राजनीति

बिहार में रैली के दौरान राजद पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, लालटेन के जमाना गईल

बिहार विधानसभा चुनाव राउंडअप: राहुल गांधी ने बिहार में हुई चुनावी रैली में कृषि संबंधी तीन क़ानून, जीएसटी, प्रवासी मज़दूरों का पलायन और नोटबंदी जैसे मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाए. तेजस्वी यादव ने दावा किया कि नौ नवंबर को लालू जी की रिहाई हो रही है और 10 तारीख़ को नीतीश जी की विदाई होगी.

बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो साभार: ट्विटर)

बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो साभार: ट्विटर)

डेहरी ऑन सोन/गया/भागलपुर/नवादा: बिहार विधानसभा के पहले चरण के चुनाव में अब मुश्किल से एक हफ्ते का समय रह गया है. शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी की जनसभाएं राज्य में हुईं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान राष्ट्रीय जनता दल सहित विपक्ष पर तीखा प्रहार करते हुए आरोप लगाया कि बिहार के विकास की हर योजना को ‘अटकाने और लटकाने’ वाले इन दलों ने अपने 15 साल के शासन में राज्य को ‘लगातार लूटा और सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बनाया.’

साथ ही प्रधानमंत्री ने दावा किया कि बिहार की जनता भ्रम में नहीं है और उसने आत्मनिर्भरता के लिए नीतीश कुमार के नेतृत्व में राजग सरकार बनाने का मन बना लिया है.

मोदी ने कहा, ‘बिहार के लोगों ने मन बना लिया है, ठान लिया है कि जिनका इतिहास बिहार को बीमारू बनाने का है, उन्हें आसपास भी नहीं फटकने देंगे.’

प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि जब बिहार के लोगों ने इन्हें (विपक्ष को) सत्ता से बेदखल कर दिया और नीतीश कुमार को मौका दिया तो ये बौखला गए और इसके बाद 10 साल तक इन लोगों ने संप्रग की सरकार में रहते हुए बिहार पर और बिहार के लोगों पर अपना गुस्सा निकाला.

डेहरी आन सोन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे.

मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि इन नेताओं को आपकी जरूरतों से कभी सरोकार नहीं रहा. ‘इनका ध्यान अपने स्वार्थों पर, अपनी तिजोरी पर रहा है.’

उन्होंने कहा कि यही कारण है कि भोजपुर सहित पूरे बिहार में लंबे समय तक बिजली, सड़क, पानी जैसी मूल सुविधाओं का विकास नहीं हो पाया.

विपक्षी महागठबंधन पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ‘जो लोग नक्सलियों को, हिंसक गतिविधियों को खुली छूट देते रहे, आज वे राजग के विरोध में खड़े हैं.’

मोदी ने कहा, ‘आज राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सभी दल मिलकर आत्मनिर्भर, आत्मविश्वासी बिहार के निर्माण में जुटे हैं. बिहार को अभी भी विकास के सफर में मीलों आगे जाना है. नयी बुलंदी की तरफ उड़ान भरनी है.’

मोदी ने अपने संबोधन के दौरान बिहार के लोगों को राजद नीत पूर्ववर्ती बिहार सरकार के शासनकाल के दौरान कानून एवं व्यवस्था की खराब स्थिति को याद दिलाया.

प्रधानमंत्री ने कहा कि बिहार के लोग भूल नहीं सकते वो दिन जब सूरज ढलते का मतलब होता था, सब कुछ बंद हो जाना, ठप पड़ जाना. उन्होंने कहा कि वो दिन जब सरकार चलाने वालों की निगरानी में दिन-दहाड़े डकैती होती थी, हत्याएं होती थीं, रंगदारी वसूली जाती थी.

राजद पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ये वो दौर था जब लोग कोई गाड़ी नहीं खरीदते थे, ताकि एक राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ताओं को उनकी कमाई का पता न चल जाए.

उन्होंने कहा कि वो दौर था जब एक शहर से दूसरे शहर में जाते वक्त ये पक्का नहीं रहता था कि उसी शहर पहुंचेंगे या बीच में अपहृत हो जाएंगे.

उन्होंने स्थानीय भाषा (भोजपुरी) में कहा, ‘बिहार अब विकास के ओर तेजी से बढ़त बा. अब बिहार के कोई बीमारू, बेबस राज्य नाही कह सकत. लालटेन के जमाना गईल. पिछले छह सालन में बिजली के खपत तीन गुना बढ़ गईल बाटे.’

