भारत

लॉकडाउन: मार्च से वेतन नहीं मिलने पर फैक्टरी के बाहर धरने पर बैठे मजदूर

पुलिस ने बताया कि नोएडा के फेस-तीन में स्थित फैक्टरी मार्च से बंद थी. इसे सरकार के आदेश पर खोला गया है. फैक्टरी प्रबंधन का कहना है कि खरीददार से भुगतान नहीं मिलने के कारण मजदूरों को वेतन देने में असुविधा हो रही है.

Chennai: Migrant labourers during a protest amid a government-imposed nationwide lockdown as a preventive measure against the coronavirus, in Chennai, Saturday, May 2, 2020. The workers were demanding clearance of pending dues, food and shelter. (PTI Photo)(PTI02-05-2020_000205B)

(फोटो: पीटीआई)

नोएडा: उत्तर प्रदेश के नोएडा में परिधान निर्यात करने वाली एक फैक्टरी के बाहर सोमवार को मजदूरों ने प्रदर्शन किया. मजदूरों का आरोप है कि फैक्टरी प्रबंधन ने मार्च से वेतन नहीं दिया है. मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

पुलिस उपायुक्त (जोन द्वितीय) हरीश चंदर ने बताया कि थाना फेस-तीन क्षेत्र के तहत आने वाले इलाके में परिधान निर्यात करने वाली एक फैक्टरी है. यह लॉकडाउन की वजह से मार्च से बंद थी. इसे सरकार के आदेश पर खोला गया है.

उन्होंने बताया कि सोमवार सुबह जब मजदूर काम करने पहुंचे तो उन्होंने कंपनी प्रबंधन को अवगत कराया कि उन्हें मार्च से अब तक का वेतन नहीं मिला है.

चंदर ने कहा कि मजदूरों ने पहले वेतन देने और फिर काम करने की बात कही. जब फैक्टरी प्रबंधन ने वेतन देने में आनाकानी की तो मजदूरों ने हंगामा शुरू कर दिया तथा फैक्टरी के गेट पर नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए.

पुलिस उपायुक्त ने बताया कि घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने मजदूरों को समझाना-बुझाना चाहा, लेकिन वे शांत नहीं हुए.

पुलिस अधिकारी फैक्टरी प्रबंधन तथा मजदूरों के बीच बातचीत करा रहे हैं.

वहीं फैक्टरी प्रबंधन का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से फैक्टरी बंद थी और उन्हें खरीददार से भुगतान नहीं मिला है, जिस वजह से मजदूरों को वेतन देने में असुविधा हो रही है.