राजनीति

पर्रिकर ने बताया कि रफाल डील बदलते समय प्रधानमंत्री ने उनसे नहीं पूछा था: राहुल गांधी

पूर्व रक्षामंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने राहुल गांधी से हुई मुलाकात के संबंध में कहा कि पांच मिनट की बातचीत में रफाल सौदे को लेकर कोई बातचीत नहीं हुई.

राहुल गांधी और मनोहर पर्रिकर. (फोटो: पीटीआई)

राहुल गांधी और मनोहर पर्रिकर. (फोटो: पीटीआई)

कोच्चि: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रफाल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए मंगलवार को दावा किया कि पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने स्पष्ट रूप से कहा था कि ‘नए सौदे’ से उनका कोई लेना-देना नहीं है.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कोच्चि में बूथ स्तरीय पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा, ‘दोस्तों, पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि नए सौदे से उनका कोई लेना-देना नहीं है, जिसे नरेंद्र मोदी ने अनिल अंबानी के फायदे के लिए किया.’

बुधवार को राहुल गांधी ने कहा, ‘मैं कल पर्रिकर जी से मिला था. पर्रिकर जी ने स्वयं कहा था कि डील बदलते समय पीएम ने हिंदुस्तान के डिफेंस मिनिस्टर से नहीं पूछा था.’

पणजी में राज्य सचिवालय परिसर में गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से मुलाकात के कुछ घंटे बाद उन्होंने यह बयान दिया.

बहरहाल, कांग्रेस अध्यक्ष ने यह स्पष्ट नहीं किया कि पर्रिकर के साथ बैठक के दौरान क्या इस मुद्दे पर चर्चा हुई. पर्रिकर आंत संबंधी बीमारी से ग्रस्त हैं.

उधर, राहुल गांधी से मुलाकात को लेकर गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने एक पत्र जारी किया है. इस पत्र में उन्होंने कहा है, ‘मुझे इस बात पर निराशा हुई कि आपने (राहुल गांधी) इस मुलाकात का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए किया. आपने पांच मिनट मेरे साथ गुज़ारे. इस दौरान आपने रफाल को लेकर कोई बातचीत की और न ही मैंने इस संबंध में कुछ कहा.’

मालूम हो कि कांग्रेस ने बीती दो जनवरी को रफाल डील को लेकर पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर पर गंभीर आरोप लगाया थे. कांग्रेस ने इस टेप के जरिए रफाल मुद्दे पर केंद्र सरकार पर हमला किया था.

कांग्रेस ने भाजपा नेता और गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत पी. राणे के साथ किसी अज्ञात व्यक्ति के साथ कथित बातचीत की रिकॉर्डिंग जारी की है. इसमें कथित रूप से राणे एक व्यक्ति को ये बता रहे हैं कि रफाल से संबंधित दस्तावेज मनोहर पर्रिकर के बेडरूम में हैं.

इस ऑडियो की प्रमाणिकता की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं हुई थी.

इसी के आधार पर कांग्रेस ने दावा किया था कि मनोहर पर्रिकर ने कैबिनेट बैठक में कहा था कि रफाल डील के कागजात उनके बेडरूम में हैं, उनका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता.

रफाल सौदे में मोदी के खिलाफ आरोपों को दोहराते हुए राहुल ने कहा कि उन्होंने लोगों से 30 हजार करोड़ रुपये छीनकर अपने दोस्त अनिल अंबानी को दे दिए. उन्होंने पूछा, ‘जब एक विमान (रफाल) की कीमत 526 करोड़ रुपये थी तो फिर उसे 1,600 करोड़ रुपये में क्यों खरीदा गया?’

उन्होंने कहा, ‘देश के युवकों, केरल के युवकों को केवल एक जवाब मिलेगा और वह जवाब है, भारत का प्रधानमंत्री भ्रष्ट है.’

सीबीआई प्रमुख (आलोक वर्मा) को उच्चतम न्यायालय द्वारा बहाल किए जाने के बावजूद उन्हें पद से हटाए जाने पर राहुल ने सवाल उठाया और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने खुद को बचाने के लिए और यह सुनिश्चित करने के लिए ऐसा किया कि रफाल सौदे में उनके खिलाफ कोई जांच नहीं हो.

उन्होंने कहा कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने प्रेस से स्पष्ट रूप से यह क्यों कहा कि उन्हें भारत के प्रधानमंत्री ने रफाल अनुबंध अनिल अंबानी को देने को कहा है.

राहुल ने कहा कि हजारों युवक जिन्हें एचएएल में मोटी पगार वाली नौकरियां मिलती, उनके हाथ से यह अवसर अब चला गया.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)