Ministry of Health

(फोटो: पीटीआई)

कोविड-19: बीते एक दिन में अब तक सर्वाधिक 414,188 नए मामले दर्ज और 3915 लोगों की मौत

भारत में पिछले साल कोरोना वायरस की दस्तक के बाद यह पहली बार है, जब लगातार दूसरे दिन चार लाख से अधिक नए मामले सामने आए हैं. इसके साथ ही कुल मामलों की संख्या 21,491,598 हो गई है और मृतक संख्या 234,083 है. विश्व में संक्रमण के 15.60 करोड़ से ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि 32.56 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

(फोटो: पीटीआई)

कोविड-19: एक दिन में संक्रमण के अब तक के सर्वाधिक 412,262 मामले दर्ज, रिकॉर्ड 3,980 लोगों की मौत

भारत में कोरोना वायरस महामारी के दस्तक के बाद मई महीने में यह दूसरी बार है, जब एक दिन में संक्रमण के चार लाख से अधिक नए मामले दर्ज किए गए हैं. देश में संक्रमण का कुल आंकड़ा 21,077,410 हो गया है और मृतकों की संख्या बढ़कर 230,168 हो चुकी है. विश्व में संक्रमण के 15.52 करोड़ से ज़्यादा मामले हैं और 32.43 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है.

डॉ. एंथोनी फाउची. (फोटो: रॉयटर्स)

कोविड: सीमित अवधि के लिए पूर्ण लॉकडाउन लगाए और टीकाकरण बढ़ाए भारत सरकार- डॉ. फाउची

अमेरिका के शीर्ष स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फाउची का कहना है कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर में भारत की स्थिति बेहद निराशाजनक है और भारत सरकार को तत्काल अस्थायी फील्ड अस्पताल बनाने के लिए सैन्य बलों समेत सभी संसाधनों का इस्तेमाल करना चाहिए.

Patients suffering from the coronavirus disease (COVID-19) receive treatment inside the emergency ward at Holy Family hospital in New Delhi, India, April 29, 2021. REUTERS/Danish Siddiqui

कोविड-19: देश में एक दिन में सर्वाधिक 3,780 लोगों की मौत, 3.82 लाख से अधिक नए मामले आए

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 20,665,148 हो गए हैं और अब तक 226,188 लोग इस महामारी से अपनी जान गंवा चुके हैं. विश्व में संक्रमण का आंकड़ा 15.43 करोड़ से ज़्यादा है, जबकि 32.28 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो साभार: narendramodi.in)

नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री होने का नैतिक अधिकार खो चुके हैं

कोविड महामारी के इस भीषण संकट के समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जबावदेही का यही एक काम कर सकते हैं कि वे अपनी कुर्सी छोड़ दें.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

कोविड-19: संक्रमण के कुल मामले दो करोड़ के पार, 357,229 केस दर्ज और 3,449 लोगों की मौत

भारत में कोविड संक्रमण के मामले 19 दिसंबर को एक करोड़ का आंकड़ा पार कर गए थे. 107 दिन बाद पांच अप्रैल को मामले 1.25 करोड़ पर पहुंच गए. हालांकि महामारी के मामलों को 1.5 करोड़ का आंकड़ा पार करने में महज 15 दिन लगे और 1.5 करोड़ से दो करोड़ के पार होने में भी सिर्फ़ 15 दिन लगे. विश्व में संक्रमण के कुल मामले 15.35 करोड़ से ज़्यादा है और 32.14 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

(फोटो साभार: ट्विटर/@IPL)

कोविड-19: कई खिलाड़ियों के संक्रमित होने के बाद आईपीएल अनिश्चितकाल के लिए रद्द

क्रिकेट खिलाड़ियों के बायो बबल में रहने के बावजूद कोविड-19 के कई मामले पाए जाने के बाद आईपीएल के चेयरमैन बृजेश पटेल ने कहा कि टूर्नामेंट को अनिश्चितकाल के लिए निलंबित कर दिया गया है. हम अगले उपलब्ध समय में इस प्रतियोगिता का आयोजन करने की कोशिश करेंगे, लेकिन इस महीने ऐसी संभावना नहीं है.

2020 के आईपीएल टूर्नामेंट के दौरान सीएसके और केकेआर के खिलाड़ी. (फोटो: पीटीआई)

आईपीएल: कोलकाता की टीम के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स का स्टाफ भी कोरोना संक्रमित

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाड़ी वरुण चक्रवर्ती और संदीप वारियर संक्रमित पाए गए हैं, साथ ही चेन्नई सुपर किंग्स के स्टाफ के तीन लोग भी कोविड-19 की चपेट में हैं. हालांकि कई टीमों के अधिकारियों का कहना है कि टूर्नामेंट जारी रहना चाहिए.

