भारत

जम्मू कश्मीर: बीएसएफ पर मतदाताओं को भाजपा को वोट देने को मजबूर करने का आरोप

नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने ईवीएम में कांग्रेस के बटन के काम न करने सहित कई गड़बड़ियों का आरोप लगाया. नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने शिकायत दर्ज कराई.

जम्मू कश्मीर के एक पोलिंग बूथ पर तैनात जवान. (फोटो साभार: एएनआई)

जम्मू कश्मीर के एक पोलिंग बूथ पर तैनात जवान. (फोटो साभार: एएनआई)

जम्मू: नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने गुरुवार को प्रथम चरण के मतदान में वर्दीधारी कर्मचारियों द्वारा लोगों को भाजपा को वोट देने के लिए मजबूर करने, ईवीएम में कांग्रेस के बटन के काम ना करने सहित अन्य गड़बड़ियों के आरोप लगाए.

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया जिसमें मतदाता भाजपा विरोधी नारे लगाते दिख रहे हैं क्योंकि बीएसएफ ने भाजपा को वोट नहीं देने पर उनसे बदसलूकी की थी.

उन्होंने लिखा, ‘जम्मू में एक मतदान केंद्र पर एक व्यक्ति के साथ बीएसएफ ने हाथापाई की क्योंकि उसने भाजपा को वोट देने से मना कर दिया था. मतदान केंद्रों पर सशस्त्र बलों का उपयोग कर लोगों को भाजपा को वोट देने के लिए मजबूर करना, सत्ता की भूख और उनकी हताशा को दर्शाता है… चाहे इसके लिए जो भी करना पड़े.’

नेशनल कॉन्फ्रेंस के जम्मू प्रांतीय अध्यक्ष दविंदर सिंह राणा ने भी मामले में शिकायत दर्ज कराई.

उनके अनुसार पुंछ के अराई मलका इलाके में एक वर्दीधारी कर्मचारी ने मतदाताओं को भाजपा को वोट देने के लिए मजबूर किया.

उन्होंने बताया कि मतदाताओं की शिकायत के बाद एक स्थानीय प्रशासन अधिकारी ने मौके पर पहुंच उस वर्दीधारी कर्मचारी को वहां से हटा दिया.

नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने भी एक पीठासीन अधिकारी की वीडियो पोस्ट की, जिसमें वह पुंछ इलाके में एक ईवीएम बटन के ख़राब होने की जानकारी दे रहा है.

अधिकारी ने पुंछ ज़िले में मतदान कुछ देर के लिए रुक जाने की जानकारी देते हुए उसके जल्द ठीक होने का आश्वासन दिया. कौन सा बटन काम नहीं कर रहा है यह पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘हाथ का बटन.’ हाथ कांग्रेस का चुनाव चिह्न है.

पूंछ ज़िला निर्वाचन अधिकारी ने उमर अब्दुल्ला के ट्वीट पर कहा, ‘शाहपुर स्थित बूथ पर ईवीएम में कांग्रेस के बटन के साथ कुछ समस्या थी. हमारे स्टाफ ने मशीन बदल दी है. एक अन्य बूथ पर भाजपा का बटन भी काम नहीं कर रहा था. हमने उसे बदल दिया है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)