भारत

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के आवास पर ईडी की छापेमारी

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर को शनिवार को पूछताछ के लिए ईडी दफ्तर लाया गया है. उनके खिलाफ यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के संबंध में की गई है.

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर (फोटोः रॉयटर्स)

यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर (फोटोः रॉयटर्स)

मुंबई: नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के मुंबई स्थित आवास पर शुक्रवार रात को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने छापेमारी की. उन्हें शनिवार को पूछताछ के लिए ईडी दफ्तर लाया गया है.

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक, इससे पहले ईडी ने उनसे उनके घर पर ही पूछताछ की थी. राणा कपूर के खिलाफ यह कार्रवाई मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के संबंध में की गई है.

ईडी अधिकारियों का कहना है कि यह छापेमारी उनके मुंबई स्थित समुद्र महल आवास पर की जा रही है.

ईडी ने उनके व अन्य के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत मामला दर्ज किया है.

अधिकारियों का कहना है कि इस छापे की कार्रवाई का मकसद और साक्ष्यों को जुटाना है.

ईडी एक कॉरपोरेट कंपनी को बैंक द्वारा ऋण देने और इसके बदले में उनकी (राणा) पत्नी के बैंक खातों में रिश्वत लेने के संबंध में राणा की भूमिका की जांच कर रही है.

कपूर के खिलाफ दर्ज मामले का संबंध डीएचएफएल जांच से भी जुड़ा है.
बैंक से डीएचएफएल द्वारा लिया गया ऋण एनपीए करार दिया गया था. इसके अलावा कुछ अन्य अनियमितताएं भी ईडी की जांच के दायरे में है.

बता दें कि निजी क्षेत्र के यस बैंक की माली हालत खराब होने के चलते आरबीआई ने बैंक से पैसों की निकासी पर सीमा निर्धारित कर दी है.

यस बैंक के खाताधारक अब प्रति महीने बैंक से पचास हजार रुपये तक ही निकाल सकेंगे.

बैंक से रकम निकासी की शर्तें ये भी हैं कि अगर किसी ग्राहक के एक से अधिक अकाउंट हैं, तो भी वो सभी खातों को मिलाकर सिर्फ पचास हजार रुपये ही निकाल पाएगा.

ये पाबंदी पांच मार्च से शुरू हुई है जो तीन अप्रैल तक जारी रहेगी. इस दौरान बैंक के बोर्ड पर आरबीआई का का कब्जा रहेगा.

आरबीआई ने सरकार से विचार-विमर्श के बाद ये फैसला लिया है. लंबे समय से यस बैंक की माली हालत खराब है और बैंक पिछले काफी समय से फंड जुटाने की कोशिश कर रहा था.

खाताधारकों की चिंता को देखते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भरोसा दिया कि उनका पैसा पूरी तरह सुरक्षित है और जल्द ही ये संकट हल हो जाएगा.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यस बैंक के पुनर्गठन की योजना तैयार है. यस बैंक अपनी सारी जवाबदेहियां पूरी करेगा और सारी देनदारी निबटाएगा.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)