दुनिया

कोरोना वायरस: आठ सितंबर के बाद पहली बार 76,000 से कम नए मामले सामने आए

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक 5,562,663 मामले हो गए है, वहीं मृतक संख्या बढ़कर 88,935 हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में पहली बार 24 घंटे के भीतर एक लाख से अधिक मरीज ठीक हुए हैं. विश्व में संक्रमण के 3.13 करोड़ से ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं और 9.65 लाख से अधिक लोग जान गंवा चुके हैं.

A municipal worker is sanitised after he cremated the body of a man, who died due to coronavirus disease, at a crematorium in Ahmedabad. Reuters

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 75,083 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 5,562,663 हो गए. वहीं, 1,053 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 88,935 हो गई है.

भारत में आठ सितंबर के बाद पहली बार 76 हजार से कम नए मामले सामने आए हैं. आठ सितंबर को 75,809 नए मामले सामने आए थे. बीते 21 सितंबर को 86,961 नए मामले सामने आए थे.

आठ सितंबर से 21 सितंबर के बीच 17 सितंबर को नए मामलों की संख्या 97,894 तक पहुंच गई थी, जो अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है.

आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि दो सितंबर से यह लगातार 21वां दिन है, जब 24 घंटे में मरने वालों की संख्या एक हजार से अधिक रही है.

पहली बार 24 घंटे के भीतर एक लाख से अधिक मरीज हुए ठीक

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बताया गया कि भारत में पहली बार एक दिन में कोविड-19 के एक लाख से अधिक (101,468) मरीज ठीक हुए हैं.

इसके साथ ही देश में कुल 4,497,867 लोगों के संक्रमण मुक्त होने के बाद मरीजों के ठीक होने की दर 80.86 प्रतिशत हो गई है, जबकि कोविड-19 से मौत की दर 1.60 प्रतिशत है.

आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी 975,861 मरीजों का कोरोना वायरस के लिए इलाज जारी है, जो संक्रमण के कुल मामलों का 17.54 प्रतिशत है.

भारत में कोविड-19 मरीजों की संख्या सात अगस्त को 20 लाख को पार कर गई थी, जबकि 23 अगस्त को 30 लाख के पार और पांच सितंबर को 40 लाख के पार पहुंच गई थी. 16 सितंबर को यह आंकड़ा 50 लाख के पार चला गया.

आंकड़ों के मुताबिक, भारत में कोविड-19 संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 10 लाख से 20 लाख तक पहुंचने में 21 दिनों का समय लगा था, जबकि 20 से 30 लाख की संख्या होने में 16 और दिन लगे. हालांकि 30 लाख से 40 लाख तक पहुंचने में मात्र 13 दिनों का समय लगा है. वहीं, 40 लाख के बाद 50 लाख की संख्या को पार करने में केवल 11 दिन लगे.

देश में 110 दिन में कोविड-19 के मामले एक लाख हुए थे और 59 दिनों में वह 10 लाख के पार चले गए थे.

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 21 सितंबर तक कुल 65,325,779 नमूनों की कोविड-19 की जांच की गई, इनमें से 933,185 नमूनों की जांच सोमवार को ही की गई.

वायरस के मामले और मौतें

बीते 24 घंटे या एक दिन में संक्रमण के नए मामलों की बात करें तो बीते 21 सितंबर को 86,961, 20 सितंबर को 92,605, 19 सितंबर को 93,337, 18 सितंबर को 96,424, 17 सितंबर को 97,894 मामले दर्ज किए गए थे, जो अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है.

इसके अलावा 16 सितंबर को 90,123, 15 सितंबर को 83,809, 14 सितंबर को 92,071, 13 सितंबर को 94,372, 12 सितंबर को 97,570, 11 सितंबर को 96,551, 10 सितंबर को 95,735, नौ सितंबर को 89,706, आठ सितंबर को 75,809 और सात सितंबर को 90,802 नए मामले दर्ज किए गए थे.

छह सितंबर को संक्रमण के नए मामले पहली बार 90 हजार (90,632) के पार हो गए थे. 28 अगस्त को पहली बार 70 हजार (75,760) के पार, सात अगस्त को पहली बार 60 हजार (62,538) के पार, 30 जुलाई को पहली बार 50 हजार के पार हो गए थे.

इसी तरह 20 जुलाई को यह पहली बार 40 हजार के पार, 16 जुलाई को पहली बार 30 हजार के पार, 10 जुलाई को पहली बार 25 हजार (26,506) के पार, तीन जुलाई को पहली बार 20 हजार के पार, 21 जून को पहली बार 15 हजार के पार और 20 जून को संक्रमण के नए मामलों की संख्या पहली बार 14 हजार के पार हुई थी.

एक दिन या 24 घंटे के दौरान मरने वालों संख्या की बात करें तो बीते 21 सितंबर को 1,130, 20 सितंबर को 1,133, 19 सितंबर को 1,247, 18 सितंबर को 1,174, 17 सितंबर को 1,132, 16 सितंबर को 1,290 लोगों की मौत हुई, जो अब तक की सर्वाधिक संख्या है.

