भारत

रामदेव की महिलाओं पर टिप्पणी अमर्यादित और निंदनीय है: स्वाति मालीवाल

महाराष्ट्र के ठाणे में एक आयोजन के दौरान बाबा रामदेव ने मंच से महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा था कि वे साड़ी और सूट पहनकर अच्छी लगती हैं, अगर मेरी तरह कुछ न भी पहनें तो भी अच्छी लगती हैं.

Patna: Yog guru Baba Ramdev addresses a press conference ahead of the Lok Sabha election 2019, in Patna, Friday, April 26, 2019. (PTI Photo)(PTI4_26_2019_000025B)

योग गुरु बाबा रामदेव. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने रविवार को बाबा रामदेव के महिलाओं पर आपत्तिजनक बयान की निंदा की और उनकी टिप्पणी को अमर्यादित करार दिया.

एक ट्वीट में मालीवाल ने कहा, ‘महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री जी की पत्नी के सामने स्वामी रामदेव द्वारा महिलाओं पर की गई टिप्पणी अमर्यादित और निंदनीय है. इस बयान से सभी महिलाएं आहत हुई हैं. बाबा रामदेव जी को इस बयान पर देश से माफी मांगनी चाहिए.’

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, इससे पहले महाराष्ट्र राज्य महिला आयोग ने भी शनिवार (26 नवंबर) को रामदेव को नोटिस भेजा और तीन दिन में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के लिए कहा है.

गौरतलब है कि शुक्रवार (25 नवंबर) को ठाणे में एक आयोजन के दौरान रामदेव ने मंच से महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा, ‘आप साड़ी पहनकर भी अच्छी लगती हैं, आप सलवार सूट में भी अमृता जी की तरह अच्छी लगती हैं और मेरी तरह से कुछ न भी पहने तो भी अच्छी लगती हैं.’

उन्होंने आगे कहा, ‘हम तो लोक-लज्जा के लिए (कपड़े) पहन लेते हैं, बच्चों को कौन कपड़े पहनाता था पहले, हम तो आठ-दस साल तक तो ऐसे ही नंगे घूमते रहते थे, ये तो अब जाकर के पांच-पांच लेयर कपड़ों की बच्चों पर आ गई है.’

आयोजन में उप-मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के बेटे और लोकसभा सांसद श्रीकांत शिंदे मौजूद थे.

विपक्षी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने शनिवार को रामदेव द्वारा महिलाओं के खिलाफ की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध में प्रदर्शन किया था. एनसीपी की महिला कार्यकर्ताओं ने रामदेव की तस्वीर को चप्पलों की माला पहनाई थी.

रामदेव पर हमलावर होते हुए तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने भी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी.

उन्होंने एक ट्वीट में कहा था, ‘अब मुझे पता लगा कि क्यों पतंजलि बाबा महिलाओं के कपड़ों में रामलीली मैदान से भागे थे. उनका कहना है कि उन्हें साड़ी, सलवार और… जाहिर तौर पर उनके दिमाग में एक भेंगापन है, जो उनके विचारों को एक तरफ से छोटा बनाता है.’

पूरे मामले पर अब तक रामदेव की प्रतिक्रिया नहीं आई है.