राजनीति

तीन सालों में औसत 80 फीसदी रही दोनों सदनों में सांसदों की उपस्थिति

पिछले तीन वर्षों के दौरान लोकसभा में 40 से 55 वर्ष आयु वर्ग के सांसदों ने 242 प्रश्न पूछे, जबकि 70 वर्ष से अधिक के सांसदों ने 133 सवाल पूछे.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: संसद के लोक महत्व, नीतिगत और अन्य महत्वपूर्ण विषयों की चर्चा का सर्वोच्च मंच होने के बीच 16वीं लोकसभा में तीन वर्षों के दौरान दोनों सदनों में सांसदों की शत प्रतिशत उपस्थिति नहीं रही. लोकसभा में सांसदों की औसत उपस्थिति 81 प्रतिशत और राज्यसभा में सांसदों की औसत उपस्थिति 80 प्रतिशत दर्ज की गई.

पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, 11 अगस्त 2017 को समाप्त संसद के मानसून सत्र तक 16वीं लोकसभा के तीन वर्ष पूरे होने के बाद लोकसभा में भाजपा सांसदों की औसत उपस्थिति 87 प्रतिशत रही.

इस अवधि में कांग्रेस सदस्यों की औसत उपस्थिति 79 प्रतिशत, बीजद सदस्यों की 83 प्रतिशत, अन्नाद्रमुक सदस्यों की 81 प्रतिशत, शिवसेना सदस्यों की 80 प्रतिशत दर्ज की गई .

16वीं लोकसभा में पिछले तीन वर्षों के दौरान  तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) सदस्यों की औसत उपस्थिति 79 प्रतिशत, तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) सदस्यों की 70 प्रतिशत, तृणमूल कांग्रेस की 65 प्रतिशत रही .

16वीं लोकसभा में 11 अगस्त 2017 को समाप्त संसद के मानसून सत्र तक तीन वर्षों के बीच उच्च सदन राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी के सदस्यों की औसत उपस्थिति 88.88 प्रतिशत दर्ज की गई जबकि कांग्रेस सदस्यों की औसत उपस्थिति 85 प्रतिशत, जदयू सदस्यों की 81 प्रतिशत, अन्नाद्रमुक सदस्यों की 78 प्रतिशत और तृणमूल कांग्रेस सदस्यों की औसत उपस्थिति 70 प्रतिशत दर्ज की गई .

रिपोर्ट के अनुसार, लोकसभा में उत्तर क्षेत्र के सांसदों की सदन में उपस्थिति 86 प्रतिशत रही जबकि दक्षिण क्षेत्र के सांसदों की उपस्थिति 78 प्रतिशत दर्ज की गई. सदन में 40 वर्ष से कम आयु के सांसदों की उपस्थिति 74 प्रतिशत दर्ज की गई जबकि 40 से 70 वर्ष के सांसदों की उपस्थिति 82 प्रतिशत दर्ज की गई.

राज्यसभा में पुरुष सांसदों की उपस्थिति 80 प्रतिशत दर्ज की गई जबकि महिला सांसदों की उपस्थिति 75 प्रतिशत रही. राज्यसभा में 55 वर्ष से अधिक आयु के सांसदों की उपस्थिति युवा सांसदों से अधिक रही.

पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक, लोकसभा में 55 से 70 वर्ष आयु वर्ग के सांसदों ने सदन में चर्चा में ज्यादा हिस्सा लिया. इस आयु वर्ग के सांसदों ने औसतन 40 चर्चाओं में हिस्सा लिया जबकि 40 वर्ष से कम आयु के सांसदों ने सदन में औसतन 23 चर्चाओं में हिस्सा लिया.

पिछले तीन वर्षों के दौरान लोकसभा में 40 से 55 वर्ष आयु वर्ग के सांसदों ने 242 प्रश्न पूछे जबकि 70 वर्ष से अधिक के सांसदों ने 133 सवाल पूछे.

राज्यसभा में 40 वर्ष तक के सांसदों ने औसतन 96 चर्चाओं में हिस्सा लिया. दक्षिण क्षेत्र के सांसदों ने औसतन 67 चर्चाओं में हिस्सा लिया जबकि पश्चिम क्षेत्र के सांसदों ने 50 चर्चाओं में हिस्सा लिया.

उच्च सदन में पश्चिम क्षेत्र के सांसदों ने सबसे अधिक सवाल पूछे, जबकि उत्तर क्षेत्र के सांसदों ने तुलनात्मक रूप से कम सवाल पूछे.