नॉर्थ ईस्ट

उग्रवादियों ने अगर नियम तोड़े तो समझौता तोड़ सकती है मणिपुर सरकार: मुख्यमंत्री

भारत-म्यांमार सीमा पर स्थित मोरेह शहर में रविवार को एक लड़की की हत्या के बाद मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने दिया बयान.

N Biren Singh PTI

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह. (फोटो: पीटीआई)

इम्फाल: मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने कहा है कि अगर उग्रवादियों ने केंद्र, मणिपुर और उग्रवादी संगठनों के बीच हुए एसओओ (सस्पेंशन आॅफ आॅपरेशन) समझौते के बुनियादी सिद्धांतों का उल्लंघन किया तो मणिपुर सरकार इस समझौते से हट जाएगी.

विधानसभा में विपक्ष के एक विधायक ने भारत-म्यांमार सीमा पर स्थित मोरेह शहर में रविवार को एक लड़की की हत्या के सिलसिले में मुख्यमंत्री से बयान देने का अनुरोध किया था, जिसके बाद बीरेन सिंह का यह बयान सामने आया.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार को एक रिपोर्ट मिली है कि कुकी नेशनल आर्मी (केएनए) से संबद्ध एक उग्रवादी ने स्कूली छात्रा की उसके घर में कथित रूप से हत्या कर दी थी.

मुख्यमंत्री ने बताया कि मामले के संबंध में कार्रवाई को लेकर केंद्र को सूचित कर दिया गया है.

केंद्र, मणिपुर सरकार और दो कुकी उग्रवादी संगठनों- कुकी नेशनल ऑर्गेनाइजेशन और यूनाइटेड पीपल्स फ्रंट के बीच एसओओ पर हस्ताक्षर किया गया था. वर्ष 2008 में पहली बार संधि पर हस्ताक्षर हुआ था और समय-समय पर इसको विस्तार दिया जाता रहा. कुकी नेशनल आर्मी इन्हीं दोनों संगठनों में से एक के तहत काम करने वाला संगठन है.

दो महीने पहले मणिपुर के मुख्यमंत्री ने कहा था कि एसओओ विफल है, क्योंकि सुरक्षा बल इसे लेकर गंभीर नहीं हैं तथा उन्होंने उग्रवादियों द्वारा एसओओ के लगातार उल्लंघन पर चिंता भी जताई थी.

23 जुलाई को किशोरी की हत्या की गई थी. इसके विरोध में प्रदर्शन करते हुए कुकी छात्र संगठन ने बंद की घोषणा की थी. इससे उससे सीमावर्ती कस्बे में व्यापार बाधित रहा.