Author Archives

दामिनी यादव

सौ साल बाद भी महिला लेखन की चुनौतियां क्या हैं

वीडियो: जब कभी कोई पुरुष कलम उठाता है तो मान लिया जाता है कि उस कलम से जो भी लिखेगा, वह साहित्य समाज का दर्पण कहलाएगा, लेकिन जब कोई महिला कलम उठाती है, तब ऐसा नहीं होता. महिला लेखन की चुनौतियों पर प्रकाशक मीरा जौहरी और कथाकार गीताश्री से दामिनी यादव की बातचीत.

साहिर लुधियानवी की याद, गौहर रज़ा के साथ

वीडियो: मशहूर गीतकार साहिर लुधियानवी की पुण्यतिथि पर जाने-माने वैज्ञानिक, कलमकार, फिल्म निर्माता गौहर रज़ा से दामिनी यादव की बातचीत.

शोषण का पूर्वाभ्यास

वीडियो: निर्भया कांड जैसे वीभत्स हादसे के बाद इसका दोहराव न होने की दुआ सभी ने की थी, लेकिन अब हाथरस कांड हमारे सामने है. क्या ये महिलाओं के ख़िलाफ़ हो रही हिंसा का अंत है? इस बारे में दामिनी यादव के विचार.

प्रेमचंद हैं आज भी प्रासंगिक

वीडियो: साहित्यकार प्रेमंचद ने हिंदी साहित्य को ज़मीन पर पांव टिकाना सिखाया और कड़वी ज़मीनी सच्चाई से रूबरू करवाया. 1918 से 1936 के कालखंड को ‘प्रेमचंद युग’ कहा जाता है लेकिन यदि उनके समय और आज के समाज की समानताएं देखी जाएं तो लगता है कि प्रेमचंद युग अभी समाप्त ही नहीं हुआ है.

गांधी जयंती विशेष: कलम के सिपाही गांधी

वीडियो: महात्मा गांधी की किताबों के पन्ने पीले ज़रूर पड़ गए हैं, पर उनके सबक आज भी साफ़-साफ़ दिखते हैं. गांधी जी अपने जीवन का आधार किताबों को मानते थे, शायद यही वजह है कि एक तरफ़ वे ऊंचे दर्जे के पाठक थे तो दूसरी ओर उनकी कलम का भी विस्तार पटल बेहद व्यापक है. उन्होंने अनेक किताबें लिखी हैं, अनुवाद किए हैं, संपादन किया है और एक कलम के सिपाही की तरह भी सक्रिय रहे हैं.

भगत सिंह, दिनकर और पाश: सितंबर के तीन जांबाज़

वीडियो: सितंबर शहीद भगत सिंह, कवि रामधारी सिंह दिनकर और कवि अवतार सिंह संधू ‘पाश’ के जन्म का महीना है. इन तीनों शख़्सियतों को याद कर रही हैं द वायर की दामि​नी यादव.

इब्राहिम अलकाज़ी, रंगमंच और अभिनय की बात, राजेंद्र गुप्ता के साथ

वीडियो: कुछ ही समय पहले भारतीय रंगमंच ने अपने शिखर व्यक्तित्वों में से एक इब्राहिम अलकाज़ी को खो दिया. वह रंगमंच की दुनिया में कलाकारों की एक ऐसी पीढ़ी तैयार कर गए हैं, जिन्हें अपने-आप में अभिनय का स्कूल कहा जाता है. रंगमंच, टेलीविज़न और फिल्मों में अपनी छाप छोड़ने वाले राजेंद्र गुप्ता से द वायर की दामिनी यादव की बातचीत.

बॉलीवुड में हिंदी का चेहरा: आशुतोष राना

वीडियो: मध्य प्रदेश के गाडरवारा में जन्मे आशुतोष राना रामलीला के किरदारों से अपनी जगह बनाते हुए राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के गलियारों तक पहुंचे और साल 1995 में टीवी धारावाहिक ‘स्वाभिमान’ से बतौर फिल्मी अभिनेता बने. इन्होंने हिंदी के अलावा तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और मराठी फिल्में भी कीं. इसके अलावा कुछ किताबें लिखी हैं. उनसे द वायर की दामिनी यादव की बातचीत.

नृत्य आत्मा का उत्सव है: भरतनाट्यम नृत्यांगना गीता चंद्रन

वीडियो: कोरोना महामारी के चलते पूरी दुनिया दायरों में सिमटी हुई है. यदि ज़िंदगी में कलाएं हैं तो तनाव, उदासी, नाउम्मीदी के लिए कोई जगह नहीं बचती है. हाल ही में कोरोना वायरस को मात देने वाली भरतनाट्यम नृत्यांगना पद्मश्री गीता चंद्रन से दामिनी यादव की बातचीत.