मोदी ने कहा कि आज बिजली है, सड़कें हैं, लाइटें हैं और सबसे बड़ी बात वो माहौल है जिसमें राज्य का सामान्य नागरिक बिना डरे रह सकता है, जी सकता है और अंधेरे से उजाले की ओर बढ़ना इसी को कहते हैं.

तेजस्वी यादव के 10 लाख नौकरियों के वादें पर सवाल उठाते हुए मोदी ने कहा कि जिन लोगों ने एक-एक सरकारी नौकरी को हमेशा लाखों-करोड़ों रुपये कमाने का जरिया माना, वो फिर बढ़ते हुए बिहार को ललचाई नजरों से देख रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘बिहार के नौजवानों को ये याद रखना है कि बिहार को इतनी मुश्किलों में डालने वाले कौन थे?’

मोदी ने कहा, ‘बिहार विकास का हकदार है. विकास कौन सुनिश्चित करेगा? वो जिन्होंने केवल अपने परिवार का विकास किया या वो जो लोगों की सेवा में अपना परिवार भी भूल गए.’

राजग की पूर्ववर्ती प्रदेश सरकार पर प्रहार जारी रखते हुए मोदी ने लोगों को याद दिलाया कि ये वो दौर था जब बिजली संपन्न परिवारों के घर में होती थी, गरीब का घर दीये और ढिबरी के भरोसे रहता था.

उन्होंने कहा, ‘आज के बिहार में लालटेन की जरूरत खत्म हो गई है. आज बिहार के हर गरीब के घर में बिजली का कनेक्शन है, उजाला है.’

राहुल का पीएम से सवाल- चीनी सैनिकों को हिंदुस्तान की ज़मीन से कब भगाया जाएगा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शुक्रवार को सवाल किया कि हिंदुस्तान की जमीन से चीनी सैनिकों को कब भगाया जाएगा.

साथ ही कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि किसी चीनी सैनिक के हिंदुस्तान की जमीन पर मौजूद होने की बात कहकर प्रधानमंत्री ने हमारे सैनिकों का ‘अपमान’ किया है.

राहुल गांधी ने बिहार के नवादा और कहलगांव में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए, हाल ही में बनाए गए कृषि संबंधी तीन कानून, जीएसटी, लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों का पलायन और नोटबंदी सहित विभिन्न मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कटघरे में खड़ा करने का प्रयास किया.

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता तेजस्वी यादव के साथ नवादा की रैली को संबोधित कर रहे राहुल ने बिहार में बेरोजगारी का मुद्दा भी उठाया.

इस मुद्दे पर केंद्र और बिहार की राजग सरकार को घेरते हुए राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नोटबंदी, जीएसटी और कोरोना वायरस संकट के समय लोगों की आर्थिक मदद नहीं कर किसानों, छोटे कारोबारियों, मजदूरों, छोटे उद्यमियों की कमर तोड़ दी है.

राहुल गांधी ने लोगों से पूछा, ‘नीतीश जी की सरकार कैसी लगी आप लोगों को? मोदी जी के भाषण कैसे लगे?’

उन्होंने दावा किया कि चीन ने हिंदुस्तान की 1200 वर्ग किलोमीटर जमीन अपने कब्जे में ले रखी है.

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को घेरने का प्रयास करते हुए आरोप लगाया,‘चीन की सेना हिंदुस्तान की सीमा के अंदर है. सवाल ये है कि जब चीनी सैनिक हमारी जमीन के अंदर आए, तो हमारे प्रधानमंत्री ने हमारे वीरों का अपमान करते हुए यह क्यों बोला कि हिंदुस्तान के अंदर कोई नहीं आया?’

उन्होंने प्रधानमंत्री से सवाल किया, ‘बताएं कि चीन के सैनिकों को हिंदुस्तान की धरती से कब भगाया जाउगा? सवाल यह है कि हमारे पवित्र देश के भीतर चीन की सेना क्यों?’

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में पहली चुनावी रैली में, गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुए संघर्ष का जिक्र करते हुए कहा था, ‘भारत का स्वाभिमान है बिहार और बिहार के जवानों ने गलवान घाटी और पुलवामा में बलिदान दिया लेकिन भारत माता का शीश नहीं झुकने दिया, हम उनको श्रद्धांजलि देते हैं.’

राहुल ने लोगों से पूछा, ‘नोटबंदी का क्या फायदा हुआ?’

