भारत

एमपी: खरगोन में कर्फ्यू में कोई ढील नहीं, घरों में ही ईद और अक्षय तृतीया मनाने को कहा गया

मध्य प्रदेश के खरगोन शहर में बीते 10 अप्रैल को रामनवमी के जुलूस के दौरान हिंसा हुई थी, जिसके बाद शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया. ढील न दिए जाने के संबंध में एक अधिकारी ने कहा कि खरगोन में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और शहर के सभी धार्मिक स्थल मंगलवार को बंद रहेंगे.

(प्रती​कात्मक फोटो साभार: फेसबुक)

भोपाल/खरगोन: मध्य प्रदेश के हिंसा प्रभावित शहर खरगोन में प्रशासन ने मंगलवार को कर्फ्यू में ढील नहीं देने का फैसला किया है और लोगों से ईद-उल-फितर एवं अक्षय तृतीया का त्योहार घर पर ही मनाने के लिए कहा है.

खरगोन में 10 अप्रैल को रामनवमी के जुलूस के दौरान हिंसा हुई थी, जिसके बाद शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया था.

एक अधिकारी ने कहा कि खरगोन में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और शहर के सभी धार्मिक स्थल मंगलवार को बंद रहेंगे.

उपमंडल दंडाधिकारी मिलिंद ढोके ने सोमवार रात को पत्रकारों से कहा कि शहर में शांति और कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए मंगलवार को कर्फ्यू में कोई ढील नहीं दी जाएगी.

उन्होंने बताया कि सभी समुदायों के लोग अपने घरों में त्योहार मनाने के लिए सहमत हो गए हैं.

उन्होंने बताया कि इससे पहले प्रशासन ने दो और तीन मई को 24 घंटे के कर्फ्यू की घोषणा की थी, लेकिन सोमवार को नौ घंटे के लिए इसमें ढील दी गई.

रविवार रात इंदौर के संभागीय आयुक्त पवन शर्मा और पुलिस महानिरीक्षक राकेश गुप्ता ने खरगोन पहुंचकर अधिकारियों के साथ बैठक की थी.

खरगोन के प्रभारी पुलिस अधीक्षक (एसपी) रोहित काशवानी ने पत्रकारों को बताया कि शहर में सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करने के लिए चलित इकाइयों सहित अतिरिक्त बलों को तैनात किया गया है.

उन्होंने बताया कि शहर में स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे और 171 सीसीटीवी लगाए गए हैं, साथ ही कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के लिए अस्थायी जेल भी बनाई गई हैं.

उन्होंने कहा कि मंगलवार को सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे तथा शहर में फ्लैग मार्च किया गया है. उन्होंने कहा कि दमकल और एंबुलेंस जैसी आपातकालीन सेवाओं को भी तैयार रहने के लिए कहा गया है.

मुस्लिम समुदाय के पवित्र माह रमजान की समाप्ति पर ईद-उल-फितर देश भर में मंगलवार को मनाया जा रहा है.

नए उद्यम, विवाह और सोने में निवेश की शुरुआत के लिए शुभ माना जाने वाला अक्षय तृतीया का त्योहार और परशुराम जयंती भी मंगलवार को मनाई जा रही है.

बता दें कि खरगोन में 10 अप्रैल को रामनवमी पर​ निकाले गए धार्मिक जुलूस के दौरान हुई हिंसा में दुकानों, घरों एवं वाहनों को नुकसान पहुंचाया गया था. इसके बाद पूरे शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया था.

स्थानीय प्रशासन 14 अप्रैल से कुछ घंटों के लिए कर्फ्यू में ढील दे रहा है. अब तक इस हिंसा में एक मौत की भी पुष्टि हो चुकी है. वहीं, शासन-प्रशासन ने मामले में आरोपी बनाए लोगों के मकानों को अतिक्रमण बताकर गिरा दिया है.

इस हिंसा में खरगोन के पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ चौधरी को पैर में गोली लगी थी, वह फिलहाल छुट्टी पर हैं और उनका इलाज चल रहा है.

जिला प्रशासन के आदेश के अनुसार, कर्फ्यू में ढील स्थानीय अनाज मंडी, पेट्रोल पंपों और सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) की दुकानों से मिट्टी के तेल की बिक्री के लिए लागू नहीं होगी, केवल दूध, सब्जियों, दवाओं की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है, लेकिन धार्मिक स्थल बंद रहेंगे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)