

कुशीनगर/बलिया: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने केंद्र और उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा पर रोजगार देने वाली देश की संपत्तियां दो बड़े उद्योगपतियों को बेचने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि भाजपा को यह मालूम है कि उसे जाति और धर्म के आधार पर वोट मिल जाएंगे और कोई उससे सवाल नहीं पूछेगा.

प्रियंका गांधी. (फोटो साभार: ट्विटर)

प्रियंका ने कुशीनगर के तमकुहीराज क्षेत्र में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा में कहा कि देश में आम तौर पर रोजगार या तो कृषि क्षेत्र से आता है या फिर मझोले कारोबारियों से.

उन्होंने कहा कि इसके अलावा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों जैसे कि भेल, आईटीआई, रेलवे इत्यादि से भी रोजगार के अवसर मिलते हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने कार्यकाल के दौरान इन उपक्रमों को मजबूत किया, लेकिन भाजपा इन्हें उन दो बड़े उद्योगपतियों को बेचने में जुटी है, जो इस पार्टी को भारी रकम देते हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार जान-बूझकर लोगों को रोजगार से वंचित रख रही है, क्योंकि वह जानती है कि लोग उससे सवाल नहीं करेंगे. प्रियंका ने कहा कि उसे पता है कि चुनाव में जाति धर्म के नाम पर उसे वोट मिल जाएंगे इसलिए वह जो चाहेगी कर सकती है.

प्रियंका ने कहा, ‘केंद्र की भाजपा सरकार ने हवाई अड्डे, बंदरगाह तथा कई अन्य उपक्रमों को बेच डाला है. आखिर केंद्र और राज्य सरकारें किसके लिए काम कर रही हैं और किसके लिए नीतियां बना रही हैं. एक तरफ वे लोगों को रोजगार देने का दावा कर रही हैं वहीं दूसरी ओर रोजगार देने वाले हर क्षेत्र को बेच रही हैं.’

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में 12 लाख सरकारी पद खाली पड़े हैं, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उन्हें भरने में नाकाम रहे हैं. आज जब चुनाव है तो वे झूठा दावा करते हैं कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने चार लाख से ज्यादा युवाओं को नौकरी दी है.

जनसभा से पहले प्रियंका ने कुशीनगर के साथ-साथ बलिया में भी रोड शो किया.

प्रियंका ने बलिया के बांसडीह कस्बे में रोड शो करने के बाद संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को उत्साहवर्धक परिणाम मिलने की उम्मीद है.

उन्होंने कहा, ‘विधानसभा चुनाव के पहले चार चरणों के दौरान कांग्रेस का प्रदर्शन अच्छा रहा है. हम काफी वर्षों बाद 400 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं. हमारे उम्मीदवार अच्छा लड़ रहे हैं. कई सीटों पर वह मजबूती से लड़ रहे हैं.’

विधानसभा चुनाव के बाद सरकार बनाने के लिए किसी दल को समर्थन देने के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस महासचिव ने कहा कि इसके बारे में परिणाम आने के बाद विचार किया जाएगा.

यूपी की गाड़ी अब ‘जात-पात’ की गलियों में अटकने वाली नहीं: मोदी

बलिया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को विपक्षी दलों का नाम लिए बिना कहा कि उत्तर प्रदेश में पांच चरण के चुनाव हो चुके हैं, जिसमें पश्चिम से पूरब तक घोर परिवारवादियों को जनता ने नकार दिया है.

उत्तर प्रदेश की एक चुनावी सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो साभार: ट्विटर)

सोमवार को बलिया जिले में एक चुनावी रैली में महर्षि भृगु को कोटि-कोटि प्रणाम करते हुए मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी में लोगों का अभिवादन करते हुए कहा, ‘माता, बहिन, बड़-बुजुर्ग सब कर गोड़ लागत बानि (माताओं, बहनों, बड़े बुजुर्गों को पैर छूकर प्रणाम कर रहा हूं).’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘यूपी में पांच चरण के चुनाव हो चुके हैं, पश्चिम से पूरब तक घोर परिवारवादियों को जनता ने नकार दिया है, यूपी के लोगों ने बता दिया है कि यूपी की गाड़ी अब जात-पात की गलियों में अटकने वाली नहीं है.’

