भारत

भाजपा ने मीडिया को साध रखा है, व्यापमं घोटाले पर पांच लाइन भी नहीं छापता: कांग्रेस

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सीबीआई केंद्र सरकार की कठपुतली के रूप में काम कर रही है, छोटे लोगों को पकड़ रही, बड़े लोगों को छोड़ दिया.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

भोपाल: बहुचर्चित व्यापमं घोटाले मामले में सीबीआई द्वारा 592 लोगों के खिलाफ स्थानीय अदालत में आरोपपत्र दायर होने के दो दिन बाद कांग्रेस ने सीबीआई पर शनिवार को आरोप लगाया है कि वह केंद्र सरकार की कठपुतली के रूप में काम कर रही है.

मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रभारी दीपक बावरिया ने संवाददाताओं से कहा, व्यापमं में बड़े पैमाने पर घोटाला एवं भ्रष्टाचार हुआ है. छोटे-छोटे लोगों को पकड़ रहे हैं. बड़ी-बड़ी हस्तियों को छोड़ दिया गया है.

उन्होंने कहा, सब जानते हैं कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस घोटाले के सबसे बड़े सूत्रधार हैं और सीबीआई उनका साथ दे रही है. बावरिया ने आरोप लगाया कि इस मामले में सीबीआई केंद्र सरकार की कठपुतली के रूप में काम कर रही है.

मीडिया पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, भाजपा ने मीडिया को साध रखा है. व्यापमं घोटाला सबसे बड़ी कलंकित करने वाली घटना है. लेकिन मीडिया इस संबंध में पांच लाइन भी नहीं छापता है.

इस आरोप को संवाददाता सम्मेलन में मौजूद पत्रकारों ने जमकर विरोध किया और व्यापमं मामले के समाचारों की कतरन हिलाते हुए बावरिया से सवाल किया कि क्या आप समाचार नहीं पढ़ते हैं?

इस पर मीडिया को शांत करने के लिए मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव को हस्तक्षेप करना पड़ा, जिसके बाद मीडिया शांत हुआ. इसके बाद बावरिया अपने बचाव बोले, मैं आप पर आरोप नहीं लगा रहा हूं. इस घोटाले की राष्ट्रीय स्तर पर जो चर्चा होनी चाहिए थी, वह नहीं हो रही है. थोड़े चैनलों को छोड़कर इस पर व्यापक पैमाने पर चर्चा नहीं हुई है.

बावरिया ने कहा कि कांग्रेस अगले साल नवंबर-दिसंबर में मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में प्रदेश में महिलाओं के साथ हो रहे दुष्कर्म और तस्करी के मुद्दे को मुख्य रूप से उठाने के साथ-साथ भ्रष्टाचार, राज्य सरकार की किसान विरोधी नीतियों, व्यापमं घोटाला एवं कुपोषण के मुद्दे को लेकर जनता के बीच जाएगी.

अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को कितनी सीट मिलने की उम्मीद है, इस पर उन्होंने दावा किया, मध्य प्रदेश में सुनामी आने वाली है. भाजपा बहुत ज्यादा सीटों पर अपनी जमानत भी नहीं बचा पाएगी.

मध्य प्रदेश में कुछ समय पहले हुए नगरीय निकाय चुनाव में अपनी पार्टी की हार के लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्होंने कहा, ईवीएम से चुनाव कराने पर गड़बड़ी होती है.

मैं शिवराज सिंह चौहान को चुनौती देता हूं कि आप मध्य प्रदेश में बैलेट पेपर से चुनाव करा लीजिए, दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. गौरतलब है कि सीबीआई ने व्यापमं द्वारा ली गई पीएमटी 2012 परीक्षा में हुए कथित घोटाले की अपनी जांच के सिलसिले में 23 नवंबर को भोपाल में 592 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है, जिनमें व्यापमं के तत्कालीन अधिकारी, छात्र, स्कोरर, मीडिएटर, अभिभावक, इस परीक्षा में ड्यूटी पर लगाए गए शिक्षक-शिक्षिकाओं के साथ-साथ चार निजी कॉलेजों के प्रमोटर, निर्देशक एवं अधिकारी शामिल हैं.