राजनीति

एमपी: उमा भारती ने शराबबंदी के लिए भोपाल में शराब की दुकान पर फेंका पत्थर

मध्य प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की मांग कर रहीं भाजपा नेता उमा भारती भोपाल के आज़ाद नगर स्थित एक शराब की दुकान में घुसीं और पूरी ताकत के साथ पत्थर फेंककर वहां रैक में रखी शराब की कुछ बोतलों को फोड़ दिया. भाजपा ने उनकी कार्रवाई से ख़ुद को दूर कर लिया हैं. पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि यह उनका निजी अभियान है, जो वह राज्य में शराबबंदी के लिए चला रही हैं.

मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता उमा भारती. (फोटो: पीटीआई)

भोपाल: मध्य प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी की मांग कर रहीं वरिष्ठ भाजपा नेता उमा भारती बीते रविवार को भोपाल के आजाद नगर स्थित एक शराब की दुकान में घुसीं और पूरी ताकत के साथ पत्थर फेंककर वहां रैक में रखी शराब की कुछ बोतलों को फोड़ दिया.

उम भारती ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस घटना का एक वीडियो साझा किया है, जो सोशल मीडिया पर अन्य लोगों द्वारा साझा किया गया. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने इस कृत्य के माध्यम से स्थानीय प्रशासन को एक सप्ताह के भीतर शराब की दुकान बंद करने की चेतावनी दी है.

मध्य प्रदेश में भाजपा सरकार ने हाल ही में एक नई आबकारी नीति बनाई है, जिसके तहत उसने होम बार स्थापित करने की अनुमति दी है और शराब की खुदरा कीमतों में 20 प्रतिशत की कमी की है.

भारती ने शराब की दुकान पर पत्थर फेंकने का एक वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर भी डाला है, जिसमें दिख रहा है कि वह कुछ लोगों के साथ एक पत्थर लेकर दुकान में जाती हैं. इसके बाद वह वहां रैक में पड़ी शराब की बोतलों पर इस पत्थर को पूरी ताकत के साथ फेंकती हैं, जिससे वहां रखी कुछ शराब की बोतलें टूट जाती हैं. इसके बाद वह वहां से बाहर आ जाती हैं.

भारती ने इसका वीडियो अपने ट्विटर हैंडल पर अपलोड कर लिखा, ‘बरखेड़ा पठानी, आजाद नगर, बीएचईएल भोपाल में मजदूरों की बस्ती में शराब की दुकानों की श्रृंखला है, जो एक बड़े आहाता में लोगों को शराब परोसते हैं.’

उन्होंने आगे लिखा, ‘यह मजदूरों की बस्ती है. पास में मंदिर हैं. छोटे बच्चों के स्कूल हैं. जब लड़कियां और महिलाएं छतों पर खड़ी होती हैं तो शराब पिए हुए लोगों के कारण उनको लज्जित होना पड़ता है.’

उन्होंने कहा कि आज उन्होंने प्रशासन को एक हफ्ते के अंदर दुकान और आहाता बंद करने की चेतावनी दी है.

इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट करके कहा कि मध्य प्रदेश में शराबबंदी अभियान शुरू करने की तीन-तीन बार तारीख देकर गायब रहीं प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती अब शराब की दुकान में खुद पत्थर बरसा रही हैं.

उन्होंने पूछा कि अब क्या उमा भारती पत्थर उठाकर शराबबंदी करवाएंगी? उन्होंने कहा कि एक पूर्व मुख्यमंत्री को अपनी सरकार में यह सब करना पड़े, तो समझा जा सकता है.

सलूजा ने कहा कि भारती ने शराब की दुकान पर पत्थर फेंककर प्रदेश की जनता को यह संदेश तो दे दिया है कि शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में प्रदेश शराबी प्रदेश बन चुका है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में शराब की दुकानें दोगुनी हो गई हैं.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, भाजपा ने भारती की कार्रवाई से खुद को दूर कर लिया है. राज्य के प्रवक्ता हितेश बाजपेयी ने एक वीडियो में कहा, ‘यह उनका निजी अभियान है, जो वह राज्य में शराबबंदी के लिए चला रही हैं.’

उन्होंने कहा, ‘उनके इस कदम का भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है, क्योंकि पार्टी शराब के खिलाफ ऐसा कोई अभियान नहीं चला रही है.’

घटना से तीन दिन पहले 10 मार्च को भारती ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात कर शराबबंदी की मांग की थी.

बैठक के बाद सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए चौहान ने कहा था, ‘मैंने उमा भारती जी से शराब और नशे को लेकर बात की है. मैंने आग्रह किया है कि मध्य प्रदेश को शराब मुक्त बनाने के लिए राज्य सरकार, जन-प्रतिनिधियों, नागरिकों और सामाजिक समूहों को जन-जागरूकता अभियान चलाना चाहिए और वह इनका समर्थन करें.’

भारती ने हाल ही में घोषणा की थी कि वह शराब की दुकानों के बाहर धरना शुरू करेंगी.

पिछले साल उन्होंने घोषणा की थी कि अगर राज्य 15 जनवरी तक शराब पर प्रतिबंध नहीं लगाता है तो वह लाठी के साथ सड़क पर उतरेंगी.

इस समय सीमा के दो दिन बाद मध्य प्रदेश सरकार ने विदेशी शराब पर उत्पाद शुल्क में 10-13 प्रतिशत की कटौती की, जिससे यह सस्ती हो गई. फिलहाल राज्य में इस समय 2,544 देशी शराब और 1,061 विदेशी शराब की दुकानें हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)