उन्होंने बताया कि इसने विकास के हाइवे पर रफ्तार भर ली है और जाति से ऊपर उठकर राष्ट्रहित का सम्मान और परिवारवाद का विरोध यही तो बलिया की परिभाषा है.

उन्होंने कहा, ‘बलिया, पूर्वांचल का विकास और यूपी का विकास मेरा कर्तव्‍य और मेरी प्राथमिकता है, यूपी ने मुझे बहुत कुछ दिया है और इस धरती की संतान के नाते गरीब से गरीब की सेवा का संकल्प लेकर चल पड़ा हूं.’

उल्लेखनीय है कि बलिया में 2017 के चुनाव में सात विधानसभा सीटों में पांच सीटों पर भाजपा को जीत मिली थी, जबकि बांसडीह से राम गोविंद चौधरी (विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष) और रसड़ा से उमाशंकर सिंह (विधानसभा में बसपा के दल नेता) चुनाव जीते थे.

बैरिया विधानसभा क्षेत्र से पिछली बार भाजपा से चुनाव जीते सुरेंद्र सिंह इस बार टिकट न मिलने पर विद्रोही होकर विकासशील इंसान पार्टी से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि पिछली बार बलिया से चुनाव जीते राज्‍य मंत्री आनंद स्‍वरूप शुक्ला का क्षेत्र बदलकर उन्हें बैरिया से मैदान में भाजपा ने उतारा है.

बलिया में आनंद स्‍वरूप की जगह पार्टी ने इस बार राज्‍य मंत्री स्‍वाति सिंह के पति और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह को प्रत्याशी बनाया है. इस समय बलिया जिले में राजनीतिक दांव-पेंच के बीच जातीय गोलबंदी की भी खूब अटकलें हैं.

मोदी ने आजादी की लड़ाई में बलिया के योगदान की चर्चा करते हुए कहा, ‘ये मेरा सौभाग्य है कि आप इतनी बड़ी संख्या में यहां हम सबको आशीर्वाद देने के लिए आए हैं. यह प्यार और आशीर्वाद कभी भूल नहीं सकता, आपके प्यार और आशीर्वाद को ब्याज समेत लौटाऊंगा और विकास करके लौटाऊंगा.’

मोदी ने यह भी कहा कि आप सबने मुझे इतना प्‍यार दिया है कि उसका कर्ज उतार नहीं सकता. बलिया से मेरा एक भावुक रिश्‍ता यह भी है कि यहीं पर मैंने माताओं-बहनों की जिंदगी बदलने वाली उज्‍ज्‍वला योजना की शुरुआत की थी.

उन्होंने कहा कि ये धरती जननायक चंद्रशेखर जी की भूमि है, चंद्रशेखर जी को गर्व था कि वे चित्तू पांडेय की धरती से जुड़े हैं. उन्होंने कहा कि बलिया का गहरा संबंध लोकनायक जयप्रकाश नारायण और साहित्यकार हजारी प्रसाद द्विवेदी जी से भी रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं इन सभी विभूतियों को श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं.

सभा को केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने भी संबोधित किया. सांसद नीरज शेखर ने अंग वस्त्र तथा सांसद रवींद्र कुशवाहा और वीरेंद्र मस्‍त ने मोदी को प्रतीक चिह्न भेंट किया.

भाजपा सरकार की कथनी और करनी में अंतर, आंकड़े किताबी: कांग्रेस

लखनऊ: कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने सोमवार को उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा को आड़े हाथ लेते हुए दावा किया कि उसकी कथनी और करनी में अंतर है तथा उसके आंकड़े किताबी हैं.

पवन खेड़ा (फोटो साभारः ट्विटर)

खेड़ा ने लखनऊ​ स्थित प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि यूक्रेन में हजारों भारतीय फंसे हुए हैं, जिनमें से 1,173 लोग केवल उत्तर प्रदेश से हैं.

उनके मुताबिक, भारतीय दूतावास ने कहा कि भारतीय पोलैंड की सीमा पर जाएं, वहां से उन्हें भारत ले जाने की व्यवस्था की जा रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि जब लोग पोलैंड की सीमा पर पहुंचे, तो दूतावास में फोन ही नहीं उठाया गया.

उन्होंने कहा, ‘यह कितना हास्यास्पद है कि जिस सरकार को अपने बच्चों और नागरिकों की फ्रिक न हो, वह विश्व गुरु बनने का सपना देख रही है.’

