भारत

कोरोना संक्रमण के बाद अस्पताल में भर्ती शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से निधन

डॉक्टरों का कहना है कि मशहूर शायर राहत इंदौरी के फेफड़े 70 फीसदी तक ख़राब हो गए थे. उन्हें हाइपरटेंशन और मधुमेह की भी समस्या थी.

राहत इंदौरी. (फोटो साभार: फेसबुक)

राहत इंदौरी. (फोटो साभार: फेसबुक)

इंदौरः मशहूर शायर और गीतकार राहत इंदौरी का मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. उन्हें कोरोना संक्रमित होने के बाद सोमवार को मध्य प्रदेश के इंदौर शहर स्थित अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

राहत इंदौरी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से उनके निधन की जानकारी दी गई है.

ट्वीट में कहा गया, ‘राहत साहब का कार्डियक अरेस्ट की वजह से आज शाम पांच बजे इंतकाल हो गया. उनकी मगफिरत के लिए दुआ कीजिए.’

डॉक्टरों का कहना है कि उनके फेफड़े 70 फीसदी तक खराब हो गए थे. उन्हें हाइपरटेंशन और मधुमेह की भी समस्या थी.

अरबिंदो अस्पताल के डॉक्टर विनोद भंडारी ने बताया, ‘अस्पताल में भर्ती होने के बाद राहत इंदौरी को मंगलवार को दो बार दिल का दौरा पड़ा था और हम उन्हें बचा नहीं सके. कोरोना संक्रमित होने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें 60 फीसदी निमोनिया था.’

उनका इलाज अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) में चल रहा था.

सैम्स के छाती रोग विभाग के प्रमुख डॉ. रवि डोसी ने बताया, ‘इंदौरी के दोनों फेफड़ों में निमोनिया था और उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था. सांस लेने में तकलीफ के चलते उन्हें आईसीयू में रखा गया था और ऑक्सीजन दी जा रही थी लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद हम उनकी जान नहीं बचा सके.’

इंदौरी के बेटे और युवा शायर सतलज राहत ने अपने पिता के निधन से पहले सुबह मंगलवार बताया था, ‘कोविड-19 के प्रकोप के कारण मेरे पिता पिछले साढ़े चार महीनों से घर में ही थे. वह केवल अपनी नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए घर से बाहर निकल रहे थे.’

उन्होंने बताया था, ‘उनको (राहत इंदौरी) पिछले पांच दिन से बेचैनी महसूस हो रही थी और डॉक्टरों की सलाह पर जब उनके फेफड़ों का एक्स-रे कराया गया तो इनमें निमोनिया की पुष्टि हुई थी. बाद में जांच में वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे.’

बता दें कि इससे पहले मंगलवार सुबह राहत इंदौरी ने खुद ट्वीट कर कोरोना संक्रमित होने की जानकारी साझा की थी.

उन्होंने ट्वीट कर कहा था, ‘कोविड के शुरुआती लक्षण दिखाई देने पर कल (सोमवार) मेरा कोरोना टेस्ट किया गया, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. अरबिंदो अस्पताल में भर्ती हूं. दुआ कीजिए जल्द से जल्द इस बीमारी को हरा दूं. एक और इल्तेजा है, मुझे या घर के लोगों को फोन न करें. मेरी खैरियत ट्विटर और फेसबुक पर आपको मिलती रहेगी.’

राहत इंदौरी का जन्म एक जनवरी 1950 को हुआ था.

शायरी की दुनिया में कदम रखने से पहले राहत इंदौरी एक चित्रकार और उर्दू के प्रोफेसर थे. उन्होंने हिंदी फिल्मों के लिए गीत भी लिखे थे और दुनिया भर के मंचों पर काव्य पाठ किया था.

देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर उनके निधन पर शोक जताया है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘मकबूल शायर राहत इंदौरी जी के गुजर जाने की खबर से मुझे काफी दुख हुआ. उर्दू अदब की वे कद्दावर शख्सियत थे. अपनी यादगार शायरी से उन्होंने एक अमिट छाप लोगों के दिलों पर छोड़ी है. आज साहित्य जगत को बड़ा नुकसान हुआ. दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके चाहने वालों के साथ हैं.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने भी ट्वीट कर उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा, ‘मशहूर शायर राहत इंदौरी साहब के निधन की खबर जानकर बेहद दुख हुआ. आज देश ने एक महान शख़्सियत को खो दिया. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति दें.’

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर राहत इंदौरी के निधन पर शोक व्यक्त किया. उन्होंने कहा है, ‘राहत जी आप यूं हमें छोड़कर जाएंगे, सोचा न था. आप जिस दुनिया में भी हों, महफूज रहें, सफर जारी रहे.’