राजनीति

उपचुनाव: उत्तर प्रदेश की रामपुर और आज़मगढ़ लोकसभा सीटें भाजपा ने जीतीं, पंजाब में आप की हार

देश के विभिन्न राज्यों में लोकसभा की तीन और विधानसभा की सात सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजों में भाजपा को कुल पांच सीट पर जीत मिली, जिनमें दो लोकसभा और तीन विधानसभा की सीटें हैं. पंजाब की संगरूर लोकसभा सीट शिरोमणि अकाली दल ने जीती. आंध्रप्रदेश, झारखंड और दिल्ली की एक-एक विधानसभा सीट पर क्रमश: वाईएसआर कांग्रेस, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी को जीत मिली. त्रिपुरा की चार विधानसभा सीटों में से तीन भाजपा और एक कांग्रेस ने जीती.

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: देश के विभिन्न राज्यों में लोकसभा की तीन और विधानसभा की सात सीट पर हुए उपचुनाव के रविवार को घोषित नतीजों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकसभा की दो और विधानसभा की तीन सीट पर जीत हासिल की, जबकि आम आदमी पार्टी (आप) को पंजाब की संगरूर लोकसभा सीट पर झटका लगा.

हालांकि, आप के लिए खुशी की बात यह रही कि उसने राष्ट्रीय राजधानी में राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर जीत दर्ज की. उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में भाजपा ने रामपुर और आजमगढ़ दोनों ही सीट जीत लीं.

आंध्र प्रदेश में सत्तारुढ़ दल वाईएसआर कांग्रेस अट्माकुर विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में 82,888 मतों के भारी अंतर से जीत गई है, जबकि झारखंड में कांग्रेस ने अपनी मांडर सीट 23,517 मतों से जीतकर बचा ली.

त्रिपुरा में चार विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव के लिए मतगणना में सत्तारूढ़ दल भाजपा ने तीन सीट पर जीत हासिल की, जबकि एक सीट कांग्रेस के खाते में गई.

टाउन बोरडोवाली सीट पर मुख्यमंत्री व भाजपा उम्मीदवार माणिक साहा ने 6,104 मतों के अंतर से जीत हासिल की. उन्हें 17,181 मत मिले, जो डाले गए कुल मतों का 51.63 प्रतिशत हैं.

मुख्यमंत्री साहा ने पत्रकारों से कहा, ‘जिन लोगों ने मुझे वोट दिया, मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं. यह भाजपा कार्यकर्ताओं की जीत है. मुझे उम्मीद थी कि अंतर थोड़ा अधिक होगा. हालांकि, परिणाम माकपा और कांग्रेस के बीच मिलीभगत को साबित करते हैं. हम भविष्य में भी इसी तरह काम करेंगे. लोगों ने मिलीभगत को नकार दिया है.’

अगरतला सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवार सुदीप रॉय बर्मन को 3,163 मतों के अंतर से जीत मिली है. उन्हें 17,241 वोट मिले, जो डाले गए कुल वोट का 43.46 प्रतिशत हैं. इस जीत के साथ ही रॉय बर्मन विधानसभा में कांग्रेस के एकमात्र विधायक बन गए हैं. साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली थी.

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के गढ़ माने जाने वाले जुबराजनगर में भाजपा को 4,572 मतों के अंतर से जीत मिली है. भाजपा उम्मीदवार मलिना देबनाथ को 18,769 (51.83 प्रतिशत) वोट मिले, जबकि माकपा के शैलेंद्र चंद्र नाथ को 14,197 (39.2 प्रतिशत) वोट आए.

सुरमा सीट पर भाजपा की उम्मीदवार स्वप्ना दास को 4,583 मतों के अंतर से जीत मिली. उन्हें कुल 16,677 (42.34 प्रतिशत) वोट मिले. उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी टिपरा मोथा के उम्मीदवार बाबूराम सतनामी के खाते में 12,094 (30.7 प्रतिशत) वोट आए.

पंजाब की संगरूर लोकसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) प्रत्याशी सिमरनजीत सिंह मान ने जीत दर्ज की. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी आम आदमी पार्टी के गुरमेल सिंह को 5,822 मतों से हराया.

दिल्ली की राजेंद्र नगर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में आम आदमी पार्टी के दुर्गेश पाठक ने भाजपा उम्मीदवार राजेश भाटिया को 11 हजार से अधिक मतों के अंतर से हराया.

उत्तर प्रदेश की रामपुर संसदीय सीट पर हुए उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार घनश्याम लोधी ने 42,000 से अधिक मतों के अंतर से जीत हासिल की. आजमगढ़ में भी भाजपा प्रत्याशी दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ अपने निकटतम प्रतिद्वंदी समाजवादी पार्टी के धर्मेंद्र यादव 8,679 मतों से जीत दर्ज करने में कामयाब रहे. दोनों ही सीट समाजवादी पार्टी (सपा) का गढ़ मानी जाती थीं और सपा के दिग्गज नेता आजम खान व अखिलेश यादव द्वारा विधानसभा चुनाव जीतने के बाद खाली की गई थीं.

तीन लोकसभा (उत्तर प्रदेश में दो और पंजाब में एक) और सात विधानसभा (त्रिपुरा की चार, दिल्ली, झारखंड और आंध्र प्रदेश में एक-एक) सीट पर हुए उपचुनाव के लिए रविवार को मतगणना शुरू हुई. मतदान 23 जून को हुआ था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)