भारत

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में 96 प्रतिशत मतदान, परिणाम 19 अक्टूबर को

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए दो उम्मीदवार शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे मैदान में हैं. पार्टी के 137 साल के इतिहास में छठी बार अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ है. वर्तमान में पूरे 22 वर्षों के बाद अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हो रहा है.

कांग्रेस अध्यक्ष पद के उम्मीदवार शशि थरूर ने तिरुवनंतपुरम में और मल्लिकार्जुन खड़गे ने बेंगलुरु में बीते सोमवार को मतदान किया. (फोटो: ट्विटर/पीटीआई)

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए सोमवार को कुल लगभग 9900 डेलीगेट (निर्वाचक मंडल के सदस्यों) में से करीब 9500 लोगों ने मतदान किया, जिनमें अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कई अन्य वरिष्ठ नेता शामिल रहे.

कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने बताया कि करीब 96 प्रतिशत मतदान हुआ. उन्होंने बताया कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के लगभग 9900 डेलीगेट में से करीब 9500 ने मतदान किया.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस मुख्यालय में सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत 87 डेलीगेट ने मतदान किया.

मिस्त्री ने कहा कि कर्नाटक में बेल्लारी स्थित ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के विश्राम शिविर के मतदान केंद्र में राहुल गांधी समेत करीब 50 लोगों ने वोट डाला.

राहुल गांधी ने कर्नाटक के बेल्लारी में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ से संबंधित कंटेनर वाले विश्राम शिविर में बने मतदान केंद्र पर वोट डाला. उनके साथ वहां उन नेताओं ने भी मतदान किया, जो उनके साथ इस यात्रा में ‘भारत यात्री’ हैं.

सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने कांग्रेस मुख्यालय पहुंचकर मतदान किया. मतदान से पहले सोनिया गांधी ने संवाददाताओं से सवालों के जवाब में कहा, ‘मैं इस दिन का लंबे समय से इंतजार कर रही थी.’

पार्टी मुख्यालय में वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने सबसे पहले मतदान किया. उनके बाद पार्टी महासचिव जयराम रमेश, अजय माकन, मुकुल वासनिक, वरिष्ठ नेता अम्बिका सोनी, विवेक तन्खा और कई अन्य लोगों ने मतदान किया.

मतदान के बीच पार्टी के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री ने कहा कि चुनाव की पूरी प्रक्रिया स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी रही है तथा वह इससे संतुष्ट हैं.

कांग्रेस मुख्यालय में मतदान के बाद जयराम रमेश ने संवाददाताओं से कहा, ‘यह ऐतिहासिक मौका है. हमारे यहां स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी ढंग से चुनाव हुआ है.’

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस एकमात्र राजनीतिक दल है, जहां अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होता है. हमारे यहां टीएन शेषन की तरह केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के प्रमुख मधुसूदन मिस्त्री हैं. किसी दूसरी पार्टी में चुनाव नहीं होता.’

मतदान वाले दिन कांग्रेस अध्यक्ष पद के दोनों उम्मीदवारों शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे ने एक-दूसरे को शुभकामनाएं दीं.

थरूर ने ट्वीट किया, ‘मल्लिकार्जुन खड़गे से आज सुबह बात की और उन्हें शुभकामनाएं दीं तथा उनके प्रति सम्मान और कांग्रेस की सफलता के प्रति दोनों के साझा समर्पण को व्यक्त किया.’

सोमवार को खड़गे ने ट्वीट कर कहा, ‘शशि थरूर जी को मेरी शुभकामनाएं. आज उनसे बात की. हम दोनों कांग्रेस की मजबूती के लिए लड़ रहे हैं, ताकि भविष्य की पीढ़ियों के लिए पहले से मजबूत और बेहतर राष्ट्र का निर्माण किया जा सके.’

कांग्रेस के 9 हजार से अधिक डेलीगेट (निर्वाचक मंडल के सदस्य) सोमवार को पार्टी प्रमुख चुनने के लिए मतदान करने के पात्र थे. कांग्रेस मुख्यालय समेत लगभग 68 मतदान बूथों पर मतदान हुआ.

कांग्रेस पार्टी के 137 साल के इतिहास में छठी बार अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ है.

पार्टी महासचिव जयराम रमेश के मुताबिक, अध्यक्ष पद के लिए अब तक 1939, 1950, 1977, 1997 और 2000 में चुनाव हुए हैं. पूरे 22 वर्षों के बाद अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हो रहा है.

चुनाव के परिणाम की घोषणा 19 अक्टूबर को की जाएगी.

थरूर ने निर्वाचकों से ‘बदलाव अपनाने’ का साहस दिखाने का आह्वान करते हुए रविवार को कहा था कि वह जिन बदलावों के बारे में सोच रहे हैं, उनमें पार्टी के ‘मूल्यों’ में कोई बदलाव नहीं होगा और केवल लक्ष्य पाने के तरीकों में परिवर्तन आएगा.

वहीं, खड़गे ने रविवार को कहा था कि अगर वह अध्यक्ष बनते हैं तो उन्हें पार्टी के मामलों में गांधी परिवार की सलाह और सहयोग लेने में कोई झिझक नहीं होगी, क्योंकि उस परिवार ने काफी संघर्ष किया है और पार्टी के विकास में बड़ा योगदान दिया है.

केरल के तिरुवनंतपुरम में कांग्रेस अध्यक्ष पद के उम्मीदवार शशि थरूर ने वोट डाला, जबकि मल्लिकार्जुन खड़गे ने बेंगलुरु में मतदान किया.

शशि थरूर ने कहा, ‘मुझे (जीत का) विश्वास है. कांग्रेस पार्टी की किस्मत पार्टी कार्यकर्ताओं के हाथ में है.’

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘यह हमारे आंतरिक चुनाव का एक हिस्सा है. हमने एक-दूसरे से जो कुछ भी कहा वह मैत्रीपूर्ण ढंग से है. हमें मिलकर पार्टी बनानी है. (शशि) थरूर ने मुझे फोन किया और मुझे शुभकामनाएं दीं और मैंने भी उन्हें शुभकामनाएं दीं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)