भारत

ईरान के 255 भारतीयों समेत विदेशों में कुल 276 भारतीय कोरोना वायरस से संक्रमित: केंद्र सरकार

भारत में कोराना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या तकरीबन 150 हुई. भारतीय रेलवे ने अब तक तकरीबन 85 ट्रेनों को रद्द किया. प्लेटफॉर्म टिकट में बढ़ोतरी की, ताकि स्टेशनों पर भीड़ न जुटे. देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है.

New Delhi: Passengers wear protective face masks in wake of novel coronavirus (COVID 19) pandemic at New Delhi Railway Station, Sunday, March 15, 2020. (PTI Photo/Arun Sharma)(PTI15-03-2020_000116B)

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने बुधवार को लोकसभा में बताया कि ईरान में 255, संयुक्त अरब अमीरात में 12 और इटली में पांच लोगों सहित कुल 276 भारतीय कोरोना वायरस से संक्रमित हैं.

विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि विदेशों में कोरोना वायरस से संक्रमित भारतीय की कुल संख्या 276 है, जिनमें से 255 ईरान में, 12 संयुक्त अरब अमीरात में, पांच इटली में और एक-एक हांगकांग, कुवैत, रवांडा और श्रीलंका में हैं.

उन्होंने बताया कि सोमवार को ईरान से 53 भारतीयों का चौथा दल भारत लौटा और इसके साथ ही कोरोना वायरस से प्रभावित इस देश से निकाले गए लोगों की कुल संख्या 389 हो गई है.

गौरतलब है कि ईरान कोरोना वायरस से सर्वाधिक बुरी तरह प्रभावित देशों में शामिल है और सरकार वहां फंसे भारतीयों को निकालने में लगी है. ईरान में तकरीबन एक हजार लोगों की मौत कोरोना वायरस के संक्रमण से हो चुकी है.

मुरलीधरन ने इसके साथ ही एक अन्य सवाल के जवाब में बताया कि ईरान में छह हजार भारतीय नागरिक हैं, जिनमें 1100 तीर्थयात्री भी शामिल हैं. इनमें से अधिकतर लोग केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख और जम्मू कश्मीर तथा महाराष्ट्र से हैं.

उन्होंने बताया कि जम्मू कश्मीर से करीब 300 छात्र, केरल, तमिलनाडु और गुजरात के करीब एक हजार मछुआरे तथा बाकी लोग ईरान में आजीविका या धार्मिक अध्ययन के लिए गए हुए थे.

विदेश राज्य मंत्री ने बताया कि जांच के बाद ईरान में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं और स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है.

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर तकरीबन 150 हुए

इधर, देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस संक्रमण के 10 नए मामले सामने आने के बाद इस घातक विषाणु से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर तकरीबन 150 हो गई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन मामलों में दिल्ली, कर्नाटक और महाराष्ट्र में जान गंवाने वाले तीन लोग और 25 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं.

मंत्रालय ने बताया कि संक्रमित लोगों के संपर्क में आए 5,700 से अधिक लोगों पर निकटता से नजर रखी जा रही है. दिल्ली में संक्रमण के अब तक 10 मामले सामने आए हैं जिनमें एक विदेशी शामिल हैं, जबकि उत्तर प्रदेश में एक विदेशी समेत 16 मामले दर्ज किए गए हैं.

महाराष्ट्र में तीन विदेशियों समेत 41 मामले सामने आए हैं जबकि केरल में दो विदेशी नागरिकों समेत 27 मामले दर्ज किए गए हैं. कर्नाटक में कोरोना वायरस के 11 मरीज हैं.

लद्दाख में संक्रमण के मामले बढ़कर आठ हो गए हैं और जम्मू कश्मीर में इसकी संख्या बढ़कर तीन हो गई है. तेलंगाना में दो विदेशियों समेत पांच मामले सामने आए हैं. राजस्थान में दो विदेशियों समेत चार लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं.

तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, उत्तराखंड और पंजाब में एक-एक मामला सामने आया है. हरियाणा में 14 विदेशियों समेत 16 लोग संक्रमित हैं.

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अब तक 14 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी गई है. इन मरीजों में केरल के वे तीन मरीज भी शामिल हैं जिन्हें पिछले महीने अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी.

इस वायरस के कारण देश में अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है. हाल में मुंबई की 64 वर्षीय बुजुर्ग की मौत बीते 17 मार्च को हो गई. वह दुबई से लौटी थे.

इससे पहले बीते को कलबुर्गी के 76 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई थी, जो सऊदी अरब से लौटे थे. दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में शुक्रवार रात को एक महिला की मौत हो गई थी.

एक अतिरिक्त यात्रा परामर्श के अनुसार सरकार ने अफगानिस्तान, फिलीपीन और मलेशिया से यात्रियों के भारत में प्रवेश पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है. यह निर्देश अस्थायी रूप से लागू किया गया है और यह 31 मार्च तक लागू रहेगा. इसकी बाद में समीक्षा की जाएगी.

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने 18 मार्च से 31 मार्च के बीच यूरोपीय संघ के देशों, तुर्की और ब्रिटेन के यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है.

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिल्ली-एनसीआर और अन्य कई राज्यों में 31 मार्च तक शैक्षणिक संस्थान, सार्वजनिक स्थल जैसे स्विमिंग पूल, स्पा, जिम, सिनेमाघर और सांस्कृतिक केंद्र आदि बंद हैं.

रेलवे ने 85 ट्रेनें रद्द की

रेलवे ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने और सीटें खाली रहने के कारण 85 ट्रेनें मंगलवार रद्द कर दीं.

अधिकारियों ने मंगलवार जोनल रेलवे के कैटरिंग स्टाफ के संबंध में दिशा निर्देश भी जारी किए हैं, जिसमें कहा गया है कि बुखार, खांसी, नाक बहने या सांस लेने में कठिनाई होने वाले किसी भी कर्मचारी को भारतीय रेलवे में खान-पान का जिम्मा देखने के लिए तैनात नहीं किया जाना चाहिए.

अधिकारियों के मुताबिक, मध्य रेलवे ने 23 ट्रेनें, दक्षिण मध्य रेलवे ने 29 ट्रेनें कीं, पश्चिमी रेलवे ने 10 ट्रेनें, दक्षिण पूर्व रेलवे ने नौ ट्रेने रद्द की हैं. इसके अलावा पूर्वी तट और उत्तर रेलवे ने पांच-पांच ट्रेनों को रद्द कर दिया और उत्तर पश्चिम रेलवे ने चार ट्रेनों को रद्द किया. इस सूची में कुछ लोकप्रिय लंबे रूट की ट्रेनें शामिल हैं.

एहतियाती उपाय के रूप में पश्चिमी रेलवे और मध्य रेलवे जैसे रेलवे ज़ोनों ने प्लेटफार्म टिकट की कीमतों में वृद्धि की है, ताकि बड़ी संख्या में लोगों को प्लेटफार्म पर आने से रोका जा सके.

आदेश में कहा गया है कि खाद्य पदार्थों की अच्छे से पैकिंग की जानी चाहिए और जहां तक संभव हो खुली हुई वस्तुओं के उपयोग से बचना चाहिए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)