उन्होंने आरोप लगाया कि गरीब का पैसा हिंदुस्तान के अमीरों के खाते में गया और अंबानी और अडाणी के लिए नरेंद्र मोदी रास्ता साफ कर रहे हैं.

राहुल गांधी ने कहा ‘प्रधानमंत्री ने पिछले चुनाव में कहा था कि दो करोड़ लोगों को नौकरियां देंगे, क्या नौकरियां मिलीं? किसी को नहीं मिली. जीरो.’

कांग्रेस नेता ने कहा कि नरेंद्र मोदी सैनिकों, किसानों, मजदूरों, छोटे व्यापरियों आदि के सामने सिर झुकाने की बात करते हैं, लेकिन काम तो वह अंबानी और अडाणी का करते हैं.

कांग्रेस के शासन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘हमारी सरकार ने 70 हजार करोड़ रुपये का किसानों का कर्ज माफ किया और जब सरकार बनी तब मध्य प्रदेश, पंजाब, छत्तीसगढ़ में भी कर्ज माफ किया है.’

उन्होंने आरोप लगाया कि आने वाले समय में आपका पूरा का पूरा धन हिंदुस्तान के दो-तीन पूंजीपतियों के हाथ में चला जाएगा.

हाल ही में बनाए गए कृषि संबंधी तीन कानूनों का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि मंडियां खत्म की जा रही हैं, न्यूनतम समर्थन मूल्य समाप्त किए जा रहे हैं और आने वाले दिनों में आपके खेत भी छीन लिए जाएंगे.

उन्होंने आरोप लगाया कि इससे लाखों लोग बेरोजगार होंगे.

प्रवासी मजदूरों के पलायन का मसला उठाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदद नहीं की और यही सच्चाई है.

कोरोना वायरस संकट पर राहुल गांधी ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी जी ने कहा था कि 22 दिन में कोरोना की लड़ाई जीती जाएगी, लेकिन जब बिहार के मज़दूरों को दिल्ली से और बाकी प्रदेशों से भगा कर बिहार भेजा गया, वे जब भूखे प्यासे पैदल आ रहे थे, तो मोदी जी क्या कह रहे थे?’

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘बिहार के लिए, बिहार के विकास की सरकार, बिहार के किसानों की, मज़दूरों की सरकार, अब बिहार में लानी है और राजग को हराना है.’

राहुल गांधी ने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी को टीवी पर 24 घंटे दिखाया जाता है लेकिन उनको और तेजस्वी यादव सहित विपक्ष को नहीं दिखाया जाता है.

गौरतलब है कि नवादा के हिसुआ सीट से कांग्रेस उम्मीदवार नीतू सिंह का मुकाबला भाजपा के वर्तमान विधायक अनिल सिंह से है.

नीतीश 15 साल से मुख्यमंत्री, लेकिन भ्रष्टाचार दूर नहीं हुआ: तेजस्वी

राजद नेता तेजस्वी यादव ने बिहार में विकास एवं रोजगार का वादा दोहराते हुए शुक्रवार को दावा किया कि 15 साल से राज्य में नीतीश कुमार मुख्यमंत्री रहे और डबल इंजन की सरकार है, लेकिन थाने और ब्लॉक में बिना भ्रष्टाचार के कोई काम नहीं होता है.

तेजस्वी यादव. (फोटो साभार: ट्विटर)

तेजस्वी यादव. (फोटो साभार: ट्विटर)

तेजस्वी ने नवादा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल में जब बिहार के लोग परेशान हो रहे थे तब नीतीश कुमार 144 दिन तक अपने घर में रहे.

नीतीश पर निशाना साधते हुए राजद नेता ने कहा, ‘लेकिन अब वह अपने घर से बाहर हैं, क्यों? तब भी कोरोना था और अब भी कोरोना है. लेकिन अब उन्हें वोट चाहिए तो वे घर से बाहर निकल चुके हैं.’

तेजस्वी ने कहा, ‘नौ नवंबर को लालू जी की रिहाई हो रही है. एक मामले में जमानत पहले हो गई है. एक आखिरी मामले में भी नौ नवंबर को (जमानत) मिल जाएगी. उसी दिन मेरा जन्मदिन भी है और 10 तारीख को नीतीश जी की विदाई होगी.’

उन्होंने स्थानीय भाषा में लोगों से पूछा कि 15 साल से डबल इंजन की सरकार है लेकिन क्या ब्लॉक या जिला में कोई काम बिना चढ़ावा दिए होता है?

