भारत

मशहूर अभिनेता और लेखक कादर ख़ान का निधन

अभिनेता और पटकथा लेखक कादर ख़ान ने 250 से अधिक फिल्मों के संवाद लिखने के अलावा 300 से ज़्यादा फिल्मों में अभिनय किया है.

Kader Khan Twitter

कादर ख़ान. (फोटो साभार: ट्विटर)

टोरंटो/मुंबई: जाने-माने अभिनेता एवं लेखक कादर ख़ान का 31 दिसंबर को निधन हो गया. 81 वर्षीय ख़ान लंबे समय से बीमार चल रहे थे.

ख़ान कनाडा के एक अस्पताल में भर्ती थे. उनके बेटे ने बताया कि अभिनेता का अंतिम संस्कार भी वहीं किया जाएगा.

कादर ख़ान के बेटे सरफ़राज़ ने बताया, ‘मेरे पिता हमें छोड़कर चले गए. लंबी बीमारी के बाद 31 दिसंबर शाम छह बजे (कनाडाई समय) उनका निधन हो गया. वह दोपहर को कोमा में चले गए थे. वह पिछले 16-17 हफ्तों से अस्पताल में भर्ती थे.’

उन्होंने कहा, ‘उनका अंतिम संस्कार कनाडा में ही किया जाएगा. हमारा सारा परिवार यहीं है और हम यहीं रहते हैं, इसलिए हम ऐसा कर रहे हैं.’ सरफ़राज़ ने कहा, ‘हम दुआओं और प्रार्थना के लिए सभी का शुक्रिया अदा करते हैं.’

अभिनेता के निधन से एक दिन पहले भी उनके निधन की खबर आई थी, लेकिन उनके बेटे ने उन ख़बरों को ख़ारिज किया था.

सरफ़राज़ ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, ‘आज सुबह मेरे पिता की मृत्यु हो गई. वह पिछले कुछ महीनों से बीमार थे और पिछले कुछ दिनों से अस्पताल में थे. हमने उन्हें बचाने की हरसंभव कोशिश की. वह बहुत प्यार करने वाले व्यक्ति थे और वह हर किसी से प्यार करते थे, जो उनके जीवन का हिस्सा थे.’

ख़ान को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी और डॉक्टर उन्हें नियमित वेंटिलेटर पर रखे हुए थे. सुपर न्यूक्लियर पाल्सी बीमारी के कारण उन्हें चलने में भी दिक्कत आ रही थी और याददाश्त भी कमज़ोर हो गई थी.

काबुल में जन्मे कादर ख़ान ने 1973 में राजेश खन्ना के साथ फिल्म ‘दाग’ से अपने फिल्मी करिअर की शुरुआत की थी. उसके बाद वह 300 से अधिक फिल्मों में नज़र आए.

अभिनेता बनने से पहले उन्होंने रणधीर कपूर, जया बच्चन की फिल्म ‘जवानी दीवानी’ के लिए संवाद लिखे थे. उन्होंने 250 से अधिक फिल्मों के लिए संवाद लिखे.पटकथा लेखक के तौर उन्होंने मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा के साथ कई फिल्मों में सहयोग दिया.

अभिनेता और पटकथा लेखक कादर ख़ान ‘आंखें’, ‘मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी’, ‘जुदाई’, ‘खून भरी मांग’, ‘बीवी हो तो ऐसी’, ‘बोल राधा बोल’ और ‘जुड़वा’ सहित कई हिट फिल्मों का हिस्सा रहे थे.

45 साल से अधिक के करिअर में ख़ान की मुख्य जोड़ी 1990 के दशक में डेविड धवन और गोविंदा के साथ रहा. तीनों ने ‘साजन चले ससुराल’, ‘हीरो नंबर 1’, ‘कुली नंबर 1’, ‘दुल्हे राजा’ और ‘हसीना मान जाएंगी’ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्में की थीं.

