राजनीति

जम्मू कश्मीर की अनंतनाग सीट पर पहले चरण में तकरीबन 13 प्रतिशत मतदान हुआ

दक्षिण कश्मीर की अनंतनाग संसदीय सीट पर तीन चरणों में चुनाव हो रहे हैं. मंगलवार को पहले चरण में अनंतनाग ज़िले के छह विधानसभा क्षेत्रों में मतदान तकरीबन 13 प्रतिशत रहा. इन्हीं क्षेत्रों में साल 2014 में मतदान प्रतिशत तकरीबन 39 था. पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती के गढ़ बिजबेहरा विधानसभा क्षेत्र के 40 केंद्रों पर एक भी वोट नहीं पड़ा.

Ananatnag: An elderly voter puts her thumb impression before casting her vote at a polling station during the third phase of Lok Sabha elections, in Anantnag, Tuesday, April 23, 2019. (PTI Photo/S Irfan) (PTI4_23_2019_000223B)

दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग लोकसभा सीट पर मंगलवार को वोट डाले गए. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली/श्रीनगर: दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग लोकसभा सीट पर मंगलवार को हुए चुनाव में वर्ष 2014 के आम चुनाव के मुकाबले मतदान प्रतिशत में गिरावट दर्ज की गई. अनंतनाग लोकसभा क्षेत्र में तीन चरणों में मतदान हो रहा है.

उप चुनाव आयुक्त उमेश सिन्हा ने नई दिल्ली में संवाददाताओं से बताया कि मंगलवार को पहले चरण में अनंतनाग संसदीय क्षेत्र के छह विधानसभा क्षेत्रों में हुए मतदान का प्रतिशत 12.86 प्रतिशत रहा. जबकि इन्हीं क्षेत्रों में 2014 में मतदान प्रतिशत 39.37 प्रतिशत रहा था.

अनंतनाग संसदीय क्षेत्र में 16 विधानसभा क्षेत्र आते हैं. अनंतनाग ज़िले में मतदान पहले चरण में समाप्त हो चुका है जबकि इस संसदीय क्षेत्र में आने वाले कुलगाम ज़िले में 29 अप्रैल को मतदान होगा और तीसरे चरण के तहत पुलवामा और शोपियां ज़िलों में छह मई को चुनाव होगा.

चुनाव आयोग ने राज्य पुलिस के अनुरोध के बाद अनंतनाग लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए मतदान की अवधि दो घंटे कम कर दी है. राज्य पुलिस ने इस आशय का अनुरोध किया था.

दक्षिण कश्मीर के इलाकों में सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा.

अनंतनाग ज़िले में कुल मतदाता 5,29,256 हैं, जिनमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 2,69,603 है, महिला मतदाताओं की संख्या 2,57,540 है, सर्विस वोटरों की संख्या 2,102 है और थर्ड जेंडर के मतदाताओं की संख्या 11 है.

पीडीपी अध्यक्ष और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती सहित यहां 18 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं.

महबूबा मुफ़्ती के गढ़ में 40 मतदान केंद्रों पर नहीं पड़ा एक भी वोट

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती के गढ़ तथा अनंतनाग लोकसभा सीट के तहत आने वाले बिजबेहरा विधानसभा क्षेत्र में सबसे ज़्यादा मतदान केंद्र ऐसे थे जहां एक भी वोट नहीं पड़ा.

अनंतनाग में 65 में से 40 मतदान केंद्र बिजबेहरा में थे जहां एक भी वोट नहीं डाला गया. यह उन छह विधानसभा क्षेत्रों में से एक है जहां मंगलवार को लोकसभा चुनावों के तीसरे चरण में मतदान हुआ.

लोगों ने अनंतनाग के 714 मतदान केंद्रों में मतदान किया.

बिजबेहरा पीडीपी अध्यक्ष मुफ़्ती का गृह निर्वाचन क्षेत्र है जहां 93,289 लोगों के लिए 120 मतदान केंद्र बनाए गए थे.

शाम चार बजे मतदान ख़त्म होने तक कुल 1,893 या दो प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले थे. अनंतनाग लोकसभा सीट पर चुनाव का समय सुरक्षा कारणों के मद्देनजर घटा दिया गया था.

चुनाव आयोग के वोटर टर्नआउट ऐप पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक बिजबेहरा विधानसभा क्षेत्र में कुल 2.04 प्रतिशत मतदान हुआ.

अपने परिवार के साथ पहुंची मुफ़्ती ने मतदान केंद्र संख्या 35 पर दोपहर ढाई बजे अपना वोट डाला.

बारामूला लोकसभा क्षेत्र में जहां पहले चरण में चुनाव हुए थे, 17 मतदान केंद्रों पर एक भी वोट नहीं पड़ा था जबकि श्रीनगर संसदीय सीट जहां दूसरे चरण में मतदान हुआ, वहां 90 मतदान केंद्रों पर शून्य वोट पड़े.

श्रीनगर लोकसभा सीट के तहत आठ विधानसभा सीटें आती हैं. जिन मतदान केंद्रों पर किसी ने वोट नहीं डाला गए थे, वे ईदगाह, खनयार, हब्बा कदल और बटमालू इलाकों में हैं.

अनंतनाग लोकसभा क्षेत्र के तहत 16 विधानसभा सीटें आती हैं और यहां चुनाव तीन चरणों में बंटा हुआ है. पहला चरण मंगलवार को पूरा हो गया जबकि शेष दो 29 अप्रैल एवं छह मई को होंगे.

दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा स्थिति के मद्देनज़र चुनावों को इस तरह से कराने का निर्णय लिया गया.