15 सितंबर को 1,054, 14 सितंबर को 1,136, 13 सितंबर को 1,114, 12 सितंबर को 1,201, 11 सितंबर को 1,209, 10 सितंबर को 1,172, नौ सितंबर को 1,115 और आठ सितंबर को 1,133, सात सितंबर को 1,016, छह सितंबर को 1,065, पांच अगस्त को 1,089, चार सितंबर को 1,096, तीन सितंबर को 1,043, दो सितंबर को 1,045, एक सितंबर को 819 लोगों की मौत हुई.

10 अगस्त से 31 अगस्त तक बीते 24 घंटे या एक दिन में मरने वालों की संख्या 1007 से अधिकतम 1,092 (19 अगस्त का आंकड़ा) के बीच रही. 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच एक दिन या 24 घंटे में मौत का आंकड़ा 700 से लेकर 933 (आठ अगस्त का आंकड़ा) के बीच रहा है. एक जुलाई से 23 जुलाई के बीच यह आंकड़ा 507 से 1,129 के बीच रहा.

11 जून से 30 जून के बीच मरने वालों की संख्या 300 से 500 के अंदर रही है. 22 जून को एक दिन में मरने वालों की संख्या पहली बार 400 से अधिक रही थी. और 11 जून को पहली बार मरने वालों की संख्या 300 के आंकड़े को पार कर गई थी.

महाराष्ट्र में सबसे अधिक लोगों की मौत

मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में जिन 1,053 लोगों की मौत हुई, उनमें से सबसे अधिक 344 लोग महाराष्ट्र के थे. इसके अलावा कर्नाटक के 122, उत्तर प्रदेश के 88, पश्चिम बंगाल के 62, तमिलनाडु के 60, आंध्र प्रदेश के 51, पंजाब के 47, मध्य प्रदेश के 37 और दिल्ली के 32 लोग थे.

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में अब तक कुल 88,935 लोगों की मौत हुई है, इनमें सर्वाधिक 33,015 लोग महाराष्ट्र के हैं. वहीं, तमिलनाडु के 8,871, कर्नाटक के 8,145, आंध्र प्रदेश के 5,410, उत्तर प्रदेश के 5,135, दिल्ली के 5,014, पश्चिम बंगाल के 4,421, गुजरात के 3,336, पंजाब के 2,860 और मध्य प्रदेश के 2,007 लोग शामिल हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय इस बात पर जोर दिया कि संक्रमण की वजह से मरने वाले 70 प्रतिशत से अधिक मरीज दूसरी बीमारियों से भी ग्रसित थे.

दुनियाभर में मामले 3.13 करोड़ से ज़्यादा, 9.65 लाख से अधिक की मौत

अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 31,328,661 हो गए हैं और अब तक 965,064 लोगों की जान जा चुकी है.

दुनियाभर में कोरोना से अमेरिका सबसे अधिक प्रभावित देश है. यहां संक्रमण के अब तक 6,857,967 मामले सामने आए हैं, जबकि मरने वालों की संख्या 199,884 हो चुकी है.

भारत संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित दूसरा देश है. भारत के बाद तीसरे सर्वाधिक प्रभावित देश ब्राजील में संक्रमण के अब तक 4,558,040 मामले मिले हैं और 137,272 लोग दम तोड़ चुके हैं.

ब्राजील के बाद रूस चौथे स्थान पर है, जहां संक्रमण के 1,111,157 मामले मिले हैं और 19,420 लोगों की जान जा चुकी है.

रूस के बाद पेरू को पीछे करते हुए कोलंबिया फिर संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित पांचवां देश बन गया है. यहां 770,435 मामले आए हैं, जबकि 24,397 मरीजों की मौत दर्ज की जा चुकी है.

कोलंबिया के बाद छठे सर्वाधिक प्रभावित देश पेरू में संक्रमण के 768,895 मामले हैं और 31,369 लोगों ने जान गंवा दी है. कोलंबिया के बाद सातवें प्रभावित देश मैक्सिको में 700,580 मामले सामने आए हैं और 73,697 मौतें हुई हैं.

मैक्सिको के बाद दक्षिण अफ्रीका को पीछे करते हुए स्पेन आठवां प्रभावित देश बन गया है. यहां संक्रमण के 671,468 मामले दर्ज हुए हैं, जबकि 30,663 मौतें हुई हैं. स्पेन के बाद संक्रमण से नौवें सर्वाधिक प्रभावित देश दक्षिण अफ्रीका में 661,936 मामले सामने आए हैं और 15,992 मौतें हुई हैं.

स्पेन के बाद 10वें सर्वाधिक प्रभावित देश अर्जेंटीना में संक्रमण के 640,147 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 13,482 लोगों की यह महामारी जान ले चुकी है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)