मनमोहन देसाई के साथ उनकी फिल्मों में ‘धरम-वीर’, ‘गंगा जमुना सरस्वती’, ‘कुली’, ‘देश प्रेम’, ‘सुहाग’, ‘परवरिश’ और ‘अमर अकबर एंथनी’ और प्रकाश मेहरा के साथ फिल्मों में ‘ज्वालामुखी’, ‘शराबी’, ‘लावारिस’ और ‘मुकद्दर का सिकंदर’ शामिल है.

कादर ख़ान के निधन पर फिल्म इंडस्ट्री के कई कलाकारों ने शोक व्यक्त किया है.

ख़ान के साथ कई सारी फिल्मों में काम करने वाले अमिताभ बच्चन ने ट्वीट कर अभिनेता-लेखक को श्रद्धांजलि दी है. बच्चन ने दो और दो पांच, मुकद्दर का सिकंदर, मिस्टर नटवरलाल, सुहाग, कुली और शहंशाह जैसे ब्लॉकबस्टर में कादर ख़ान के साथ काम किया है.

उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘कादर ख़ान का निधन… दुखद निराशाजनक खबर… मेरी प्रार्थना और संवेदना… एक शानदार स्टेज कलाकार, फिल्म के लिए सबसे अधिक दयालु और निपुण प्रतिभा. मेरी अधिकांश सफल फिल्मों के प्रख्यात लेखक, बेहतरीन सहयोगी और एक गणितज्ञ.’

बच्चन और ख़ान ने ‘दो और दो पांच’, ‘मुक़द्दर का सिकंदर’, ‘मिस्टर नटवरलाल’, ‘सुहाग’, ‘कुली’ और ‘शहंशाह’ जैसी फिल्मों में साथ काम किया.

अमिताभ बच्चन के अलावा अनुपम खेर, मनोज बाजपेयी और अर्जुन कपूर और अन्य फिल्मी कलाकारों ने संवेदनाएं व्यक्त की हैं. अभिनेता मनोज बाजपेयी ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी है. बाजपेयी ने लिखा, ‘ईश्वर आपकी आत्मा को शांति दें कादर ख़ान साहब.’

अनुमप खेर ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए एक वीडियो संदेश ट्विटर पर साझा किया.

उन्होंने कहा, ‘क़ादर ख़ान साहब हमारे देश के बेहतरीन अभिनेताओं में से एक थे. उनके साथ काम करने का अनुभव खुशियों भरा और सीखने वाला रहा…’ अनुपम खेर और कादर ख़ान ने एक साथ कई फिल्मों में काम किया था. कॉमेडी फिल्मों में उनकी जोड़ी काफी हिट थी. दोनों ने ‘हम हैं कमाल के’, ‘ईना मीना डीका’, ‘हसीना मान जाएगी’, ‘सूर्यवंशम’, ‘चालबाज़’, ‘जुड़वा’, ‘परिंदा’ जैसी फिल्मों में काम किया था.

अर्जुन कपूर ने भी उनके निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. उन्होंने लिखा, ‘एक पीढ़ी को परिभाषित करने वाले एक अभिनेता और एक लेखक… आपके जाने से फिल्म उद्योग में एक खालीपन आ गया है जिसे भरा नहीं जा सकता. भगवान आपकी आत्मा को शांति दें कादर ख़ान. उनके परिवार के प्रति मैं संवेदना व्यक्त करता हूं.’

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी उन्हें याद करते हुए दर्शकों को हंसने के कुछ सर्वश्रेष्ठ पल देने का श्रेय दिया.

फिल्मकार मधुर भंडारकर, निर्देशक अनीस बज़्मी, अभिनेता एवं कॉमेडियन वीर दास, फिल्मकार मिलाप ज़वेरी ने भी कादर ख़ान के निधन पर शोक व्यक्त किया. भारतीय राष्ट्रीय फिल्म संग्रहालय (एनएफएआई) ने भी अभिनेता को श्रद्धांजलि दी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments