भारत

राजस्थानः बाड़मेर में भारतीय वायुसेना का लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्‍त, दो पायलटों की मौत

भारतीय वायुसेना के अनुसार, यह विमान प्रशिक्षण उड़ान पर था. बृहस्‍पतिवार रात 9:10 बजे यह हादसा बाड़मेर ज़िले में बायतू के भीमड़ा गांव के पास हुआ. इस दुर्घटना में दो पायलटों – विंग कमांडर एम. राणा और फ्लाइट लेफ्टिनेंट अद्वितीय बल की जान चली गई.

भारतीय वायुसेना का एक लड़ाकू विमान बाड़मेर जिले के बायतू इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. (फोटो: पीटीआई)

बाड़मेर: भारतीय वायुसेना का एक लड़ाकू विमान बृहस्‍पतिवार रात राजस्थान के बाड़मेर जिले के बायतू इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें दो पायलटों की मौत हो गई.

भारतीय वायुसेना के अनुसार यह विमान प्रशिक्षण उड़ान पर था. बृहस्‍पतिवार रात 9:10 बजे यह हादसा बायतू के भीमड़ा गांव के पास हुआ.

बृहस्‍पतिवार रात भारतीय वायुसेना ने ट्वीट किया, ‘भारतीय वायुसेना का दो सीटों वाला मिग-21 ट्रेनर विमान आज शाम राजस्थान के उतरलाई हवाई अड्डे से प्रशिक्षण उड़ान के लिए रवाना हुआ. रात करीब 9:10 बजे बाड़मेर के पास विमान दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया. दोनों पायलटों को जानलेवा चोटें लगीं.’

ट्वीट में कहा गया, ‘भारतीय वायुसेना को पायलटों की जान जाने का गहरा दुख है और वह शोक की इस घड़ी में शोक संतप्त परिवारों के साथ मजबूती से खड़ी है. दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दे दिए गए हैं.‘

इससे पहले बाड़मेर के कलेक्टर लोक बंधु ने बताया, ‘यह वायुसेना का विमान था जो बायतू के भीमड़ा गांव के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया.’

विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने की सूचना मिलने पर आला अधिकारी घटनास्‍थल पर पहुंचे.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, दुर्घटना में जान गंवाने वाले पायलटों की पहचान – विंग कमांडर एम. राणा और फ्लाइट लेफ्टिनेंट अद्वितीय बल के रूप में हूई है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह व राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने दुर्घटना पर शोक जताते हुए शोक संतप्‍त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

सिंह ने ट्विटर पर कहा, ‘राजस्थान में बाड़मेर के पास भारतीय वायुसेना के मिग-21 ट्रेनर विमान के दुर्घटना में दो वायु योद्धाओं के नुकसान से गहरा दुख हुआ. राष्ट्र के प्रति उनकी सेवा को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा. दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं.’

एनडीटीवी के अनुसार, मिग-21 सोवियत काल का सिंगल इंजन वाला मल्टीरोल फाइटर/ग्राउंड अटैक एयरक्राफ्ट है, जो कभी भारतीय वायुसेना के बेड़े के लिए जरूरी था. हालांकि, इसके खराब सुरक्षा रिकॉर्ड के कारण विमान को सेवा से वापस लेने और अगले दशक के भीतर और अधिक आधुनिक मॉडलों के साथ बदलने की उम्मीद है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, पिछले छह दशकों के दौरान लगभग 200 पायलटों की जान गंवाने वाली दुर्घटनाओं में 400 से अधिक मिग-21 शामिल हैं. विशेषज्ञों ने कहा है कि किसी भी अन्य लड़ाकू विमान की तुलना में मिग-21 अधिक दुर्घटनाग्रस्त हुए हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)