Author Archives

प्रशांत कनौजिया

Mahagun Demolition

‘महागुन सोसाइटी विवाद में हम शामिल नहीं थे फिर भी हमारी दुकानें तोड़ दी गईं’

नोएडा के सेक्टर 78 में महागुन सोसाइटी के सामने बनीं दुकानें और झोपड़ियां तोड़ दी गईं, जिसके बाद प्रभावित लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है.

Rohini Saliyan and Mohsin Sheikh PTI

मोहसिन शेख़ हत्याकांड: ‘मुझे यक़ीन था रोहिणी मैडम हमारी अर्ज़ी स्वीकार कर लेंगी’

उज्ज्वल निकम के पिछले महीने मोहसिन शेख़ हत्या मामले से पीछे हटने के बाद पीड़ित परिवार ने रोहिणी सालियान को बतौर विशेष पब्लिक प्रॉसिक्यूटर नियुक्त करने की मांग की थी.

Mohsin COver

‘भीड़ मेरे बेटे को निगल गई, कल किसी और के बेटे को निगल लेगी’

2014 में पुणे में 24 वर्षीय मोहसिन शेख़ की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी. इस हत्या का आरोप हिंदू राष्ट्र सेना के कार्यकर्ताओं पर लगा था. मोहसिन के पिता सादिक़ कहते हैं, ‘भीड़ द्वारा आस्था का झंडा उठाकर यह जो हत्या करने का काम है, उसपर लगाम लगना ज़रूरी है.’

सुनील यादव (फोटो: सुनील के फेसबुक प्रोफाइल से)

‘मैं मैला ढोता हूं लेकिन मैला ढोने वाले के रूप में मरूंगा नहीं’

टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान से पीएचडी करने वाले सुनील यादव दिन में पढ़ाई करते हैं और रात में सफ़ाई कर्मचारी का काम करते हैं. वे डॉ. अंबेडकर को अपना आदर्श और पढ़ाई को बदलाव का औज़ार मानते हैं.

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली (फोटो: आईआईएमसी)

आईआईएमसी कराएगा यज्ञ, आईजी कल्लूरी देंगे वंचितों के सवाल पर भाषण

लगातार विवादों में घिरा सरकारी पत्रकारिता संस्थान आईआईएमसी अब परिसर के भीतर यज्ञ आयोजित कर रहा है जिसमें आरएसएस मुखपत्र पाञ्चजन्य के प्रकाशक भी शामिल होंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सत्कार करते श्री श्री रविशंकर (फोटो: पीटीआई)

क्या 10 साल और 42 करोड़ से यमुना को हुए नुकसान की भरपाई हो पाएगी?

राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण की विशेषज्ञ समिति ने आर्ट आॅफ़ लिविंग के कार्यक्रम से यमुना को हुए नुकसान की रिपोर्ट सौंप दी है.

Govandi 1

मुंबई का कूड़ेदान बनकर रह​ गया है गोवंडी!

गोवंडी के मौज़ूदा हालात और आम लोगों का जीवन बताता है कि मुंबई शहर ने इसे अपना कूड़ेदान बना रखा है. 21 फरवरी को बीएमसी का चुनाव है और सवाल है कि क्या चुनाव बाद यहां के हालात सुधरेंगे?

AAI 1

ग्राउंड रिपोर्ट: जिनकी ज़मीन पर बना एयरपोर्ट, वे पिछले 10 साल से बेघर

इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा के टर्मिनल-3 के लिए नांगल देवत गांव के 59 दलित परिवारों की ज़मीन ली गई थी. ज़मीन के बदले ज़मीन का वादा था जो एक दशक बाद भी पूरा नहीं हुआ.