कांग्रेस प्रवक्ता ने राज्य सरकार के दावों को झूठा बताते हुए सवाल किया, ‘क्या क्या भूले उत्तर प्रदेश? गोरखपुर में ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद होने से सैकड़ों बच्चों की मौत, गंगा नदी में बहती हजारों लाशें, सरकार की नासमझी के कारण हजारों किलोमीटर पैदल चलते प्रवासी या काशी विश्वविद्यालय में यौन उत्पीड़न का विरोध करती बच्चियों पर बरसती लाठियां… आखिर क्या भूला जाए?’

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता इसे भूल नहीं सकती.

खेड़ा ने कहा कि नौजवानों के मस्तिष्क में जो नफरत बोई जा रही है, उसके लिए प्रदेश सरकार को आने वाली पीढ़ियां माफ नहीं करेंगी.

पांच चरणों में भाजपा को बहुमत, अब 300 पार वाली सरकार बनाने के लिए वोट डालें: शाह

कुशीनगर/संतकबीरनगर: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को दावा किया कि उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में पांच चरणों के चुनाव में भाजपा ने बहुमत के बराबर सीटें प्राप्त कर ली हैं और अब छठे और सातवें चरण में मतदाताओं को 300 पार वाली सरकार बनाने के लिए वोट डालना है.

अमित शाह. (फोटो साभार: ट्विटर)

कुशीनगर और संतकबीरनगर में आयोजित चुनावी जनसभाओं में शाह ने कहा कि प्रदेश के पांच चरणों के चुनाव में भाजपा ने बहुमत के बराबर सीटें प्राप्त कर ली है और छठे और सातवें चरण में मतदाताओं ने 300 पार वाली सरकार बनाने के लिए वोटिंग करनी है.

उन्होंने पिछली सरकारों में ‘बुआ और भतीजा’ (मायावती और अखिलेश यादव) पर उत्तर प्रदेश को जाति के आधार पर विभाजित करने का आरोप लगाते हुए सपा और बसपा दोनों पर निशाना साधा और कहा कि अगर एक सरकार सत्ता में आएगी तो एक जाति के लिए काम करेगी और दूसरी आई तो दूसरी जाति के लिए काम करेगी.

शाह ने कहा कि भाजपा की सरकारों ने सबका साथ-सबका विकास के मंत्र के साथ काम किया.

शाह ने कहा कि भाजपा सरकार बना दो और भाजपा सरकार बनने के बाद यूपी में किसी भी किसान को बिजली का बिल नहीं भरना पड़ेगा.

उन्होंने कहा कि बिजली मुफ्त मिलेगी, गरीबों की बच्चियों को उच्च शिक्षा के लिए मुफ्त में स्कूटी, उच्‍च शिक्षा के छात्रों को टैबलेट और स्मार्टफोन देने का वादा किया.

कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की चर्चा करते हुए शाह ने अखिलेश के ‘भाजपा टीका’ वाले बयान का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि अगर यूपी के लोग अखिलेश जी के बहकावे में आकर टीका न लगवाते, तो क्या कोरोना के तीसरी लहर में बच पाते.

उन्होंने कहा कि रात के अंधेरे में अखिलेश यादव ने खुद ही टीका लगवा लिया. गृह मंत्री ने तंज किया कि ये कैसे नेता हैं, जो अपने राजनीतिक स्वार्थ की पूर्ति के लिए जनता को बहकाने का काम करते हैं.

शाह ने खुद को वर्ष 2013 में यूपी का प्रभारी बनाये जाने के बाद राजनीतिक बदलावों की चर्चा करते हुए कहा कि 2014 में उत्‍तर प्रदेश ने 80 में से 73 सीटें भाजपा की झोली में डालकर पहली बार किसी गैर कांग्रेसी दल को बहुमत से ज्यादा सीटें जिताई थीं और मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाया था.

कुशीनगर और संतकबीरनगर के विधानसभा क्षेत्रों में छठे चरण में तीन मार्च को मतदान होगा.

पूर्व मंत्री ‘राजा भैया’ सहित 18 लोगों के विरुद्ध मारपीट व एससी/एसटी एक्ट का मामला दर्ज

प्रतापगढ़: प्रतापगढ़ जिले के थाना कोतवाली कुंडा पुलिस ने सपा के पोलिंग एजेंट के साथ हुई मारपीट के मामले में पूर्व मंत्री और कुंडा से उम्‍मीदवार रघुराज प्रताप सिंह उर्फ ‘राजा भैया’ समेत 18 लोगों के खिलाफ मारपीट व अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम (एससी-एसटी एक्‍ट) के तहत मामला दर्ज किया है.

