भारत

अयोध्या: भूमि पूजन से पहले राम जन्मभूमि से जुड़े पुजारी और चार पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित

राम मंदिर के प्रस्तावित भूमि पूजन से पहले रामलला मंदिर के एक पुजारी व जन्मभूमि स्थल पर तैनात चार पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. मंदिर के मुख्य पुजारी महंत सत्येंद्र दास का कहना है क्योंकि बाकी लोगों का टेस्ट नेगेटिव आया है, इसलिए इससे कार्यक्रम पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

अयोध्या में राम की पौड़ी पर आगामी भूमि पूजन कार्यक्रम से पहले सफाई करते कर्मचारी. (फोटो: पीटीआई)

अयोध्या में राम की पौड़ी पर आगामी भूमि पूजन कार्यक्रम से पहले सफाई करते कर्मचारी. (फोटो: पीटीआई)

अयोध्या में राम मंदिर के प्रस्तावित भूमि पूजन से हफ्ते भर पहले गुरुवार को राम जन्मभूमि स्थल के एक पुजारी व स्थल पर तैनात चार पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

मंदिर में मुख्य पुजारी के साथ कई पुजारी पूजा आदि करवाते हैं, संक्रमित पुजारी प्रदीप दास इन्हीं में से एक हैं.

ज्ञात हो कि आगामी 5 अगस्त को राम मंदिर में भूमि पूजन का कार्यक्रम प्रस्तावित है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई वरिष्ठ नेताओं सहित करीब 250 लोगों के आने की उम्मीद है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, बीते सप्ताह कार्यक्रम की तैयारियों का जायज़ा लेने पहुंचे मुख्यमंत्री आदित्यनाथ प्रदीप दास के संपर्क में आए थे.

इसके अलावा अयोध्या में तैनात दस और कॉन्सटेबल भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. हालांकि यहां की जिम्मेदारी संभाल रहे लोगों का कहना है कि इससे 5 अगस्त के कार्यक्रम पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

वहीं संक्रमित पुजारी और पुलिसकर्मियों का आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जाएगा. प्रदीप दास रामलला मंदिर के मुख्य पुजारी महंत सत्येंद्र दास के सहयोगी हैं. सत्येंद्र दास कोरोना नेगेटिव पाए गए हैं.

उन्होंने बताया कि प्रदीप दास को खांसी और जुकाम जैसे हल्के लक्षण हैं और उन्हें आइसोलेट करने को कहा गया है.

सत्येंद्र दास ने आगे कहा, ‘रामलला मंदिर के हम आठ लोगों का टेस्ट हो चुका है, हम संक्रमित नहीं हैं. क्योंकि हम में से केवल एक ही व्यक्ति संक्रमित है, इससे पांच अगस्त के कार्यक्रम पर कोई असर नहीं पड़ेगा.’

सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘यह 70 एकड़ की जगह है. कार्यक्रम का पंडाल ही करीब पांच एकड़ में लग रहा है. अगर मेहमान 200 के अंदर रहते हैं, तो सोशल डिस्टेंसिंग रखने में कोई मुश्किल नहीं आयेगी. मीडिया के लिए भी एक जगह तय की जा चुकी है.’

उन्होंने आगे कहा कि उनका उद्देश्य आमंत्रित न किए गए लोगों को अयोध्या आने और आयोजन स्थल के पास जमा होने से रोकना है.

अयोध्या के डीआईजी ने बताया कि अब तक जिले में 14 पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, जिनमें से चार रामजन्मभूमि के क्षेत्र में तैनात थे.

उत्तर प्रदेश में अब तक कोरोना के 77 हजार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं, वहीं 1,530 जानें जा चुकी हैं. अयोध्या में अब तक संक्रमण के 556 मामले सामने आये हैं और छह लोगों की मौत हो चुकी है.

केंद्र सरकार की ओर से एक अगस्त से 31 अगस्त तक अनलॉक-3 के दिशा-निर्देश लागू किए गए हैं, जिनके तहत रात के कर्फ्यू को हटा दिया गया है, लेकिन सामाजिक, राजनीतिक, खेलकूद, मनोरंजन, अकादमिक, सांस्कृतिक, धार्मिक कार्यक्रमों और अन्य सामूहिक समारोहों पर रोक जारी रखी गई है.