भारत

तमिलनाडु: भाजपा नेता के ख़िलाफ़ नारा लगाने पर छात्रा को जेल

कनाडा यूनिवर्सिटी की छात्रा लुई सोफिया ने एक फ्लाइट में साथ में सफर कर रही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष तमिलिसाई सौंदर्राजन को देखकर ‘फासीवादी भाजपा’ का नारा लगाया था, जिसके बाद तमिलिसाई ने आरोप लगाया कि उनकी ‘जान को ख़तरा’ है.

Tamilisai Soundararajan

तमिलनाडु भाजपा की प्रदेश अध्यक्ष तमिलिसाई सौंदर्राजन (फोटो साभार: यूट्यूब)

चेन्नई: तूतीकोरिन एयरपोर्ट पर भाजपा की प्रदेश अध्यक्ष तमिलिसाई सौंदर्राजन के साथ बहस होने के चंद घंटों पहले कनाडा की एक यूनिवर्सिटी की छात्रा लुई सोफिया ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा था कि वे उसी फ्लाइट में हैं, जिस पर सौंदर्राजन हैं और वे ‘फासीवादी भाजपा सरकार’ के खिलाफ नारेबाजी करना चाहती हैं, क्या उन्हें फ्लाइट से निकाल दिया जायेगा?

इसके कुछ घंटों बाद सौंदर्राजन ने इस छात्रा के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई और पुदुक्कोट्टई में लुई को हिरासत में ले लिया गया, इससे पहले इस भाजपा नेता ने यह भी कहा कि तमिलनाडु ‘भगवा राज्य’ है.

सौंदर्राजन ने आरोप लगाया कि फ्लाइट लैंड होने के बाद सोफिया ने ‘डाउन विद फासिस्ट बीजेपी’ का नारा लगाया. हालांकि न उन्होंने, न किसी और ने उन दोनों के बीच किसी तरह की शारीरिक झड़प की बात कही, फिर भी भाजपा नेता ने कहा कि ‘उनकी जान को खतरा है’ और ज़ोर दिया कि शिकायत दर्ज की जाये, जिसके बाद इस छात्रा को गिरफ्तार कर लिया गया.

इसके बाद सोफिया के खिलाफ आईपीसी की धारा 290 और 505 के तहत एफआईआर दर्ज करवाई गयी. सोफिया के वकील ई. अथिसायाकुमार ने बताया कि उन्हें आईपीसी की धारा 290 और तमिलनाडु सिटी पुलिस एक्ट की धारा 75 (1) रिमांड में लिया गया है.

कुमार का कहना है कि जल्दी ही सोफिया को ज़मानत मिल जाएगी. हालांकि गिरफ़्तारी के कुछ देर बाद ही तबियत ख़राब होने के चलते सोफिया को तूतीकोरिन के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया.

द वायर  से बात करते हुए कुमार ने कहा, ‘वे एक राष्ट्रीय पार्टी की प्रदेश अध्यक्ष हैं, एक डॉक्टर हैं; मुझे लगता है कि अगर वे सोफिया के नारों से नाराज़ भी हुई थीं, तब भी वे इस स्थिति को बेहतर तरह से संभाल सकती थीं. वे सोफिया से  बात करके उसे समझा सकती थीं. असहमति से निपटने का यह कोई तरीका नहीं है.’

वहीं, दूसरी ओर सौंदर्राजन ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्हें सोफिया के बैकग्राउंड को लेकर संदेह है और ‘उसका किसी आतंकी संगठन से लिंक हो सकता है.’

उन्होंने कहा, ‘मेरी जान को खतरा है.’ कुमार मानते हैं कि सौंदर्राजन का ऐसा कहना घटिया है.

सोमवार को हुई इस घटना के बाद सोफिया के पक्ष में समर्थन आना शुरू हो गया. ट्विटर पर #FascistBJPdowndown ट्रेंड करने लगा और इसके बाद नवनिर्वाचित डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन भी सोफिया के समर्थन में आ गए.

तमिल में लिखे ट्वीट में स्टालिन ने कहा, ‘राज्य सरकार का यह कदम लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की आज़ादी के खिलाफ है. यह निंदनीय है. सोफिया को फौरन रिहा किया जाना चाहिए. अगर आप ऐसे नारे लगाने वाले हर व्यक्ति को गिरफ्तार करने वाले हैं, तो आप कितने लाख लोगों को जेल भेजेंगे! भाजपा का फासीवादी शासन खत्म हो!

इस बीच, सोफिया के पिता डॉ.सामी ने बताया कि उन्होंने उनकी बेटी के साथ बदतमीजी करने और धमकाने वालों, सौंदर्राजन और भाजपा कैडर के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है.

उन्होंने द वायर  को बताया, ‘मैंने शिकायत दर्ज करवाई है लेकिन मैं नहीं जानता कि तमिलिसाई के खिलाफ कोई कदम उठाया जायेगा. यह गलत है.’

(कविता मुरलीधरन स्वतंत्र पत्रकार हैं.)

इस रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.

Comments