भारत

‘मेरे बाग के आम खाकर लोगों को बच्चे हुए’, इस दावे पर संभाजी भिड़े को नोटिस

भीमा-कोरेगांव हिंसा में आरोपी संभाजी भिड़े ने कहा था कि अभी तक बिना बच्चों वाले 180 दंपतियों ने उनसे फल लिए, उनमें से 150 को बच्चा हुआ.

संभाजी भिड़े. (फोटो: पीटीआई)

संभाजी भिड़े. (फोटो: पीटीआई)

नासिक: महाराष्ट्र की नासिक महानगरपालिका (एनएमसी) ने दक्षिणपंथी विचारधारा रखने वाले नेता संभाजी भिड़े से उन दंपतियों के नाम बताने के लिए कहा है जिन्हें उनके खेत के आम खाने के बाद बच्चे हुए.

एनएमसी ने भिड़े को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए उन्हें अपने दावे को साबित करने के लिए कहा है. भिड़े ने दावा किया है कि उनके बाग के आम खाने से इन दंपतियों को बेटा पैदा होने में मदद मिली.

भिड़े ने इसी महीने नासिक में आयोजित एक रैली में यह दावा किया था. उन्होंने कहा था, ‘आम शक्तिशाली और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं. मेरे बगीचे के आम खाने वाली कुछ महिलाओं ने बेटों को जन्म दिया.’

उन्होंने दावा किया था, ‘मैंने अपनी मां के अलावा कभी किसी को यह नहीं बताया. मैंने अपने बाग में आम के ये पेड़ लगाए. अभी तक बिना बच्चों वाले 180 दंपतियों ने मुझसे फल लिया और उनमें से 150 को बच्चा हुआ.’

उन्होंने कहा, ‘अगर कोई दंपति बेटा चाहता है तो उन्हें ये आम खाने के बाद बेटा होगा. बांझपन का सामना कर रहे लोगों के लिए यह आम फायदेमंद है.’

एनएमसी के एक अधिकारी ने बताया कि एक सामाजिक कार्यकर्ता ने भिड़े के दावे को झूठा बताते हुए स्वास्थ्य अधिकारियों से संपर्क किया था जिसके बाद पिछले सप्ताह भिड़े को नोटिस भेजा गया.

शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान का नेतृत्व करने वाला भिड़े एक जनवरी को हुई भीमा-कोरेगांव जातीय हिंसा के मामले में आरोपी है.

Comments