दुनिया

फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी की तालिबान द्वारा क्रूर तरीके से हत्या की गई थी: रिपोर्ट

अमेरिका की एक पत्रिका वाशिंगटन एक्जामिनर के मुताबिक़, तालिबान ने रॉयटर्स के पत्रकार दानिश सिद्दीकी की पहचान की पुष्टि करने के बाद उन्हें और उनके साथ के लोगों को मारा था. पुलित्जर विजेता दानिश कंधार शहर के स्पिन बोल्डक में अफगान सैनिकों और तालिबान के बीच संघर्ष को कवर करने गए हुए थे.

(फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: पुलित्जर पुरस्कार विजेता भारतीय फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी न तो अफगानिस्तान में गोलीबारी में फंसकर मारे गए, न ही वे इन घटनाओं के दौरान हताहत हुए बल्कि तालिबान द्वारा उनकी पहचान की पुष्टि करने के बाद ‘क्रूरता से हत्या’ की गई थी. अमेरिका की एक पत्रिका ने बीते गुरुवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में यह दावा किया है.

सिद्दीकी (38) अफगानिस्तान में एक असाइनमेंट पर थे जब वे मारे गए. पुलित्जर विजेता पत्रकार की कंधार शहर के स्पिन बोल्डक जिले में अफगान सैनिकों और तालिबान के बीच संघर्ष को कवर करते समय मौत हुई थी.

‘वाशिंगटन एक्जामिनर’ की रिपोर्ट के मुताबिक, सिद्दीकी ने अफगान नेशनल आर्मी टीम के साथ स्पिन बोल्डक क्षेत्र की यात्रा की ताकि पाकिस्तान के साथ लगे बॉर्डर क्रॉसिंग पर नियंत्रण के लिए अफगान बलों और तालिबान के बीच चल रही जंग को कवर किया जा सके.

पत्रिका की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस हमले के दौरान, सिद्दीकी को छर्रे लगे और इसलिए वह तथा उनकी टीम एक स्थानीय मस्जिद में गए, जहां उन्हें प्राथमिक उपचार मिला.

हालांकि, जैसे ही यह खबर फैली कि एक पत्रकार मस्जिद में है, तालिबान ने हमला कर दिया. स्थानीय जांच से पता चला है कि तालिबान ने सिद्दीकी की मौजूदगी के कारण ही मस्जिद पर हमला किया था.

रिपोर्ट में कहा गया, ‘सिद्दीकी उस वक्त जिंदा थे जब तालिबान ने उन्हें पकड़ा. तालिबान ने सिद्दीकी की पहचान की पुष्टि की और फिर उन्हें और उनके साथ के लोगों को भी मार डाला. कमांडर और उनकी टीम के बाकी सदस्यों की मौत हो गई क्योंकि उन्होंने दानिश को बचाने की कोशिश की थी.’

अमेरिकन इंटरप्राइज इंस्टिट्यूट में सीनियर फेलो माइकल रूबीन ने लिखा है, ‘व्यापक रूप से प्रसारित एक तस्वीर में सिद्दीकी के चेहरे को पहचानने योग्य दिखाया गया है, हालांकि मैंने भारत सरकार के एक सूत्र द्वारा मुझे प्रदान की गई अन्य तस्वीरों और सिद्दीकी के शव के वीडियो की समीक्षा की, जिसमें दिखा कि तालिबान ने सिद्दीकी के सिर पर हमला किया और फिर उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया.’

रिपोर्ट में कहा गया, ‘तालिबान का हमला करने, सिद्दीकी को मारने और फिर उनके शव को क्षत-विक्षत करने का निर्णय दर्शाता है कि वे युद्ध के नियमों या वैश्विक संधियों का सम्मान नहीं करते हैं.’

सिद्दीकी का शव 18 जुलाई की शाम दिल्ली लाया गया और जामिया मिलिया इस्लामिया के कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्दे खाक किया गया.

सिद्दीकी मुंबई के रहने वाले थे. उन्होंने दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया से अर्थशास्त्र में स्नातक किया था और 2007 में जामिया के एजेके मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर से मास कम्युनिकेशन का अध्ययन किया था. वह 2010 में रॉयटर्स से जुड़े थे.

सिद्दीकी ने अपनी टीम के अन्य लोगों के साथ रोहिंग्या शरणार्थी संकट पर अपने काम के लिए 2018 में पुलित्जर पुरस्कार जीता था.

सिद्दीकी ने तब स्क्रॉल डॉट इन से बातचीत में कहा था, ‘एक तस्वीर को लोगों को आकर्षित करना चाहिए और उन्हें बिना जोर के पूरी कहानी बताना चाहिए. आप महिला की लाचारी और थकावट को देख सकते हैं, जो बादलों के साथ पृष्ठभूमि में हो रहीं घटनाओं के साथ जोड़ी गई है. यही वह फ्रेम था, जिसे मैं दुनिया को दिखाना चाहता था.’

रॉयटर्स से पहले सिद्दीकी के काम को द गार्जियन, न्यूयॉर्क टाइम्स, वाशिंगटन पोस्ट, अल जजीरा और अनगिनत अन्य सहित कई भारतीय और अंतरराष्ट्रीय प्रकाशनों द्वारा प्रकाशित किया गया था.

साल 2010 के बाद से रॉयटर्स फोटो पत्रकार के तौर सिद्दीकी ने अफगानिस्तान और इराक में युद्ध, रोहिंग्या शरणार्थियों के संकट, हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों का विरोध और नेपाल भूकंप को कवर किया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)