समाज

चित्र कथा : कोलकाता के एक ब्लाइंड स्कूल में जीवन के रंग

कोलकाता के टॉलीगंज इलाके में स्थित लाइटहाउस आॅफ द ब्लाइंड स्कूल के छात्र ज्ञान और विश्वास की रोशनी से भरे हुए हैं.

Sutirtha-_chatterjee-_001

कोलकाता के एक ब्लाइंड स्कूल में सुबह की प्रार्थना में शामिल होने जाता एक बच्चा

दुनिया में सबसे अधिक दृष्टिहीनों की संख्या भारत में है. देश में हर साल लगभग 30 हजार लोग दृष्टिहीन हो जाते हैं. बढ़ती दृष्टिहीनता का सबसे बड़ा कारण मोतियाबंद है. हर साल तकरीबन 30 लाख लोग मोतियाबिंद का शिकार हो जाते हैं और इस आंकड़े का सबसे खराब पहलू ये है कि इसके आधे मामले ही साध्य होते हैं यानी जिनका इलाज संभव होता है, बाकी मामलों में या तो व्यक्ति पूरी तरह या फिर आंशिक रूप से दृष्टिहीन हो जाते हैं.

इसके अलावा देश में नेत्रदान को लेकर बढ़ रही जागरूकता के बाद भी दान की गई आंखों की काफी कमी है. दान की गई आंखों में से भी 60 फीसदी आंखें या तो ट्रांसप्लांट करने योग्य नहीं होतीं या फिर इनका प्रयोग नहीं हो पाता.

एक विषय ये भी है कि देश में दृष्टिहीन बच्चों को शिक्षित करने के लिए भी कोई खास सजगता नहीं है. ऐसे बच्चों की कुल आबादी के मात्र पांच फीसदी बच्चों को ही शिक्षित होने का अवसर मिल पाता है. ऐसे में ब्लाइंड स्कूलों की जरूरत और बढ़ जाती है क्योंकि ये दृष्टिबाधित बच्चों को शिक्षा प्राप्त करके एक सामान्य ज़िंदगी बिताने का अवसर देते हैं.

कई सालों तक बाल मनोविज्ञान, समाजशास्त्र और विशेष शिक्षा के क्षेत्र में किए गए शोध में ये सामने आया है कि दृष्टिहीन बच्चों को अगर बिना कड़े नियम-प्रतिबंधों के माहौल में रखा जाता है तो वे ज्यादा बेहतर तरह से बढ़ते हैं, उनका आत्म-विश्वास दूसरे दृष्टिहीन बच्चों की तुलना में ज्यादा होता है. विशेषज्ञों के द्वारा दी जाने वाली ऐसी शिक्षा के जरिये ही ये बच्चे अपने आसपास की चीज़ों को जानते हैं, रोजमर्रा के छोटे-छोटे अनुभवों को महसूस करते हुए अपने लिए एक सामान्य ज़िंदगी बनाते हैं.

ये तस्वीरें कोलकाता के टॉलीगंज इलाके में स्थित लाइटहाउस आॅफ द ब्लाइंड नाम के स्कूल की हैं, जो इन मासूमों को एक खूबसूरत जिंदगी की उम्मीद दे रहा है. इन बच्चों की आंखों में रोशनी भले ही न हो पर ये स्कूल इनकी ज़िंदगी में ज्ञान और विश्वास की रोशनी तो भर ही रहा है.

 सभी फोटो : सुतीर्थ चटर्जी 
sutirtha_chatterjee_002

ब्रेल लिपि में लिखी गई एक अध्ययन सामग्री

Sutirtha_chatterjee_003

बृहस्पति महतो, स्कूल में मानवाधिकार की पढ़ाई कर रहे हैं

sutirtha_chatterjee_004

यहां बच्चों को संगीत की शिक्षा भी दी जाती है

sutirtha_chatterjee_005

समाचार सुनने के लिए रेडियो सबसे पसंदीदा माध्यम है

sutirtha_chatterjee_006

क्लास खत्म होने के बाद छात्राएं आपस में बातचीत करती हुई

sutirtha_chatterjee_007

सुबह क्लास जाने से पहले की तैयारी

sutirtha_chatterjee_008

रीमा ख़ातून, इंटरवल के समय खाने की तैयारी

sutirtha_chatterjee_009
Sutirtha_chatterjee_010
Sutirtha_chatterjee_011

घर जाने के लिए अपने अभिभावक का इंतजार करते भाई-बहन. जो बच्चे शहर से बाहर के हैं उनके लिए हॉस्टल की सुविधा भी दी गई  है

Sutirtha_chatterjee_012

फुसरत के पल

sutirtha_chatterjee_013

क्लास से अचानक बाहर आने पर जब इन जनाब पर रोशनी पड़ी तो कुछ ऐसा हाल हुआ

sutirtha_chatterjee_014

स्कूल में बच्चों को मिड-डे मील भी दिया जाता है

sutirtha_chatterjee_015

सालाना कार्यक्रम की तैयारियों में जुटे स्कूल के बच्चे

sutirtha_chatterjee_016

एक कार्ड बोर्ड वर्कशॉप में स्कूल की एक पूर्व छात्रा

sutirtha_chatterjee_017

क्लास शुरू होने से पहले साथियों का इंतजार

Sutirtha_chatterjee_018

क्लास खत्म होने के बाद घर जाने की तैयारी