Lucknow: UP Independent MLA Raghuraj Pratap Singh alias Raja Bhaiya announces the formation of a new political party at a press conference, in Lucknow, Friday, Nov. 16, 2018. (PTI Photo/Nand Kumar)(PTI11_16_2018_000045B)

रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया. (फाइल फोटो: पीटीआई)

पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल ने सोमवार को बताया कि मतदान के दिन रविवार 27 फरवरी को राकेश कुमार पासी रैयापुर मतदान केंद्र पर सपा प्रत्याशी गुलशन यादव के एजेंट थे, जिसने तहरीर देकर आरोप लगाया है कि बूथ संख्या-209 रैयापुर पर जनसत्ता दल के एजेंट टिंकू सिंह ने फोन कर बोला कि राकेश को बूथ से हटाओ नहीं तो बूथ कैप्चरिंग नहीं हो पाएगी.

अंतिल ने कहा कि शिकायत के मुताबिक, कुछ समय बाद रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया, सुभाष सिंह और गोपाल केसरवानी अपने दर्जनों समर्थकों के साथ आए और उसे (राकेश को) गाडी में भर कर ले गए तथा बहुत मारा-पीटा जिससे उसका सिर फट गया.

पुलिस ने तहरीर के आधार पर सुसंगत धाराओं के तहत रघुराज प्रताप सिंह समेत 18 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है.

उत्तर प्रदेश में अब किसी परिवार का नहीं बल्कि कानून का राज: नड्डा

जौनपुर/मिर्जापुर: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सपा पर आतंकवादियों और माफिया तत्वों को प्रश्रय देने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में अब कानून का राज चलता है, किसी परिवार या व्यक्ति विशेष का नहीं.

जेपी नड्डा. (फोटो साभार: ट्विटर)

नड्डा ने जौनपुर और मिर्जापुर में भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में आयोजित चुनावी सभाओं को संबोधित किया.

उन्होंने आरोप लगाया कि सपा मुखिया अखिलेश यादव अपने मुख्यमंत्रित्व काल में आतंकवादियों को संरक्षण देते थे. उन्होंने कहा कि उनके मुकदमें वापस लेते थे, लेकिन वर्ष 2017 में प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद ऐसे तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हुई है.

नड्डा ने दावा किया कि प्रदेश में अब कानून का राज चलता है, किसी परिवार या व्यक्ति विशेष का नहीं.

भाजपा अध्यक्ष ने दावा किया, ‘अपने कार्यों का रिपोर्ट कार्ड जनता के बीच लेकर जाने की ताकत भाजपा के सिवा किसी और दल के नेताओं में नहीं है. जो कहा था, वो किया है. जो कहेंगे, वो करेंगे, ये ताकत सिर्फ भाजपा में है. गांव, गरीब, वंचित, पीड़ित, शोषित, समाज के अंतिम पायदान पर खड़ा व्यक्ति, महिलाएं, युवा, किसान की चिंता करने वाली अगर कोई पार्टी है तो वह भाजपा है.’

भाजपा शासनकाल में मझवा में हुए विकास की चर्चा करते हुए नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मझवा में 42,000 आवास बने हैं और 67,000 लोगों को बिजली का कनेक्शन दिया गया है जिन्हें 24 घंटे बिजली मिलती है.

गरीबों को मुफ्त में खाद्यान्न योजना देने की चर्चा करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘हम भाषण नहीं देते. हम राशन पहुंचाते हैं और योगी जी ने तो राशन के साथ ही नमक, तेल और चना भी उपलब्ध कराया है, जिससे गरीबों को भरपूर पोषण मिले.’

आयुष्मान योजना की चर्चा करते हुए नड्डा ने कहा कि लोग पहले विधायक और सांसद मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर राहत सहायता कोष से इलाज के लिए धन उपलब्ध करवाने के लिए गुहार लगाते थे और अब इस योजना से किसी के पास दौड़ने की जरूरत नहीं है.

उन्होंने कहा कि कार्ड के माध्यम से पांच लाख रुपये तक का इलाज हो जाता है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)