भारत

यूपी: हिंदू महासभा ने मथुरा ईदगाह में हनुमान चालीसा पढ़ने की अनुमति मांगी, निषेधाज्ञा लागू

हिंदू महासभा ने 06 दिसंबर को मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मभूमि-ईदगाह परिसर में ‘लड्डू गोपाल’ के जलाभिषेक और हनुमान चालीसा के पाठ की अनुमति मांगी है. वहीं, ज़िला प्रशासन ने अगले वर्ष 28 जनवरी तक बिना अनुमति के किसी भी राजनीतिक या धार्मिक संगठन द्वारा पांच से अधिक लोगों के एकत्र होकर सभा आदि करने पर रोक लगा दी है.

कृष्ण जन्मभूमि मंदिर और शाही ईदगाह मस्जिद. (फाइल फोटो: पीटीआई)

मथुरा: अखिल भारत हिंदू महासभा ने मथुरा जनपद में श्रीकृष्ण जन्मभूमि-ईदगाह परिसर में ‘लड्डू गोपाल’ (कृष्ण का बाल स्वरूप) का छह दिसंबर को जलाभिषेक करने एवं हनुमान चालीसा पाठ करने की अनुमति मांगी है.

महासभा इस परिसर के प्राचीन श्रीकृष्ण मंदिर का गर्भगृह होने का दावा करती है.

इस बीच, मथुरा प्रशासन ने जिले में बिना अनुमति के किसी भी राजनीतिक, सामाजिक या धार्मिक संगठन द्वारा पांच या पांच से अधिक लोगों के समूह के एकत्र होकर सभा, धरना और प्रदर्शन आदि पर रोक लगा दी है. यह रोक अगले वर्ष 28 जनवरी तक प्रभावी रहेगी.

प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार, अयोध्या के बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के 30 साल पूरे होने पर अखिल भारत हिंदू महासभा के ईदगाह में हनुमान चालीसा पाठ के ऐलान एवं नगर निकाय संबंधी चुनाव आदि कुछ विशेष गतिविधियों के मद्देनजर एक दिसंबर से निषेधाज्ञा लागू की गयी है, जो अगले वर्ष 28 जनवरी तक लागू रहेगी.

जिलाधिकारी पुलकित खरे के आदेश से जारी निषेधाज्ञा में कहा गया है कि राजनीतिक, सामाजिक या धार्मिक संगठन आदि बिना अनुमति के पांच अथवा पांच से अधिक लोगों का किसी भी प्रकार का जमावड़ा, धरना, प्रदर्शन आदि नहीं कर सकेंगे और इसका उल्लंघन करने पर व्यक्ति अथवा व्यक्तियों के प्रति दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 के तहत कठोर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दिनेश शर्मा ने एक वीडियो जारी कर शुक्रवार को जानकारी दी कि उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपने खून से पत्र लिखकर श्रीकृष्ण जन्मभूमि परिसर में स्थित शाही ईदगाह में छह दिसंबर को हनुमान चालीसा का पाठ करने की अनुमति मांगी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, उन्होंने यह भी कहा है कि, ‘यदि आप हमें हनुमान चालीसा का पाठ करने की अनुमति नहीं दे सकते हैं, तो कम से कम हमें इच्छामृत्यु की अनुमति दें क्योंकि हम अपनी जा किए बिना नहीं रहना चाहते हैं.’

मालूम हो कि बीते 27 नवंबर को अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष राज्यश्री चौधरी ने मंदिर परिसर में मौजूद शाही ईदगाह में छह दिसंबर को हनुमान चालीसा पाठ किए जाने की घोषणा की थी.

उन्होंने कहा था, ‘हम अपने ऐलान पर अडिग हैं और हमने हिंदू महासभा के तले अपनी सनातन सभ्यता का पुनरुद्धार करने का संकल्प लिया है. इसके बिना यह आजादी अधूरी है. हम तय समय पर हनुमान चालीसा पाठ कर श्रीकृष्ण जन्मभूमि के वातावरण को पवित्र करेंगे और ऐसा कर हम हिंदू समाज को भगवान कृष्ण का जन्म स्थल शुद्ध रूप में सौंपना चाहते हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)