भारत

महाराष्ट्र: कथित तौर पर नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट साझा करने वाले केमिस्ट की हत्या

महाराष्ट्र में हुई यह घटना राजस्थान के उदयपुर में दर्ज़ी कन्हैया लाल की हत्या से एक हफ्ते पहले की है. पुलिस ने बताया कि बीते 21 जून को राज्य के अमरावती शहर में केमिस्ट प्रह्लादराव कोल्हे की चाकू मारकर हत्या कर दी. उन्होंने भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर कथित तौर पर कुछ टिप्पणी की थी. पुलिस ने संदेह जताया है कि इसी पोस्ट को लेकर उनकी हत्या कर दी गई. पांच लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

नागपुर: महाराष्ट्र के अमरावती शहर में कुछ लोगों द्वारा 54 वर्षीय एक केमिस्ट (दवा की दुकान चलाने वाले) की चाकू मारकर हत्या करने का मामला सामने आया है.

पुलिस के मुताबिक, केमिस्ट उमेश प्रह्लादराव कोल्हे ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर कथित तौर पर कुछ टिप्पणी की थी. अधिकारियों ने संदेह जताया है कि इसी पोस्ट को लेकर कुछ लोगों ने उमेश की हत्या कर दी.

एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, 21 जून को हुई उमेश की हत्या के सिलसिले में अब तक कुल पांच लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

गौरतलब है कि नूपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी, जिसके खिलाफ देश और दुनिया के कई हिस्सों में प्रदर्शन हुए थे.

अमरावती की पुलिस आयुक्त डॉ. आरती सिंह ने शनिवार को कहा, ‘केमिस्ट की हत्या के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है और मुख्य आरोपी इरफान खान (32 वर्ष) की तलाश जारी है, जो एक गैर-सरकारी संगठन चलाता है.’

यह घटना राजस्थान के उदयपुर में दर्जी कन्हैया लाल की हत्या से एक हफ्ते पहले की है. बीते 28 जून को दो लोगों ने धारदार हथियार से एक दर्जी कन्हैया लाल की हत्या कर दी थी और इस संबंध में एक वीडियो सार्वजनिक करते हुए कहा था कि वे ‘इस्लाम के अपमान’ का बदला ले रहे हैं.

दोनों को ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौैंप दी है. इस घटना की विभिन्न दलों और धार्मिक नेताओं ने निंदा की है.

अमरावती सिटी कोतवाली थाने के एक अधिकारी ने कहा, ‘उमेश अमरावती शहर में एक दवा की दुकान चलाते थे. उन्होंने कथित तौर पर नूपुर शर्मा के समर्थन में कुछ वॉट्सऐप समूह में एक पोस्ट साझा किया था. उमेश ने गलती से यह पोस्ट एक ऐसे वॉट्सऐप समूह में भेज दिया था, जिसमें दूसरे समुदाय के सदस्य भी थे.’

अधिकारी के मुताबिक, इरफान खान नामक एक व्यक्ति ने कथित तौर पर उमेश की हत्या की साजिश रची और इसके लिए पांच लोगों की मदद ली.

उन्होंने बताया कि इरफान ने उन पांच लोगों को 10-10 हजार रुपये देने और एक कार में सुरक्षित रूप से फरार होने में मदद करने का वादा किया था.

रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने कहा कि घटना 21 जून को रात 10 बजे से 10:30 बजे के बीच हुई, जब उमेश प्रह्लादराव कोल्हे अपनी दुकान बंद करके दोपहिया वाहन से घर जा रहे थे. उनके बेटे संकेत (27 वर्ष) और पत्नी वैष्णवी उनके साथ एक दूसरे वाहन से थे.

उन्होंने बताया, ‘जब वे सभी महिला कॉलेज के गेट के पास पहुंचे, तो दो मोटरसाइकिल सवार पीछे से आए और कोल्हे का रास्ता रोक दिया. एक युवक मोटरसाइकिल से उतरा और कोल्हे के गले में धारदार हथियार से वार कर मौके से फरार हो गया. कोल्हे खून से लथपथ सड़क पर गिर पड़े. संकेत उसे अस्पताल ले गए, जहां उसकी मौत हो गई.’

संकेत की शिकायत के आधार पर एक एफआईआर दर्ज की गई और पांच लोगों की पहचान मुद्दसिर अहमद (22 वर्ष), शाहरुख पठान (25 वर्ष), अब्दुल तौफीक (24 वर्ष) शोएब खान (22 वर्ष) और आतिब राशिद (22 वर्ष) के रूप में हुई. सभी अमरावती के निवासी हैं और दिहाड़ी मजदूर हैं. जिनको गिरफ्तार कर लिया गया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, कोल्हे के बेटे संकेत ने अपनी शिकायत में कहा, ‘हम हमारे स्कूटर से प्रभात चौक से जा रहे थे और महिला कॉलेज न्यू हाईस्कूल के गेट पर पहुंच गए थे. तभी मोटरसाइकिल पर सवार दो आदमी अचानक मेरे पिता के स्कूटर के सामने आ गए. उन्होंने मेरे पिता स्कूटर रोक दी और उनमें से एक ने उनकी गर्दन के बाईं ओर चाकू से वार कर दिया. मेरे पिता गिर गए और खून बह रहा था. मैंने अपना स्कूटर रोका और मदद के लिए चिल्लाने लगा. तब एक अन्य व्यक्ति आया और तीनों मोटरसाइकिल से मौके से फरार हो गए.’

पुलिस ने कहा कि फरार आरोपियों में से एक ने हत्या के लिए पांच अन्य को पांच जिम्मेदारी सौंपी थी. उनमें से दो को कोल्हे पर नजर रखने और मेडिकल स्टोर से बाहर निकलने पर अन्य तीन को सतर्क करने के लिए कहा गया था. अन्य तीनों ने कोल्हे को रोका और उन पर हमला किया. संकेत की शिकायत के बाद सिटी कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है.

पुलिस ने घटना में इस्तेमाल किए गए चाकू को जब्त कर लिया है और सीसीटीवी फुटेज हासिल कर ली है, जिसमें घटना की तस्वीर कैद हो गई है.

पुलिस आयुक्त सिंह ने कहा कि हत्या के सही कारणों का पता लगाया जा रहा है.

गौरतलब है कि पैगंबर मोहम्मद को लेकर टिप्पणी के लिए भाजपा ने बीते पांच जून को अपनी राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा को निलंबित कर दिया और दिल्ली इकाई के प्रवक्ता नवीन जिंदल को निष्कासित कर दिया था. पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणियों का कई देशों ने विरोध किया था.

नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की टिप्पणी को लेकर उनकी गिरफ्तारी की मांग पर बीते 10 जून को देश भर के कई शहरों और कस्बों में विरोध प्रदर्शन हुए थे. इस दौरान झारखंड की राजधानी रांची में हुई हिंसा में दो लोगों की मौत  हुई थी.

शुक्रवार (1 जुलाई) को शीर्ष अदालत ने भाजपा नेता नूपुर शर्मा को उनकी विवादास्पद टिप्पणी के लिए फटकार लगाई. शीर्ष अदालत ने नेता पर अपनी टिप्पणी के जरिये देश भर की भावनाओं को भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा था कि उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए.

शीर्ष अदालत ने कहा था, ‘देश में जो हो रहा है उसके लिए यह महिला अकेले जिम्मेदार हैं. उन्होंने और उनकी अनियंत्रित जुबान ने पूरे देश में आग लगा दी है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)