तेजस्वी ने सभा में मौजूद लोगों से पूछा, ‘क्या 15 साल में नीतीश जी ने आपको रोजगार दिया, पलायन रोका? उन्होंने राज्य में कितने उद्योग धंधे लगवाए?’

उन्होंने कहा, ‘नीतीश जी कहते हैं कि बिहार समंदर के किनारे नहीं है इसलिए यहां उद्योग नहीं लग सकता. लेकिन मैं पूछना चाहता हूं कि लालू जी ने रेल मंत्री रहते हुए प्रदेश में रेल कारखाना लगवाए या नहीं लगवाए?’

तेजस्वी ने 10 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा दोहराते हुए कहा ‘वे हमसे पूछते हैं कि पैसा कहां से आएगा?’

महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी ने कहा, ‘बिहार सरकार का बजट 2.13 लाख करोड़ रुपये का है और नीतीश कुमार 60 प्रतिशत राशि ही खर्च कर पाते हैं. बजट का 40 फीसदी पैसा खर्च नहीं हो पाता और इस प्रकार से 80 हजार करोड़ रुपये बचा रह जाता है. फिर भी वे हमसे पूछते हैं कि पैसा कहां से आएगा?’

उन्होंने युवाओं से कहा कि अगर राज्य में उनकी सरकार बनी तो उन्हें फॉर्म भरने की फीस और परीक्षा केंद्रों तक जाने का किराया भी दिया जाएगा. तेजस्वी ने कहा कि उनकी सरकार सभी वर्गों और जाति के लोगों को साथ लेकर चलेगी.

नीतीश ने ऐश्वर्या से हुए अनुचित व्यवहार का मुद्दा उठाकर फिर साधा लालू परिवार पर निशाना

पारू/हसनपुर: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू परिवार पर निशाना साधते हुए बीते बृहस्पतिवार को सवाल किया कि कुछ लोग जाति और बिरादरी को लेकर बड़े-बड़े दावे करते हैं, लेकिन उस बिरादरी से पहले मुख्यमंत्री दारोगा राय की पौत्री के साथ क्या हुआ?

बिहार में एक चुनावी सभा के दौरान नीतीश कुमार. (फोटो साभार: ट्विटर)

बिहार में एक चुनावी सभा के दौरान नीतीश कुमार. (फोटो साभार: ट्विटर)

हसनपुर में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा, ‘कुछ लोग जाति, बिरादरी की बात करते हैं. बिरादरी के बारे में बड़ा दावा करते हैं, लेकिन जिस बिरादरी की बात करते हैं, उससे पहले मुख्यमंत्री दारोगा राय थे.’

उन्होंने सवाल किया, ‘दारोगा राय की पोती के साथ क्या हुआ?’ कुमार ने कहा कि आज वही लोग आपसे वोट मांगने आए हैं. आप लोगों को समझ लेना चाहिए.

गौरतलब है कि कुमार ने एक दिन पहले भी परसा में एक जनसभा में लालू प्रसाद की पतोहू के साथ हुई ‘नाइंसाफी’ का मुद्दा उठाया था.

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दारोगा राय की पौत्री ऐश्वर्या राय का विवाह लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के साथ हुआ था. दोनों के रिश्ते आगे नहीं बढ़ पाए और फिलहाल यह मामला अदालत में है.

इस घटना के कारण दोनों परिवारों के बीच खराब हुए संबंधों के बाद दारोगा राय के पुत्र चंद्रिका राय ने नीतीश कुमार की पार्टी जदयू का दामन थाम लिया था. तेज प्रताप यादव अभी हसनपुर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं.

बिहार के मुख्यमंत्री ने राजद पर निशाना साधते हुए कहा, ‘किसके विकास की बात करते हैं वे लोग. उनके लिए पति-पत्नी, बेटा-बेटी ही परिवार है, हमारे लिए पूरा बिहार परिवार है.’

कुमार ने कहा कि जब उन लोगों को 15 साल मौका मिला तब कोई काम नहीं किया, तो अब क्या काम करेंगे? उन्होंने लोगों से सवाल किया कि क्या बच्चों को आगे बढ़ाना ही विकास है?

पारू में एक जनसभा को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद पर निशाना साधते हुए कहा, ‘15 साल मौका मिला लेकिन उन्होंने महिलाओं के लिए क्या किया? अंदर (जेल) चले गए, तब अपनी पत्नी को गद्दी पर बैठा दिया. इसके अलावा बताएं कि महिलाओं के लिए क्या किया?’

