दुनिया

इज़रायल ने अल जज़ीरा की पत्रकार की मौत की जांच के अमेरिकी क़दम को ‘बड़ी ग़लती’ बताया

जानी-मानी अमेरिकी-फलस्तीनी पत्रकार शिरीन अबु अकलेह की मौत इस साल मई में वेस्ट बैंक के जेनिन शहर में इज़रायल डिफेंस फोर्सेस की छापेमारी के दौरान हुई गोलीबारी में हो गई थी. अमेरिका के फैसले को लेकर इज़रायल ने कहा है कि वह जांच में सहयोग नहीं करेगा.

मई 2022 में उत्तरी वेस्ट बैंक के जेनिन कस्बे में एक शरणार्थी शिविर पर इज़रायली सेना की कार्रवाई के दौरान हुई गोलीबारी में अल-जज़ीरा की पत्रकार शिरीन अबू अकलेह की मौत हो गई थी. (फोटो: रॉयटर्स)

यरुशलम: इजरायल ने सोमवार को पुष्टि की कि अमेरिका के न्याय विभाग ने अल जजीरा की पत्रकार शिरीन अबु अकलेह की मौत मामले की जांच शुरू कर दी है.

अकलेह एक जानी-मानी अमेरिकी-फिलस्तीनी पत्रकार थीं. वह इस साल मई में वेस्ट बैंक के जेनिन शहर में इजरायल डिफेंस फोर्सेस (आईडीएफ) की छापेमारी के दौरान हुई गोलीबारी में मारी गई थीं. 51 वर्षीय पत्रकार जेनिन शरणार्थी शिविर पर एक इजरायली सेना की छापेमारी की रिपोर्टिंग के लिए मौजूद थीं. इस घटना में एक अन्य फलस्तीनी पत्रकार अली अल-समौदी घायल हो गए थे.

इजरायल ने अकलेह की मौत की जांच करने के अमेरिकी फैसले को ‘बड़ी गलती’ करार दिया. उसने कहा कि वह जांच में सहयोग नहीं करेगा.

इजरायल के रक्षा मंत्री बेनी गैंत्ज ने कहा, ‘शिरीन अबू अकलेह की दुखद मौत की जांच करने का अमेरिकी न्याय विभाग का फैसला एक बड़ी गलती है. इजरायल डिफेंस फोर्सेज ने एक पेशेवर, स्वतंत्र जांच की है, जिसकी जानकारी अमेरिकी अधिकारियों के साथ साझा की गई थी.’

उन्होंने कहा, ‘मैंने अमेरिकी प्रतिनिधियों को संदेश भेजा है कि हम अपने सैनिकों के साथ खड़े हैं. हम किसी भी बाहरी जांच में सहयोग नहीं करेंगे. हम इजरायल के आंतरिक मामलों में किसी को भी हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देंगे.’

अल जजीरा के मुताबिक, अमेरिकी न्याय विभाग ने इजरायल में अपने समकक्ष को सूचित किया कि एफबीआई इस घटना की जांच शुरू कर रही है.

एक संवैधानिक वकील और न्याय विभाग के पूर्व अधिकारी ब्रूस फेइन ने कहा कि अबू अकलेह की हत्या की एफबीआई जांच शुरू करने के फैसले का मतलब है कि जो भी हुआ था, उसे लेकर अमेरिकी अधिकारियों के पास ‘विश्वसनीय सबूत’ हैं.

फेइन ने कहा कि इजरायल जांच में सहयोग करने से इनकार कर सकता है, अमेरिका के पास अपने मध्य पूर्व सहयोगी पर दबाव बनाने के लिए सैन्य सहायता और क्षेत्रीय भू-राजनीति सहित कई उपकरण हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)