भारत

दिल्ली: कई महीनों से वेतन नहीं मिलने पर हिंदू राव अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों ने धरना दिया

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के तहत आने वाले हिंदू राव अस्पताल की नर्सों, लैब तकनीशियनों और पैरामेडिकल कर्मचारियों ने तीन महीने का वेतन नहीं मिलने पर धरना दिया. उन्होंने चेतावनी दी कि अगर अगले सप्ताह तक उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वे अपनी सेवाएं समाप्त कर देंगे.

हिंदू राव अस्पताल. (फोटो साभार: फेसबुक)

हिंदू राव अस्पताल. (फोटो साभार: फेसबुक)

नई दिल्ली: उत्तरी दिल्ली नगर निगम (नॉर्थ एमसीडी) के तहत आने वाले हिंदू राव अस्पताल की नर्सों, लैब तकनीशियनों और पैरामेडिकल कर्मचारियों ने जून सहित तीन महीने का वेतन नहीं मिलने पर बीते शुक्रवार को धरना दिया.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, शुक्रवार को कुछ घंटों के लिए काम न करके कर्मचारियों ने चेतावनी दी कि अगर अगले सप्ताह तक उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वे अपनी सेवाएं समाप्त कर देंगे.

इस मुद्दे पर नॉर्थ एमसीडी के मेयर जय प्रकाश सोमवार को एक संयुक्त बैठक करने वाले हैं.

पैरामेडिकल टेक्निकल स्टाफ वेलफेयर एसोसिएशन के उपाध्यक्ष तजेंदर सिंह ने कहा, ‘हम विपरित परिस्थितियों में भी विभाग के साथ सहयोग कर रहे हैं. अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए हमें पैसे की आवश्यकता है.’

उन्होंने कहा, ‘दिल्ली हाईकोर्ट के हस्तक्षेप के बाद नॉर्थ एमसीडी और दिल्ली सरकार ने रेजिडेंट्स डॉक्टरों की दो महीने का वेतन दे दिया, हालांकि नर्सों और पैरामेडिकल कर्मचारियों को अभी तक न तो वेतन मिला है और न ही कोई आश्वासन. यह मामला अदालत में ले जाने के लिए हमारे पास पैसे नहीं हैं.’

सिंह ने दावा किया कि शुक्रवार का धरना प्रशासन को सूचना देकर किया गया था. हालांकि भविष्य में ऐसा नहीं होगा. हम ऑपरेशन थियेटर, लैब, वार्ड और यहां तक की दवा केंद्रों पर भी पूरा सहयोग कर रहे हैं. हमारे बिना डॉक्टर काम नहीं कर पाएंगे.

नॉर्थ एमसीडी के मेयर जय प्रकाश ने कहा, ‘वे इस मामले पर सोमवार की बैठक में चर्चा करेंगे. हमारे पास सीमित फंड है और हमने पैरामेडिकल स्टाफ और वरिष्ठ डॉक्टरों का एक महीने का वेतन जारी कर दिया. अब हमें अन्य लोगों की जरूरतें देखनी हैं जिन्हें मार्च का वेतन नहीं मिला है.’

उन्होंने कहा, ‘हम फंड की व्यवस्था करने और संपत्ति कर से अधिक राजस्व जुटाने का प्रयास कर रहे हैं. कर चुकाने की आखिरी तारीख जल्द ही बढ़ने वाली है.’

बता दें कि हिंदू राव अस्पताल अब कोविड अस्पताल बन गया है और वहां शुक्रवार से काम शुरू होने वाला था, लेकिन धरने के कारण ऐसा नहीं हो सका.

बीते 14 जून को दिल्ली सरकार ने हिंदू राव अस्पताल को कोविड अस्पताल बनाने का फैसला किया था और नॉर्थ एमसीडी को आवश्यक इंतजाम करने के लिए कहा था.

मेयर ने कहा कि वे सोमवार को अस्पताल का दौरा करेंगे. उन्होंने कहा कि अस्पताल में पहले से ही कुछ संदिग्ध मामले हैं, लेकिन पहले चरण में बेड पर मरीजों की भर्ती शनिवार से होगी.

बता दें कि इसी महीने नॉर्थ एमसीडी के तहत आने वाले दो अस्पतालों- कस्तूरबा और हिंदू राव के 350 से अधिक रेजिडेंट डॉक्टरों ने तीन से चार महीने तक का वेतन न मिलने की बात कहते हुए सामूहिक इस्तीफा देने की धमकी दी थी.

इसके बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने नॉर्थ एमसीडी को उसके तहत आने वाले कस्तूरबा गांधी और हिंदू राव समेत छह अस्पतालों में रेजिडेंट डॉक्टरों को मार्च का वेतन 19 जून तक देने का शुक्रवार को निर्देश दिया था.