भारत

गोवा: पणजी से विजयी भाजपा प्रत्याशी बोले- पार्टी ने नहीं की मदद, यह मेरी ख़ुद की जीत

भाजपा के आतानासियो मोनसेरेट ने पणजी सीट से मनोहर पर्रिकर के बेटे और निर्दलीय उम्मीदवार उत्पल पर्रिकर को 674 वोटों से हराया है. मोनसेरेट साल 2019 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे. जीत के बाद उन्होंने कहा कि ‘यह पार्टी की जीत नहीं है, मेरी जीत है. पार्टी मेरे साथ नहीं खड़ी थी.’

भाजपा विधायक अतानासियो मोनसेरेट (फोटोः एएनआई)

पणजीः गोवा विधानसभा चुनाव में पणजी सीट से भाजपा के टिकट पर जीत दर्ज करने वाले अतानासियो मोनसेरेट ने कहा कि यह उनकी खुद की जीत है, क्योंकि पार्टी ने उनकी कोई मदद नहीं की.

निर्दलीय उम्मीदवार उत्पल पर्रिकर को 674 मतों से हराने वाले मोनसेराटे ने कहा, ‘यह पार्टी की जीत नहीं है. यह मेरी जीत है. पार्टी मेरे साथ नहीं खड़ी थी, इसने कभी किसी तरह के नुकसान की भरपाई करने का काम नहीं किया.’

उन्होंने कहा, भाजपा कार्यकर्ताओं ने मेरे लिए काम नहीं किया बल्कि विपक्ष के उम्मीदवार के लिए किया. मैं भाजपा और कांग्रेस से लड़ा. कुछ कार्यकर्ताओं और समर्थकों के समर्थन से हम सीट बचाने में सफल रहे.

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने मुझे पार्टी में स्वीकार नहीं किया. मैं इसे इस तरह देखता हूं.’

उन्होंने कहा कि पणजी में भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें स्वीकार नहीं किया, लेकिन पणजी के लोग उनके साथ खड़े रहे.

बता दें कि मोनसेरेट साल 2019 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे.

मालूम हो कि पणजी सीट से भाजपा का टिकट नहीं मिलने के बाद उत्पल पर्रिकर ने निर्दलीय चुनाव लड़ा था. उनके दिवंगत पिता और पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी इस सीट का प्रतिनिधित्व किया था.

गोवा विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 20 सीटों जबकि कांग्रेस ने 11 सीटों पर जीत दर्ज की. आम आदमी पार्टी को दो, गोवा फॉरवर्ड पार्टी को एक, महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी को दो, रिवोल्यूशनरी गोअन्स पार्टी को एक और निर्दलीयों ने तीन सीटों पर जीत दर्ज की है.

हालांकि, राज्य में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला. 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 21 है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)