भारत

छत्तीसगढ़: देश को कट्टर हिंदू राष्ट्र बनाने का संकल्प लेने संबंधी वीडियो आया, केस दर्ज

घटना छत्तीसगढ़ के कोरबा ज़िले की है. घटना से संबंधित कथित वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि आग के चारों ओर खड़े होकर कुछ लोग देश को हिंदू राष्ट्र बनाने और मुसलमानों को काम न देने का संकल्प ले रहे हैं. पुलिस के मुताबिक, मामले का मुख्य आरोपी हिंदू संगठन से जुड़ा हुआ है.

(प्रतीकात्मक फोटो साभार: twitter.com/PoliceKorba)

कोरबा: छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में भारत को कट्टर हिंदू राष्ट्र बनाने और सिर्फ हिंदुओं के साथ ही संबंध रखने संबंधी वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने कुछ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. यह जानकारी पुलिस ने दी.

कोरबा जिले के पुलिस अधीक्षक भोजराम पटेल ने शनिवार को बताया कि जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र की पुलिस ने प्रमोद अग्रवाल समेत अन्य लोगों के खिलाफ सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने का मामला दर्ज किया है.

पटेल ने बताया कि जिले में सोशल मीडिया में एक वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस ने यह मामला दर्ज किया है. उन्होंने बताया कि इस वीडियो में प्रमोद अग्रवाल की पहचान हुई है, जबकि अन्य लोगों की पहचान की जा रही है.

 

उन्होंने बताया कि वीडियो की जांच की गई, तब पाया गया कि वीडियो की भाषा सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने वाली है. जिसके बाद पुलिस ने अग्रवाल और अन्य के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 153(ए) के तहत मामला दर्ज कर लिया.

वीडियो में कुछ लोग अग्नि को साक्षी मानकर कथित तौर पर यह संकल्प लेते दिख रहे हैं कि बांकीमोंगरा के निवासी भारत को कट्टर हिंदू राष्ट्र बनाएंगे, अपने घरों और प्रतिष्ठानों में केवल हिंदू धर्म के लोगों को नौकरी पर रखेंगे और हिंदू धर्म के लोगों के साथ संबंध रखेंगे. वीडियो के अंत में वहां मौजूद लोग ‘जय श्री राम’ और ‘राम राज की करो तैयारी, आ रहे हैं भगवा धारी’ का कथित तौर पर नारा लगाते दिख रहे हैं.

कोरबा जिले के कोतवाली थाने के प्रभारी रामेंद्र सिंह ने बताया कि सीतामणी गांव निवासी सोनू कुमार की शिकायत पर प्रमोद अग्रवाल और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस इस मामले की जांच रही है तथा इस संबंध में अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है.

बताया जा रहा है कि प्रमोद अग्रवाल एक व्यापारी हैं.

दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक, पुलिस ने बताया है कि व्यापारी हिंदू संगठन से भी जुड़ा हुआ है. वहीं, वीडियो में भी देखा जा सकता है कि शपथ लेने वाले लोग ‘हिंदू सुरक्षा सेना जिंदाबाद’ के नारे लगाते दिख रहे हैं.

इससे पहले इसी तरह का एक मामला राज्य के सरगुजा जिले में 5 जनवरी को सामने आया था. सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो में एक स्थान पर कई ग्रामीण मुस्लिम समुदाय का सामाजिक और आर्थिक बहिष्कार करने की शपथ लेते दिखाई दिए थे.

पुलिस अधिकारियों ने बताया था कि इस महीने की पांच तारीख को जिले के लुंड्रा थाना क्षेत्र अंतर्गत कुंदीकला गांव में लोगों ने मुस्लिम समुदाय के साथ किसी भी तरह का संबंध न रखने की शपथ ली थी.

कथित वीडियो में लोग यह कहते सुनाई देते हैं, ‘हम संकल्प लेते हैं कि आज से हम हिंदू किसी भी मुसलमान दुकानदार से किसी भी प्रकार का सामान नहीं खरीदेंगे और न ही उन्हें किसी भी तरह का सामान बेचेंगे. आज से हम किसी मुसलमान व्यक्ति को अपनी जमीन पट्टे पर नहीं देंगे या बिक्री नहीं करेंगे.’

कथित वीडियो में कहा जा रहा है, ‘अगर किसी व्यक्ति के पास जमीन पट्टे पर है तो उसकी तत्काल वापसी कराएंगे. जो फेरीवाले हमारे गांव में आते हैं, हमारे क्षेत्र में आते हैं, गांव में उसकी जांच के बाद यदि वह हिंदू हुआ, तभी उससे सामान खरीदा जाएगा, अन्यथा नहीं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)