कैंपस

शांतिश्री पंडित जेएनयू की पहली महिला कुलपति नियुक्त की गईं

सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान की प्रोफेसर 59 वर्षीय शांतिश्री धुलिपुड़ी पंडित को पांच वर्षों के लिए जेएनयू के कुलपति नियुक्त किया गया है. पंडित जेएनयू की छात्रा रही हैं, जहां से उन्होंने एमफिल के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय संबंधों में पीएचडी की उपाधि हासिल की है.

शांतिश्री धुलिपुड़ी पंडित. (फोटो साभार: फेसबुक/DDNewsLive)

नई दिल्ली: शांतिश्री धुलिपुड़ी पंडित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की पहली महिला कुलपति होंगी, शिक्षा मंत्रालय ने उन्हें सोमवार को इस शीर्ष पद पर नियुक्त किया.

पंडित अभी महाराष्ट्र के सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय के राजनीति व लोक प्रशासन विभाग में राजनीति विज्ञान की प्रोफेसर हैं. वह यहां 1992 से कार्यरत थीं.

पुणे विश्वविद्यालय में राजनीति के प्रोफेसर और एमफिल और पीएचडी गाइड के रूप में काम करने के अलावा वह विश्वविद्यालय के संचार अध्ययन विभाग में मास मीडिया ऑडियंस, मीडिया रिसर्च, राजनीति और संचार जैसे पेपर भी पढ़ाती हैं.

59 वर्षीय पंडित जेएनयू की पूर्व छात्रा भी हैं, जहां से उन्होंने एमफिल के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय संबंधों में पीएचडी की उपाधि हासिल की है.

शिक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘राष्ट्रपति एवं विश्वविद्यालय के ‘विजिटर’ रामनाथ कोविंद ने जेएनयू के कुलपति के तौर पर शांतिश्री धुलिपुड़ी की नियुक्ति को मंजूरी दी है. उनकी नियुक्ति पांच वर्षों के लिए है.’

पंडित ने अपने शिक्षण करिअर की शुरुआत 1988 में गोवा विश्वविद्यालय से की और 1993 में पुणे विश्वविद्यालय चली गईं. उन्होंने विभिन्न शैक्षणिक निकायों में प्रशासनिक पदों पर कार्य किया है.

वह विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएसएसआर) की सदस्य और केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए विज़िटर द्वारा नामांकित भी रही हैं.

अपने करिअर में उन्होंने 29 शोधार्थियों को निर्देशित किया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, पंडित सावित्रीबाई फुले ​पुणे विश्वविद्यालय में प्रबंधन परिषद और सीनेट का भी हिस्सा रही हैं. उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय थिंक-टैंक के साथ-साथ 11वीं अनुदान योजना के लिए उच्च शिक्षा पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) पैनल जैसी सरकार द्वारा नियुक्त समितियों के सदस्य के रूप में भी कार्य किया है. योजना और केंद्रीय युवा मामलों के मंत्रालय और खेल मंत्रालय के लिए सलाहकार समितियों का भी वह हिस्सा रही हैं.

वह 1995 से एशिया प्रशांत क्षेत्र और भारत की सुरक्षा धारणाओं पर सैन्य खुफिया प्रशिक्षण स्कूल, पुणे से भी संबद्ध रही हैं. पंडित ने राजनीति विज्ञान और विदेश नीति पर प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में तीन किताबें और 170 से अधिक शोध पत्र और लेख प्रकाशित किए हैं.

पिछले साल जेएनयू के कुलपति के तौर पर अपने पांच साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद से एम. जगदीश कुमार कार्यवाहक कुलपति के तौर पर जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे थे. कुमार को अब विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है.

कुमार ने एक बयान में कहा, ‘मुझे आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय की शांतिश्री धूलिपुड़ी पंडित को जेएनयू का अगला कुलपति नियुक्त किया गया है. वह जेएनयू की पहली महिला कुलपति हैं. उन्हें मेरी तरफ से हार्दिक बधाई. मैं आज उन्हें कार्यभार सौंप रहा हूं और नई भूमिका में उनकी सफलता की कामना करता हूं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)