भारत

2018-20 के दौरान एसिड अटैक के 386 मामले दर्ज हुए: केंद्र सरकार

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने लोकसभा में बताया कि 2018 में महिलाओं के ख़िलाफ़ तेज़ाब हमले के 131 मामले, 2019 में 150 और 2020 में 105 मामले दर्ज किए गए.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: सरकार ने मंगलवार को लोकसभा को बताया कि देश में 2018 से 2020 के दौरान महिलाओं पर तेजाब हमले के 386 मामले दर्ज किए गए तथा इस अवधि के दौरान ऐसे मामलों में कुल 62 लोगों को अदालतों द्वारा दोषी करार दिया गया.

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने सदन में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों का हवाला देते हुए यह जानकारी दी.

उन्होंने कहा कि 2018 में महिलाओं के खिलाफ तेजाब हमले के 131 मामले, 2019 में 150 और 2020 में 105 मामले दर्ज किए गए.

मंत्री ने यह जानकारी भी दी कि इस तरह के मामलों में 2018 में 28 लोगों, 2019 में 16 और 2020 में 18 लोगों को दोषी ठहराया गया.

उन्होंने कहा कि केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को नियमों की समीक्षा करने और यह सुनिश्चित करने के लिए परामर्श जारी किया है कि एसिड और रसायनों की खुदरा बिक्री को जहर नियमों के संदर्भ में सख्ती से विनियमित किया जाए ताकि इनका उपयोग अपराध में न हो सके.