कुमार ने कहा कि बिहार तरक्की के रास्ते पर है लेकिन कुछ लोगों को न काम करने का अनुभव है और न ही जानकारी है.

उन्होंने कहा, ‘पहले काम करने का मौका मिला, तब कुछ किया नहीं और अब बातें कर रहे हैं.’

तेजस्वी यादव के 10 लाख नौकरी देने के वादे पर तंज करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कोई कह देता है कि एक दिन में इतना नौकरी दे देंगे. इससे बड़े मजाक की बात और क्या हो सकती है.’

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने तो छह लाख से अधिक लोगों को नौकरियां दीं और काफी संख्या में लोगों को काम का अवसर दिया.

गौरतलब है कि राजद नेता तेजस्वी यादव अपनी सभी रैलियों में रोजगार और विकास का मुद्दा उठा रहे हैं. तेजस्वी कहते हैं कि उनकी सरकार बनी, तो कैबिनेट की पहली बैठक में ही युवाओं को 10 लाख रोजगार देने पर मुहर लगेगी.

राजग बिहार में दो-तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रहा है: राजनाथ

सासाराम/नबीनगर: रक्षा मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के दो तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाने का भरोसा जताते हुए बीते बृहस्पतिवार को कहा कि गठबंधन ने राज्य में 15 सालों के शासन में अपने लगभग सभी वादों को पूरा किया है.

बीते बृहस्पतिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बिहार की तीन चुनावी जनसभाओं (बाढ़, नोखा, नबीनगर) को संबोधित किया. (फोटो साभार: ट्विटर)

बीते बृहस्पतिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बिहार की तीन चुनावी जनसभाओं (बाढ़, नोखा, नबीनगर) को संबोधित किया. (फोटो साभार: ट्विटर)

बिहार के बाढ़ (पटना के पास), नोखा (रोहतास), नबीनगर (औरंगाबाद) में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रत्येक घर में बिजली पहुंचने के साथ ‘लालटेन का युग’ समाप्त हो गया है.

लालटेन राजद का चुनाव चिह्न है. बिहार में राजग के तहत भाजपा, जदयू, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) और विकासशील इंसान पार्टी के प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं.

किसानों के कल्याण के कार्यों का जिक्र करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा, ‘केंद्र सरकार ने हाल ही में तीन कृषि विधेयक पारित किए हैं और इससे किसानों की आमदनी बढ़ेगी. किसान सम्मान निधि के अंतर्गत देश के हर किसान को छह हजार रुपये वार्षिक सहायता के रूप में दिए जा रहे हैं. अब केंद्र की योजनाओं का पैसा सीधे जनता के पास जा रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘किसान का बेटा होने के नाते आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) जारी रहेगा.’

उन्होंने कहा, ‘15 सालों के शासन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने अधिकांश वादों को पूरा किया है. राजग की सरकार ही बिहार की जनता के लिए सर्वोत्तम विकल्प है. राजग फिर दो तिहाई बहुमत के साथ राज्य में सरकार बनाने जा रहा है.’

बिहार विधान सभा में 243 सीटें हैं.

सिंह ने कहा, ‘हमारे प्रधानमंत्री जी का सीना 56 इंच का है और जोखिम उठाने की क्षमता है. आतंकवाद के खिलाफ पुरज़ोर लड़ाई चल रही है और आतंकवाद का सफ़ाया होकर रहेगा. हम जो वादा करते हैं, उसे पूरा करते हैं. हमने धारा 370 हटा दी और भव्‍य राम मंदिर का निर्माण जारी है.’

सासाराम के नसरीगंज उच्चतर माध्यमिक विद्यालय परिसर में आयोजित रैली में राजनाथ सिंह ने कहा, ‘बिहार के लोगों को लगता था कि उन्हें कभी बिजली नहीं मिलेगी, लेकिन नीतीश जी बिजली लाए और लालटेन युग का अंत किया.’

उन्होंने कहा, ‘लालटेन टूट चुकी है और इसका तेल जमीन पर फैल चुका है. पंजा (कांग्रेस का चुनाव चिह्न) भी विफल हो चुका है और उनका खेल खत्म हो गया है.’

उन्होंने कहा कि पिछले 15 सालों में बिहार में बड़े पैमाने पर बदलाव आया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)