भारत

बंगाल: ममता और अभिषेक बनर्जी की आलोचना में ‘अपशब्द’ कहने वाला ब्लॉगर गिरफ़्तार

आरोप है कि ब्लॉगर रोड्डुर रॉय ने फेसबुक लाइव में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके भतीजे टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल किया था. उन्होंने अपने लाइव के दौरान सत्तारूढ़ पार्टी पर दिवंगत गायक केके के अंतिम कार्यक्रम के दौरान कुप्रबंधन का आरोप लगाया था.

रोड्डुर रॉय और ममता बनर्जी. (फोटो: फेसबुक और पीटीआई)

कोलकाता: कोलकाता पुलिस के एक दल ने फेसबुक के जरिये अपने लाइव संबोधन के दौरान बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके भतीजे, टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी की आलोचना में ‘अपशब्दों’ का इस्तेमाल करने के आरोप में गोवा से ब्लॉगर रोड्डुर रॉय को मंगलवार दोपहर को गिरफ्तार किया. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी.

पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘उन्हें गोवा में हमारे अधिकारियों ने गिरफ्तार किया. उन्हें ट्रांजिट रिमांड पर कोलकाता लाया जाएगा. हमारे अधिकारी उसे रिमांड के लिए वहां की एक स्थानीय अदालत में पेश करेंगे.’

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रवक्ता रिजू दत्ता द्वारा शनिवार (4 जून) को चितपुर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद ब्लॉगर के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की गई थी.

अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में व्यापक रूप से अपशब्दों का इस्तेमाल करने को लेकर रॉय अक्सर विवादों में रहते हैं.

रॉय ने मुख्यमंत्री और डायमंड हार्बर के सांसद के अलावा फ़िरहाद हकीम और मदन मित्रा जैसे अन्य टीएमसी नेताओं के लिए भी अपशब्दों का इस्तेमाल करते हुए सत्तारूढ़ पार्टी को यहां नजरूल मंच में गायक केके के अंतिम संगीत कार्यक्रम में कुप्रबंधन का आरोप लगाया था.

मालूम हो कि गायक यहां के एक सभागार में अपने परफॉरमेंस के तुरंत बाद गिर गए थे और अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था.

रॉय के फेसबुक के जरिये संबोधन वाले वीडियो को अधिकारियों ने सोशल नेटवर्किंग साइट से हटा दिया है.

इस बीच, भाजपा नेता अनुपम हाजरा ने इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जानना चाहा कि पुलिस ने ब्लॉगर के खिलाफ तब कोई कार्रवाई क्यों नहीं की, जब उसने रवींद्रनाथ टैगोर जैसे दिग्गजों के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया.

उन्होंने कहा, ‘अब जब मुख्यमंत्री और अभिषेक बनर्जी के साथ दुर्व्यवहार किया गया, तो पुलिस हरकत में आई. ऐसा क्यों होना चाहिए?’

बता दें कि अप्रैल 2012 में कोलकाता पुलिस ने जादवपुर विश्वविद्यालय के रसायन विज्ञान के प्रोफेसर अंबिकेश महापात्रा को मुख्यमंत्री के एक कार्टून वाले ईमेल को कथित रूप से लोगों को भेजने (फॉरवर्ड) के आरोप में गिरफ्तार किया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)