Air pollution

प्रतीकात्मक तस्वीर ( फोटो : पीटीआई)

भारत में वायु प्रदूषण की वजह से 2017 में 12 लाख लोगों की असमय मौत: रिपोर्ट

स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर, 2019 रिपोर्ट के मुताबिक, 2017 में विश्व के 3.6 अरब लोग घर में होने वाले प्रदूषण से प्रभावित हुए. भारत में अभी भी 60 फीसदी, बांग्लादेश में 79 फीसदी और चीन में 32 फीसदी लोग ठोस ईंधन से खाना बना रहे हैं. इसकी वजह से घर के भीतर प्रदूषण बढ़ रहा है.

सुप्रीम कोर्ट. (फोटो: द वायर)

ऐसा लगता है कि पटाखों की तुलना में वाहनों से कहीं ज़्यादा प्रदूषण होता है: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा निर्माण और बिक्री में शामिल लोगों का रोज़गार ख़त्म होने पर चिंता जताई. कोर्ट ने केंद्र सरकार से जानना चाहा कि क्या उसने पटाखों और वाहनों से होने वाले प्रदूषण के बीच कोई तुलनात्मक अध्ययन कराया है.

(फाइल फोटो: रॉयटर्स)

भारत में वाहनों के धुएं से साल 2015 में हुई तकरीबन 74 हज़ार लोगों की मौत: अध्ययन

इंटरनेशनल काउंसिल ऑन क्लीन ट्रांसपोर्टेशन, जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोरैडो बॉल्डर के अध्ययन में कहा गया है कि साल 2010 से 2015 के बीच भारत में वाहनों से निकले धुएं से होने वाली मौतों में 26 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई.

Kumbh ANI

कुंभ के दौरान ज़हरीली है इलाहाबाद की हवा, एनजीटी के आदेश को किया जा रहा नज़रअंदाज़

पर्यावरण वैज्ञानिक डॉक्टर सीमा जावेद ने कुंभ के दौरान इलाहाबाद की हवा इतनी खराब होने पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि एनजीटी के आदेश के बावजूद इलाहाबाद में वायु की गुणवत्ता पर नजर रखने के सरकारी प्रयास नहीं हो रहे हैं.

New Delhi: A woman wears an anti-pollution mask as smog covers the capital's skyline on Wednesday. Yesterday the air quality hit severe levels in New Delhi. PTI Photo by Shahbaz Khan(PTI11_8_2017_000013A)

दिल्ली में नहीं रहना बेहतर, यह ‘गैस चैंबर’ की तरह: उच्चतम न्यायालय

सुप्रीम कोर्ट में एक मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा, ‘मैं दिल्ली में बसना नहीं चाहता. दिल्ली में रहना मुश्किल है.’

New Delhi: Silhouette of children seen through a layer of dense fog on a cold, winter morning, in New Delhi, Sunday, Dec. 23, 2018. (PTI Photo/Arun Sharma) (PTI12_23_2018_000027)

फिर ख़राब हुई दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा, लोगों को घर से बाहर न निकलने की सलाह

छह औद्योगिक क्षेत्रों- वज़ीरपुर, मुंडका, नरेला, बवाना, साहिबाबाद और फ़रीदाबाद में अगले दो दिनों तक निर्माण कार्य बंद रहेगा. दिल्ली में पिछले तीन दिनों से वायु गुणवत्ता ‘गंभीर’ स्थिति में बनी हुई है.

(फोटो: रॉयटर्स)

धुंध में डूबे एक शहर के नाम…

अंग्रेज़ी के कवि पीबी शैली की एक कविता में उनका नायक मरने के बाद जब नर्क पहुंचता है तो पाता है कि नर्क तो बिल्कुल लंदन जैसा है. जो कुछ भी लंदन में मिल सकता है वह सब वहां है. उसकी पहचान, उसकी बेतहाशा आबादी और धुआं… राजधानी है इसलिए वहां राजा है, न्यायालय है और जैसा कि राजधानियों में होता है ख़याली पुलाव के रूप में क्रांति की बातें हैं. एक सदी पहले लिखी गई इस कविता का यह शहर अब हमारे देश की राजधानी में तब्दील हो गया है.

New Delhi: A pedestrian covers his face with a handkerchief for protection against air pollution, in New Delhi, Tuesday, Nov. 13, 2018. A thick haze engulfed the national capital today as the air quality remained in the 'severe' category and authorities expressed concern that light rainfall the city may worsen the pollution levels. (PTI Photo/Shahbaz Khan)(PTI11_13_2018_000025)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में वायु गुणवत्ता गंभीर, दिन में निर्माण कार्यों को मंज़ूरी

सुबह हुई हल्की बारिश पर वायु गुणवत्ता एवं मौसम पूर्वानुमान प्रणाली ने कहा कि यह वायु प्रदूषण को ओर बिगाड़ देती है. मामूली बारिश से हवा में बहुत ज़्यादा नमी पैदा होती है और हवा भारी होकर अधिक हानिकारक कणों को जकड़े रहती है.

New Delhi: A boy wearing pollution mask burns crackers during Diwali celebrations, in New Delhi, Wednesday, Nov. 07, 2018. According to the officials, Delhi recorded its worst air quality of the year the morning after Diwali as the pollution level entered 'severe-plus emergency' category due to the rampant bursting of toxic firecrackers. (PTI Photo/Ravi Choudhary)(PTI11_8_2018_000023B)

दिवाली पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश धुआं-धुआं, प्रदूषण अत्यंत गंभीर और आपातकालीन श्रेणी में पहुंचा

सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करने के संबंध में दिल्ली पुलिस ने 562 एफआईआर दर्ज किए और 323 लोगों को गिरफ़्तार किया. आग लगने से दो लोगों की मौत. कोर्ट ने रात आठ से 10 बजे के बीच पटाखे जलाने का आदेश दिया था.

नई दिल्ली स्थित पर्यावरण भवन के बाहर बढ़ते प्रदूषण के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करते लोग. (फोटो: पीटीआई)

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के विरोध में प्रदर्शन, वायु गुणवत्ता ‘बहुत ख़राब’ श्रेणी में पहुंची

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के मुताबिक मंगलवार को नई दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 394 दर्ज किया गया, जो ‘बेहद खराब’ श्रेणी में आता है.

प्रतीकात्मक तस्वीर ( फोटो : पीटीआई)

साल 2016 में जहरीली हवा की वजह से भारत में एक लाख बच्चों की मौत: डब्ल्यूएचओ

साल 2016 में जहरीली हवा से दुनिया भर के तकरीबन छह लाख बच्चों की मौत. इस तरह की हर पांच बच्चों की मौत में एक बच्चा भारतीय होता है.

HUM BHI BHARAT (1)

हम भी भारत, एपिसोड 52: आख़िर साफ हवा और साफ पानी के बुनियादी अधिकारों के लिए कब लड़ेंगे हम?

हम भी भारत की 52वीं कड़ी में आरफ़ा ख़ानम शेरवानी प्रदूषण की बढ़ती समस्या पर बिज़नेस स्टैंडर्ड के सीनियर एसोसिएट एडिटर नितिन सेठी और किसान नेता रमनदीप सिंह मान से चर्चा कर रही हैं.

Vinod Dua

जन गण मन की बात, एपिसोड 317: मोदी का भाषण और घटती वायु गुणवत्ता

जन गण मन की बात की 317वीं कड़ी में विनोद दुआ वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के हालिया कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण, देश मे नौकरियों की स्थिति और पंजाब-हरियाणा में पराली जलने से दिल्ली में घटी वायु गुणवत्ता पर चर्चा कर रहे हैं.