दुनिया

ओडिशा में एक और रूसी नागरिक मृत मिला, एक पखवाड़े में तीसरा मामला

ओड़िशा में जगतसिंहपुर ज़िले के पारादीप बंदरगाह पर एक जहाज में रूसी नागरिक मिलाकोव सर्गेई पाए गए. बीते दिसंबर में रूसी सांसद पावेल एंटोव की रायगड़ा शहर में होटल की तीसरी मंज़िल से कथित तौर पर गिरने के बाद मौत हो गई थी, जबकि व्लादिमीर बाइडेनोव होटल के अपने कमरे में मृत पाए गए थे.

पारादीप बंदरगाह. (प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

पारादीप/भुवनेश्वर/बेरहामपुर: ओडिशा में मंगलवार को एक और रूसी नागरिक मृत पाया गया. पुलिस ने कहा कि एक पखवाड़े में इस तरह की यह तीसरी घटना है.

जगतसिंहपुर जिले के पारादीप बंदरगाह पर लंगर डाले जहाज में 51 वर्षीय रूसी नागरिक मिलाकोव सर्गेई मृत मिले.

सर्गेई पारादीप के रास्ते बांग्लादेश के चटगांव बंदरगाह से मुंबई जा रहे जहाज एमबी अलदना के चीफ इंजीनियर थे. जहाज के अपने कक्ष में वह सुबह 4:30 बजे मृत पाए गए. मौत की वजह का तत्काल पता नहीं चल पाया है.

पारादीप पत्तन न्यास के अध्यक्ष पीएल हरानंद ने रूसी इंजीनियर की मौत की पुष्टि की और कहा कि मामले की जांच की जा रही है.

इससे पहले दिसंबर 2022 में दक्षिणी ओडिशा के रायगड़ा शहर में एक सांसद सहित दो रूसी पर्यटक रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाए गए थे.

65 वर्षीय रूसी सांसद पावेल एंटोव की 24 दिसंबर 2022 को होटल की तीसरी मंजिल से कथित तौर पर गिरने के बाद मौत हो गई थी, जबकि 61 वर्षीय व्लादिमीर बाइडेनोव 22 दिसंबर 2022 को होटल के अपने कमरे में मृत पाए गए थे. ओडिशा पुलिस दोनों मामलों की जांच कर रही है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, तीसरे मृत रूसी नागरिक मिलाकोव पोत एमबी अलदना पर एक चालक दल के सदस्य के रूप में काम कर रहे थे, जिसे एक भारतीय इस्पात निर्माता कंपनी ने शीपिंग में लगाया है. पारादीप बंदरगाह से लौह अयस्क की लोडिंग के लिए मंगलवार को खाली जहाज को घाट पर लगाना निर्धारित किया गया था.

बंदरगाह के एक अधिकारी ने कहा, ‘सुबह लगभग 4 बजे, जहाज के कप्तान ने चालक दल के एक सदस्य की मृत्यु के बारे में बंदरगाह अधिकारियों को एक संदेश भेजा. मानक संचालन प्रक्रिया के अनुसार, बंदरगाह के स्वास्थ्य अधिकारी ने जहाज का दौरा किया और मौत की पुष्टि की.’

उन्होंने आगे कहा कि इस घटना पर ज़्यादा जानकारी पुलिस ही देगी. पोत में कुछ भारतीयों सहित कुल 23 चालक दल के सदस्य हैं.

संपर्क करने पर पारादीप के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक निमाई चरण सेठी ने कहा कि हालांकि रूसी नागरिक की मौत की पुष्टि हो गई है, उन्हें अभी तक शिपिंग कंपनी (जो जहाज का मालिक है) या पारादीप बंदरगाह अधिकारियों से कोई आधिकारिक सूचना प्राप्त नहीं हुई है.

उन्होंने कहा, ‘चूंकि जहाज समुद्र में है, हम शिपिंग कंपनी से आधिकारिक सूचना की प्रतीक्षा कर रहे हैं. एक बार जब हमें सूचना मिल जाएगी, तो हम पहले एक अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज करेंगे और फिर शव को बरामद करेंगे. उसके बाद एक मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में कुजंग में मौत के सही कारण का पता लगाने के लिए पोस्टमॉर्टम करेंगे.’

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम के बाद शव को मोर्चरी में रखवाकर मृतक के परिजनों को सौंप दिया जाएगा.

रूसी नागरिकों की मौत पर एनएचआरसी ने पुलिस से चार हफ्ते में कार्रवाई रिपोर्ट मांगी

रूस के एक सांसद सहित दो रूसी पर्यटकों की मौत की जांच जारी रहने के बीच राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने रायगड़ा के पुलिस अधीक्षक (एसपी) को एक नोटिस जारी कर चार हफ्तों के अंदर एक कार्रवाई रिपोर्ट (एटीआर) मांगी है.

यह आदेश बेरहामपुर शहर के मानवाधिकार कार्यकर्ता रवींद्र कुमार मिश्रा की एक याचिका के आधार पर जारी किया गया है.

एनएचआरसी ने कहा कि कार्रवाई रिपोर्ट पत्र प्राप्ति की तारीख के चार हफ्तों के अंदर सौंपी जाए. पत्र शुक्रवार (30 दिसंबर) को जारी किया गया था.

मौतों की जांच में सीआईडी की सहायता के लिए दो फोरेंसिक विशेषज्ञों सहित अपराध शाखा की चार सदस्यीय एक टीम का गठन किया गया है.

एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, जांच एजेंसी ने पावेल एंटोव और व्लादिमीर बाइडेनोव के शव के अवशेष रायगड़ा के पास एक श्मशान घाट से एकत्र किए हैं. इसमें कहा गया है कि इन अवशेषों को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा.

रूसी सांसद की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि ऊंचाई से गिरने के बाद अंदरूनी चोटों के चलते उनकी मौत हुई, जबकि बाइडेनोव की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई.

दोनों के परिवार के सदस्यों और रूसी दूतावास की सहमति से उनकी अंत्येष्टि की गई.

जांच दल ने होटल के उन कमरों की जांच की है, जहां दोनों विदेशी पर्यटक 21 दिसंबर से ठहरे थे. दल ने उनके उपकरणों तथा अन्य सामान अपने कब्जे में ले लिए हैं.

क्राइम ब्रांच की टीम ने रूसी दंपती तुरोव मिखाइल और पेन सेंको नतालिया के बयान भी दर्ज किए हैं, जो एंटोव और बाइडेनोव के साथ थे.

ओडिशा पुलिस ने रूसी दंपती मिखाइल और नतालिया को फिलहाल भारत नहीं छोड़ने को कहा है, क्योंकि जांच प्रगति पर है.

उल्लेखनीय है कि एंटोव और बाइडेनोव सहित चार रूसियों का एक समूह दिल्ली के पर्यटक गाइड जितेंद्र सिंह के साथ 19 दिसंबर को ओडिशा पहुंचा था.

इस बीच, ओडिशा के पुलिस महानिदेशक एसके बंसल ने कहा कि जांच में सर्वश्रेष्ठ जांचकर्ताओं को लगाया गया है और अब तक किसी गड़बड़ी का कोई साक्ष्य नहीं मिला है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)