भारत

एमपी: वैलेंटाइन डे पर ‘लव जिहाद’ के नाम पर तोड़-फोड़, पूर्व भाजपा विधायक समेत 17 गिरफ़्तार

भोपाल में ‘वैलेंटाइन डे’ के विरोध में कुछ हिंदुत्ववादी संगठनों ने शहर के एक हुक्का लाउंज और एक रेस्तरां में तोड़फोड़ की. इस मामले में पूर्व भाजपा विधायक सुरेंद्र नाथ सिंह को गिरफ़्तार किया गया है.

Surendra-Nath-Singh-1200x600

पूर्व भाजपा विधायक सुरेंद्र नाथ सिंह. (फोटो साभार: फेसबुक)

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बीते रविवार को ‘वैलेंटाइन डे’ के विरोध में कुछ संगठनों ने शहर के एक हुक्का लाउंज एवं एक रेस्तरां में तोड़फोड़ की.

इस मामले में भोपाल मध्य विधानसभा सीट से भाजपा के विधायक रह चुके सुरेंद्र नाथ सिंह सहित 17 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. यह जानकारी पुलिस ने दी है.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि भगवा झंडा लिए हुए ये लोग भगवा गमछा पहने हुए थे और ‘जय श्रीराम’ के नारे लगा रहे थे.

श्यामला पुलिस थाने के प्रभारी इंस्पेक्टर तरूण भाटी ने बताया, ‘थाना क्षेत्र के एक हुक्का लाउंज में तोड़फोड़ करने के मामले में सुरेंद्र नाथ सिंह एवं छह अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है.’

वहीं, हबीबगंज पुलिस थाना प्रभारी राकेश श्रीवास्तव ने बताया, ‘शिव सैनिकों ने शहर के हबीबगंज पुलिस थाना इलाके के एक रेस्टोरेंट में तोड़फोड़ की और इस मामले में 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.’

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक तोड़-फोड़ करने वालों ने खुद को भाजपा युवा मोर्चा का सदस्य बताया है.

‘संस्कृति बचाओ मंच’ का नेतृत्व कर रहे पूर्व भाजपा विधायक सुरेंद्र नाथ सिंह ने गिरफ्तारी से पहले संवाददाताओं से कहा, ‘हुक्का लाउंज में नौजवानों को नशे का आदी बनाया जा रहा है और उन्हें ब्लैकमेल किया जा रहा है. इन हुक्का लाउंज के कारण युवा लव जिहाद का शिकार भी हो रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘इसलिए हम अपने समाज की रक्षा करेंगे और आज ‘वैलेंटाइन डे’ से ही इन हुक्का लाउंज को बंद करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं.’ सिंह ने कहा, ‘हम भोपाल में हुक्का लाउंज नहीं चलने देंगे.’

वहीं, ‘संस्कृति बचाओ मंच के अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने कहा, ‘हम ‘वैलेंटाइन डे’ का विरोध करते हैं और किसी भी होटल, रेस्टोरेंट या हुक्का लाउंज में अगर अश्लीलता फैलाई गई तो संस्कृति बचाओ मंच उसे कतई बर्दाश्त नहीं करेगा.’

पिछले सालों में भी कट्वरवादी दक्षिणपंथी समूहों के लोगों ने भी वैलेंटाइन डे के मौके पर कई कपल्स को परेशान किया है. इसके लिए अब उन्हें तथाकथित ‘लव जिहाद’ एक नया सहारा मिल गया है.

उल्लेखनीय है कि अभी तक भारत के किसी कानूनी विभाग ने ‘लव जिहाद’ को परिभाषित नहीं किया है.

लव जिहाद हिंदूवादी संगठनों द्वारा इस्तेमाल में लाई जाने वाली शब्दावली है, जिसमें कथित तौर पर हिंदू महिलाओं को जबरदस्ती या बहला-फुसलाकर उनका धर्म परिवर्तन कराकर मुस्लिम व्यक्ति से उसका विवाह कराया जाता है.

हालांकि, कानून का बड़ी संख्या में दुरुपयोग भी देखने को मिल रहा है, खासकर अतंरधार्मिक युगलों के खिलाफ जो अपनी मर्जी से शादी करना चाहते हैं.

उत्तर प्रदेश में कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें आपसी सहमति अंतरधार्मिक विवाह करने वाले या करने जा रहे युगलों को न सिर्फ प्रताड़ित किया गया बल्कि जेल भी भेजा गया. ऐसे ही एक मामले में एक महिला का गर्भपात तक हो गया था.

बता दें कि उत्तर प्रदेशमध्य प्रदेश जैसे भाजपा शासित राज्यों ने दूसरे धर्म में शादी के लिए धर्मांतरण के खिलाफ कानून को मंजूरी दी है. उत्तर प्रदेश पहला ऐसा राज्य है, जहां कथित लव जिहाद को लेकर इस तरह का कानून लाया गया था.

इसके अलावा हरियाणा ने भी इसके खिलाफ कानून लाने की मांग की है. कुछ हिंदूवादी संगठन लगातार केंद्र सरकार से कथित लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने की मांग करते रहे हैं.

हालांकि केंद्र सरकार ने कहा है कि धर्मांतरण के खिलाफ कानून लाने की उसकी फिलहाल कोई योजना नहीं है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)