(फोटो: पीटीआई)

कोविड-19: संक्रमण के कुल मामले 2 करोड़ के क़रीब पहुंचे, 368,147 नए मामले दर्ज, 3,417 लोगों की मौत

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 19,925,604 हो गई है, जबकि ये महामारी अब तक 218,959 लोगों की जान ले चुकी है. विश्व में संक्रमण के मामले 15.28 करोड़ से ज़्यादा हैं और जान गंवाने वालों का आंकड़ा 32 लाख के पार चला गया है.

दिल्ली के गाजीपुर इलाके में स्थित एक शवदाह गृह में कोविड-19 महामारी से जान गंवाने वाले लोगों का अंतिम संस्कार. (फोटो: पीटीआई)

कोविड-19: एक दिन में सर्वाधिक 3,689 लोगों की मौत, 392,488 नए मामले सामने आए

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या अब तक 19,557,457 है. इसके अलावा इस महामारी से जान गंवाने वालों का आंकड़ा 215,542 हो गया है. विश्व में 15.22 करोड़ से ज़्यादा संक्रमण के मामले सामने आए हैं और 31.92 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

Coronavirus Reuters

कोविड-19: पहली बार नए मामलों की संख्या चार लाख के पार, 401,993 नए केस दर्ज, 3,523 लोगों की मौत

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 19,164,969 हो गई है तथा इस महामारी से जान गंवाने वालों का आंकड़ा बढ़कर 211,853 हो गया है. विश्व में संक्रमण के 15.14 करोड़ से ज़्यादा मामले सामने आए हैं और 31.80 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है.

(फोटो: रॉयटर्स)

केवल सरकार विफल नहीं हुई हैं, हम मानवता के ख़िलाफ़ अपराधों के गवाह बन रहे हैं…

संकट पैदा करने वाली यह मशीन, जिसे हम अपनी सरकार कहते हैं, हमें इस तबाही से निकाल पाने के क़ाबिल नहीं है. ख़ाससकर इसलिए कि इस सरकार में एक आदमी अकेले फ़ैसले करता है, जो ख़तरनाक है- और बहुत समझदार नहीं है. स्थितियां बेशक संभलेंगी, लेकिन हम नहीं जानते कि उसे देखने के लिए हममें से कौन बचा रहेगा.

(फोटो: रॉयटर्स)

कोविड-19: देश में फ़िर एक दिन में सर्वाधिक 386,452 मामले आए, 3,498 लोगों की मौत

भारत में कोविड-19 संक्रमण के कुल 18,762,976 मामले सामने आ चुके हैं और अब तक 208,330 लोगों की जान जा चुकी है. विश्व में संक्रमण के मामले 15.05 करोड़ से ज़्यादा हो गए हैं और 31.66 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है. सर्वाधिक प्रभावित तीसरे देश ब्राज़ील में एक महीने में एक लाख लोगों की मौत हुई है. मरने वालों की संख्या के लिहाज़ से यह अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर है.

दिल्ली के शवदाह गृह में परिजन की मौत के बाद शोक संतप्त परिवार. (फोटो: रॉयटर्स)

कोविड-19: नए मामलों की संख्या पहली बार 3.75 लाख के पार, एक दिन में सर्वाधिक 3,645 लोगों की मौत

देश में बीते एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक के सर्वाधिक 379,257 मामले दर्ज किए गए, जिसके बाद कुल मामले 18,376,524 हो गए है. इसके अलावा इस महामारी की चपेट में आकर जाने गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 204,832 हो चुकी है. विश्व में संक्रमण के 14.96 करोड़ से ज़्यादा मामले दर्ज किए गए हैं और 31.51 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है.

(फोटो: पीटीआई)

कोविड-19 से हुईं मौतें आम मौत नहीं हत्याएं हैं, जिसकी ज़िम्मेदार मोदी सरकार है

अगर भाजपा सरकार को कोविड की दूसरी लहर के बारे में पता नहीं था, तब यह लाखों को इकट्ठा कर रैली कर रही थी, या संक्रमण के प्रकोप को जानते हुए भी यह रैली कर रही थी, दोनों ही सूरतें बड़ी सरकारी नाकामी की मिसाल हैं. पता नहीं था तो ये इस लायक नहीं है कि गद्दी पर रहें और अगर मालूम था तो ये इन हत्याओं के लिए सीधे ज़िम्मेदार हैं.