भारत

गुजरातः बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने जलाईं कामसूत्र की प्रतियां, कहा- भगवान का आपत्तिजनक चित्रण

मामला अहमदाबाद के लैटीट्यूड गिफ्ट एंड बुकस्टोर का है, जहां बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ताओं ने 28 अगस्त को हिंदू देवी-देवताओं के अपमानजनक चित्रण का आरोप लगाते हुए कामसूत्र किताब की प्रतियां जलाईं. कार्यकर्ताओं ने किताब की बिक्री जारी रखने पर अगली बार पूरी दुकान जलाने की चेतावनी दी है.

अहमदाबाद में बजरंग दल के सदस्य कामसूत्र किताब की प्रतियां जलाते हुए. (फोटोः स्क्रीनग्रैब)

अहमदाबादः गुजरात के अहमदाबाद में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को एक बुकस्टोर के बाहर कामसूत्र किताब की प्रतियां जला दीं.

बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने किताब में भगवान कृष्ण के आपत्तिजनक चित्रण का हवाला देकर किताब जला दी. उनका आरोप है कि इस किताब में हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किया गया है.

इस घटना के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हैं, जिनमें बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को जय श्रीराम और हर हर महादेव का नारा लगाते सुना जा सकता है.

सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को यह कहते सुना जा सकता है कि वे लैटीट्यूड बुकस्टोर में हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, यह बुकस्टोर सरखेज-गांधीनगर राजमार्ग के पास है और यह घटना 28 अगस्त की रात को हुई.

28 अगस्त की रात बजरंग दल के दर्जनभर कार्यकर्ता अहमदाबाद में सरखेज-गांधीनगर राजमार्ग से सटे राजपथ क्लब के पास लैटीट्यूड गिफ्ट एंड बुक स्टोर में घुसे और कामसूत्र किताब की प्रतियों में आग लगा दी.

नॉर्थ बजरंग दल के अध्यक्ष ज्वलित मेहता ने कहा, ‘हमें शिकायत मिली थी कि इस बुकस्टोर में एक किताब बेची जा रही है, जिसमें हिंदू भगवान कृष्ण का चित्रण आपत्तिजनक तरीके से किया गया है. हम दुकान गए और पता चला कि इस किताब में भगवान कृष्ण और राधा की कई आपत्तिजनक तस्वीरें और उनके बारे में आपत्तिजनक टिप्पणियां की गई हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हमने विरोधस्वरूप स्टोर के बाहर किताब जला दी. यह अहमदाबाद में बुकस्टोर मालिकों के लिए चेतावनी है कि अगर उन्होंने इस तरह की आपत्तिजनक सामग्री बेचनी जारी रखी, जिससे हिंदू भावनाएं आहत हुईं तो अगली बार हम उनकी दुकानों में आग लगा देंगे.’

बता दें कि इस मामले में नाही बजरंग दल के कार्यकर्ताओं और न ही बुकस्टोर स्टाफ ने पुलिस से संपर्क किया है.

लैटीट्यूड स्टोर्स चेन के एक प्रतिनिधि ने बताया, ‘हम अहमदाबाद में हमारे एक बुकस्टोर के बाहर हुए विरोध प्रदर्शन से वाकिफ हैं. हमने पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है. हमारे स्टोर में अब उस किताब की कोई प्रति नहीं है.’

बता दें कि 2017 में बजरंग सेना के सदस्यों ने खजुराहो मंदिर के परिसर में कामसूत्र किताब की बिक्री की छतरपुर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी.